Monday, 24 December 2018

क्षण बह चला

क्षण!
क्षणिक था!
कण था,
इस दरिया संग,
बह चला!

मलय,
समीरन,
इक
झौंका था!
कब आया?
जाने कब गया?
हरियल,
नादान था,
चंचल पंछी था,
जमीं पर
कब उतरा!
ठहरा,
कुछ पल,
रुका!
कब, उड़ चला!

क्षण!
क्षणिक था!
कण था,
इस दरिया संग,
बह चला!

तरसते,
सूखे से पत्ते,
सूखी,
डाली सी काया,
फिर
शिशिर आया,
रस लाया,
लाया, क्या लाया?
प्रतीक्षा के क्षण,
रहे विफल,
प्राण
गँवाया
जीवन से त्राण
कहाँ पाया,
मंद
समीर संग,
बस, उड़ चला!

क्षण!
क्षणिक था!
कण था,
इस दरिया संग,
बह चला!

वो आए,
मन को भरमाए,
चले गये!
मन के रिश्ते,
नाते,
सब तोड़ गये,
अबाध,
अनकट सूनापन,
सूना क्षण,
इक आह विरल,
छोड़ गये,
इस रिक्तता के,
प्रवाह संग,
साँसों में,
उनके ही,
अनुराग संग,
निष्ठुर सा,
समय,
बस, बह चला!

क्षण!
क्षणिक था!
कण था,
इस दरिया संग,
बह चला!

Friday, 21 December 2018

दृष्टि-पथ

इस दृष्टि-पथ से, तुम हुए थे जब ओझल...

धूमिल सी हो चली थी संध्या,
थम गई थी, पागल झंझा,
शिथिल हो, झरने लगे थे रज कण,
शांत हो चले थे चंचल बादल....

इस दृष्टि-पथ से, तुम हुए थे जब ओझल...

सिमट चुकी थी रश्मि किरणें,
हत प्रभ थे, चुप थे विहग,
दिशाएं, हठात कर उठी थी किलोल,
दुष्कर प्रहर, थी बड़ी बोझिल....

इस दृष्टि-पथ से, तुम हुए थे जब ओझल...

खामोश हुई थी रजनीगन्धा,
चुप-चुप रही रातरानी,
खुशबु चुप थी, पुष्प थे गंध-विहीन,
करते गुहार, फैलाए आँचल....

इस दृष्टि-पथ से, तुम हुए थे जब ओझल...

बना रहा, इक मैं आशावान,
क्षणिक था वो प्रयाण,
किंचित फिर विहान, होना था कल,
यूँ ही तुम, लौट आओगे चल...

इस दृष्टि-पथ से, तुम हुए थे जब ओझल...

Thursday, 20 December 2018

ढूंढ लें खुद को

कब तलक, बिसार दें खुद को!
चल कहीं, अमराइयों में ढूंढ लें खुद को....

मैं! न जाने मुझमें हूँ कहाँ?
इस भीड़ में, अस्तित्व मेरा है कहाँ?
तड़प है, घुटन है हर तरफ यहाँ,
इशारे, कर रही है रानाईयाँ,
चल कहीं, रानाईयों में ढूंढ लें खुद को....

कलियाँ, चटकती है जहाँ!
खुश्बु, हवाओं में बिखरती है जहाँ!
प्रशस्त साँसें, खुलती हैं जहाँ!
फैलाती हों दामन वादियां,
चल कहीं, वादियों में ढूंढ लें खुद को....

छू लेगी तन, जब मीठी पवन,
गुद-गुदाएगी तन, हलकी सी छुअन,
मिल लूंगा तब, मैैं खुद से वहाँ,
बातें चंद कर लेंगी तन्हाईयाँ,
चल कहीं, तन्हाईयों में ढूंढ लें खुद को....

मैं कहूँ! खुद की सुन सकूँ!
मन की अपने, कही कुछ पढ़ सकूँ,
लिख सकूँ, कर सकूँ कुछ बयाँ,
मैं भी खिला लूँ अमराइयाँ,
चल कहीं, अमराइयों में ढूंढ लें खुद को....

झूठ ही, कब तलक बिसार दें खुद को....

Tuesday, 18 December 2018

अभिलाषा

अलसाई सी पलकों में, उम्मीदें कई लिए,
यूँ देखता है रोज, आईना मुझे....

अभिलाषा की, इक नई सूची लिए,
रोज ही जगती है सुबह,
आशाएँ, चल पड़ती हैं इक उम्मीद लिए...

अभिलाषाओं की, इस बिसात पर,
चाल चलती है जिन्दगी,
उम्मीदें, भटकाती हैं अजनबी राहों पर....

निकल पड़ते हैं, घौसलों से विहग,
धुंधलाए से आकाश में,
समयबद्ध, प्रवाह में डोलते हुए डगमग....

थक हार, फिर लौट आती है सांझ,
गिनता है रातों के तारे,
बांझ होती हुई, उम्मीदों की टोकरी लिए...

छद्म आत्म-विभोर कराते आकाश,
सीमाविहीन सी शून्यता,
गहराती सी, रिक्तता का देती है आभास....

यथार्थ के इस अन्तिम से छोर पर,
आईने व चेहरों के बीच,
अभिलाषाएँ, हावी हैं फिर से उम्मीद पर...

खामोश चेहरा लिए, बोलता हैं आईना,
यूँ टोकता है रोज, आईना मुझे.....

Friday, 14 December 2018

खामोश तेरी बातें

खामोश तेरी बातें,
हैं हर जड़ संवाद से परे ...

संख्यातीत,
इन क्षणों में मेरे,
सुवासित है,
उन्मादित साँसों के घेरे,
ये खामोश लब,
बरबस कुछ कह जाते,
नवीन बातें,
हर जड़ विषाद से परे!

खामोश तेरी बातें,
हैं हर जड़ संवाद से परे ...

उल्लासित,
इन दो नैनों में मेरे,
अहसास तेरा,
है तेरे अस्तित्व से परे,
ये बहती हवाएं,
संवाद तेरे ही ले आए,
ये आमंत्रण,
हर जड़ अवसाद से परे!

खामोश तेरी बातें,,
हैं हर जड़ संवाद से परे ...

अंत-विहीन,
ऊँचे दरख्तों से परे,
तेरे ही साए,
गीत निमंत्रण के सुनाए,
अंतहीन व्योम,
तैरते श्वेत-श्याम बादल,
उनमुक्त ये संवाद,
हर जड़ उन्माद से परे !!

खामोश तेरी बातें,
हैं हर जड़ संवाद से परे ...

Sunday, 9 December 2018

मोहक दर्पण

छवि अपनी, मैं तकता हूँ जिसमें हरदम,
मोहक है मुझको, वो ही दर्पण....

प्रतिकृति दिखलाता है वो मेरी,
बेशक कुछ कमियाँ गिनवाता है वो मेरी,
दिखलाता है, वो व्यक्तित्व मेरा,
बतलाता है, ये दामन दागी है या कोरा,
मोह लिया है, यूँ जिसने मन मेरा,
मोहक है वो ही दर्पण.....

छवि अपनी, मैं तकता हूँ जिसमें हरदम...

पुण्य-पाप के, हम सब हैं वाहक,
निष्पापी होने का भ्रम, पालते हैं नाहक,
मन के ये भ्रम, तोड़ता है बिंब,
नजरें फेर जब, बोलता है प्रतिबिम्ब,
दिखलाता है, इक नया रूप मेेेेरा,
मोहक है वो ही दर्पण.....

छवि अपनी, मैं तकता हूँ जिसमें हरदम...

अपना अक्श, ढूंढने को अक्सर,
अपना परिचय खुद से, पाने को अक्सर,
जाता हूँ मैं, सम्मुख दर्पण के,
उभर आता है, समक्ष मेरे मेरा ही सच,
दिखलाता है, कैसा है मन मेरा,
मोहक है वो ही दर्पण.....

छवि अपनी, मैं तकता हूँ जिसमें हरदम,
मोहक है मुझको, वो ही दर्पण....

Saturday, 8 December 2018

परिहास

माना भारी है परिवर्तन का यह क्षण,
सुर विहीन अभी है जीवन,
ये सम पर फिर से आएंगी, तुम विश्वास करो,
ना इन पर, तुम परिहास करो.....

मेरे सपनों में, तुम भी अपना विश्वास भरो,
ना मुझ पर, तुम परिहास करो.....

नई कोपलें फिर आएंगी,
ये ठूंठ वृक्ष,
नग्न डालियाँ,
पीले से बिखरे पत्ते सारे,
सब हैं...
उस पतझड़ के मारे,
ना इन पर उपहास करो....
तुम विश्वास भरो...

ना इन पर, तुम परिहास करो.....

संसृति मृत होती नहीं,
ना ही घन,
ना ये नदियाँ,
ना ही मिटते नभ के तारे,
सब हैं...
इस मौसम के मारे,
ना इन पर उपहास करो
तुम विश्वास भरो...

जारी है ऋतुओं का क्रमिक अनुवर्तन,
रंग विहीन अभी है जीवन,
ये फिर रंगों में रंग जाएगी, तुम विश्वास करो,
ना इन पर, तुम परिहास करो.....

मेरे सपनों में, तुम भी अपना विश्वास भरो,
ना मुझ पर, तुम परिहास करो.....

Tuesday, 4 December 2018

यात्रा (JOURNEY) 2015 - 2018

मेरे मन की उद्घोषित शब्दों की अंकित या टंकित रूप है मेरी कविता "जीवन कलश"। मन भीगता है और टपकती है कुछ बूँदें इस पटल पर तो कविताएं स्वरूप ले लेती हैं । जिसे अबतक अपनो पाठकों की प्रशंसाएं व अपार प्यार मिलता रहा है।

दिसम्बर 2015 से जारी इस सफर का हर पड़ाव मुझे रोमांचित करता रहा है। अबतक 950 से अधिक रचनाएँ लिख चुका हूँ जिसे लगभग 1 लाख 19 हजार से अधिक बार दर्शकों / पाठकों द्वारा विभिन्न देशों में  पढ़़ा जा चुका है।

कई नए मित्र इस राह में मिलते गए । नए उदीयमान लेखकों से प्रेरणा भी मिलती रही।

इसी मध्य मेरी पहली कविता संग्रह की पुस्तक "अकेले प्रेम की कोशिश" (Akele Prem Ki Koshish) का प्रकाशन भी संभव हुआ जो मेरी 172 कविताओं का संकलन है। इसे आमेजन के वेबसाईट (www.amazon.com) पर आॅनलाईन भी खरीदा जा सकता है।

हमारे 10 अन्य कवियों के प्रयास से एक और साझा पुस्तक परियोजना भी प्रगति पर है, जल्द ही यह पुस्तक भी बाजार में उपलब्ध होगी।

कहें कि, एक पहचान सी मिली है मुझे,...ब्लाग के माध्यम से। सादर आभार पाठकवृन्द।

बीता कौन, वर्ष या तुम

बीता है आखिर कौन? क्या समय? या तुम?

कुछ पल मेरे दामन से छीनकर,
स्मृतियों की कितनी ही मिश्रित सौगातें देकर,
समय से आँख मिचौली करता,
बीत चुका, और एक वर्ष....
एक यक्ष प्रश्न मेरे ही सम्मुख रखकर!

बीता है आखिर कौन? क्या समय? या तुम?

या बीता है कोई सुंदर सा स्वप्न,
या स्थायित्व का भास देता, कोई प्रशस्त भ्रम,
देकर किसी छाया सी शीतलता,
बीत चुका, और एक वर्ष....
अनसुलझे प्रश्न मेरे ही सम्मुख रखकर!

बीता है आखिर कौन? क्या समय? या तुम?

या यथार्थ से सुंदर था वो भ्रम,
या अंधे हो चले थे, उस माधूर्य सौन्दर्य में हम,
यूँ ही चलते आहिस्ता-आहिस्ता,
बीत चुका, और एक वर्ष....
क्रमबद्ध ये प्रश्न मेरे ही सम्मुख रखकर!

बीता है आखिर कौन? क्या समय? या तुम?

या प्रकृति फिर लेगी पुनर्जन्म,
या बदलेंगे, रात के अवसाद और दिन के गम,
यूँ ही पुकार कर अलविदा कहता,
बीत चुका, और एक वर्ष....
अनबुझ से प्रश्न मेरे ही सम्मुख रखकर!

बीता है आखिर कौन? क्या समय? या तुम?

फिर सोचता हूँ ....
क्रम बद्ध है - पहले आना, फिर जाना,
फिर से लौट आने के लिये .....
कुदरत ने दिया, आने जाने का ये सिलसिला,
ये पुनर्जन्म, इक चक्र है प्रकृति का,
अवसाद क्या जो रात हुई, विषाद क्या जो दिन ढला?

गर मानो तो....
बड़ी ही बेरहम, खुदगर्ज,चालबाज़ है ये ज़िदंगी,
भूल जाती है बड़ी आसानी से,
पुराने अहसासों, रिश्तों और किये वादों को,
निरन्तर बढ़ती चली जाती है आगे..
यूँ बीत चुका, और एक वर्ष....
शायद, कुछ वरक हमारे ही उतारकर!

बीता है आखिर कौन? क्या समय? या तुम?

Sunday, 2 December 2018

सूखती नदी

चंचल सी इक बहती नदी, थम सी गई है!

संग ले चली थी, ये असंख्य बूँदें,
जलधार राह के, कई खुद में समेटे,
विकराल लहरें, बाह में लपेटे,
उत्श्रृंखलता जिसकी, कभी तोड़ती थी मौन,
वो खुद, अब मौन सी हुई है...

चंचल सी इक बहती नदी, थम सी गई है!

कभी लरजती थी, जिसकी धारें,
पुनीत धरा के चरण, जिसने पखारे,
खेलती थी, जिनपर ये किरणें,
गवाही जिंदगी की, देती थी प्रवाह जिसकी,
वो खुद, अब लुप्त सी हुई है.....

चंचल सी इक बहती नदी, थम सी गई है!

अस्थियाँ, विसर्जित हुई है जिनमें,
इस सभ्यता की नींव, रखी है जिसने,
कायम, परम्पराएँ है जिनसे,
कहानी मान्यताओं की, जीवित है जिनसे,
वो खुद, अब मृत सी हुई है....

चंचल सी इक बहती नदी, थम सी गई है!

शेष हैं बची, विलाप की चंद बूँदें,
कई टूटे से सपने, कई लुटे से घरौंदे,
सूखे से खेत, बंजर सी जमीं,
हरीतिमा प्रीत की, लहलहाती थी जिनसे,
वो खुद, अब सूख सी गई है....

चंचल सी इक बहती नदी, थम सी गई है!

कोई आता नहीं, अब तीर इनके,
अब लगते नहीं यहाँ, मेले बसंत के,
स्पर्श कोई भी, इसे करता नहीं,
कभी धुलते थे जहाँ, सात जन्मों के पाप,
वो खुद, अब अछूत सी हुई है.....

चंचल सी इक बहती नदी, थम सी गई है!

Wednesday, 28 November 2018

अजीब से फासले

बड़े अजीब से, हैं ये फासले....

इन दूरियों के दरमियाँ,
जतन से कहीं, 
न जाने कैसे, मन को कोई बांध ले..

अजीब से हैं ये फासले....

अदृश्य सा डोर कोई,
बंधा सा कहीं, 
उलझाए, ये कस ले गिरह बांध ले...

अजीब से हैं ये फासले....

जब तलक हैं करीबियाँ,
बेपरवाह कहीं,
याद आते हैं वही, जब हों फासले...

अजीब से हैं ये फासले....

सिमट आती है ये दूरियाँ,
पलभर में वहीं,
इन फासलों से जब, कोई नाम ले...

अजीब से हैं ये फासले....

फिर गूंजती है प्रतिध्वनि,
वादियों में कहीं,
दबी जुबाँ भी कोई, गर पुकार ले ....

अजीब से हैं ये फासले....

पैगाम ले आती है हवाएँ,
दिशाओं से कहीं,
इक तरफा स्नेह, फासलों में पले....

अजीब से हैं ये फासले....

इक अधूरा कोई संवाद,
एकांत में कहीं,
खुद ही मन, अपने आप से करे...

अजीब से हैं ये फासले....

Monday, 26 November 2018

अस्ताचल

ऐ मन चंचल! अवश्यम्भावी है अस्ताचल!
पर धीरज रख, रश्मि-रथ फिर लौट आएगी कल....

कर, तू जितनी मर्जी चल,
आवरण, तू चाहे जितने भी बदल,
दिशा, तू चाहे कोई भी निकल!
मचल! मेरे मन, तू और जरा मचल!
निश्चय है अस्ताचल!

उद्दीप्त होते सूरज को देखो,
प्रचण्ड होती, किरणों को परखो,
प्रभा, इनके भी होते निर्बल!
अस्तगामी है सब, अस्त हुए ये चल,
निश्चय है अस्ताचल!

पर संयम रख, अरुणोदय फिर भी होगा कल....

उद्दीप्त होते ये प्रभा किरण! 
ये प्रदीप्त राहें, आभाएं है अस्तगामी,
गतिशील क्षण, गतिमान हर-पल!
यह ज्वलंत वर्तमान, भूतकाल है कल,
निश्चय है अस्ताचल!

पर संयम रख, वर्तमान फिर से आएगा कल....

बस, ये मन में ध्यान रहे,
शीघ्रता में, तेरे ये कदम ना डिगें,
गिर, फिर उठ कर तू सम्हल!
ये आशा, ये सपने, ये लक्ष्य ना बदल!
आए चाहे अस्ताचल!

चलना ही है, इस जीवन का हल,
या समाप्त हो जाएँ ये राहें, 
या प्रभाविहीन हो जाए ये आभाएं,
ऊषा-किरण, फिर लौट आएगी कल!
आने दो ये अस्ताचल!

ऐ मन चंचल! अवश्यम्भावी है अस्ताचल!
पर धीरज रख, रश्मि-रथ फिर लौट आएगी कल....

Saturday, 24 November 2018

25 वर्ष: संग मद्धम-मद्धम

साल दर साल......
यूँ बीत रहा मद्धम-मद्धम,
दो मन, दो धड़कन,
इक संग, रहते हैं इक आंगण....

दो विश्वास, चले परस्पर!
संग, 25 वर्षों तक, इक पथ पर,
विश्वास कहाँ होता खुद पर,
अचम्भित करता सफर,
चल रहा, संग-संग मद्धम-मद्धम.....

दो मन, दो धड़कन,
इक संग, रहते हैं इक आंगण....

दो युग बीते, सदियाँ बीती!
दो दीप जले, कितनी ही रतियाँ बीती,
इस आंगण, हर बतियाँ बीती,
उम्र की, संझिया बीती,
हर क्षण, संग-संग मद्धम-मद्धम.....

दो मन, दो धड़कन,
इक संग, रहते हैं इक आंगण....

फिक्र किसे, ये उम्र ढ़ली!
ढ़लती रातों में, है जब हमराह कोई,
आँखों-आँखो में, हर रात ढ़ली,
बढती उम्र, के सौगात,
बाँट चले, संग-संग मद्धम-मद्धम.....

दो मन, दो धड़कन,
इक संग, रहते हैं इक आंगण....

मना-मनौवल, रास-विहार!
रूठे पल में, पल-पल इक मनुहार,
जीते दोनो, इक दूजे से हार,
प्यारा सा, ये व्यापार,
बढ़ रहा, संग-संग मद्धम-मद्धम.....

दो मन, दो धड़कन,
इक संग, रहते हैं इक आंगण...

हो आरूढ़, रजत रथ पर!
हुए अग्रसर, इक नवीन सफर पर,
प्रदीप्त कामना, के पथ पर,
साँसों का, ये दीपक,
जल रहा, संग-संग मद्धम-मद्धम.....

साल दर साल......
यूँ बीत रहा मद्धम-मद्धम,
दो मन, दो धड़कन,
इक संग, रहते हैं इक आंगण....

++++++++++++++++++++++++++++++++++++
साल दर साल......
यूँ बीत रहा मद्धम-मद्धम,
दो मन, दो धड़कन,
इक संग, रहते हैं इक आंगण....
दो विश्वास, चले परस्पर!
संग, 25 वर्षों तक, इक पथ पर,
विश्वास कहाँ होता खुद पर,
अचम्भित करता सफर,
चल रहा, संग-संग मद्धम-मद्धम.....

दो मन, दो धड़कन,
इक संग, रहते हैं इक आंगण....
दो युग बीते, सदियाँ बीती!
दो दीप जले, कितनी ही रतियाँ बीती,
इस आंगण, हर बतियाँ बीती,
उम्र की, संझिया बीती,
हर क्षण, संग-संग मद्धम-मद्धम.....

दो मन, दो धड़कन,
इक संग, रहते हैं इक आंगण....

फिक्र किसे, ये उम्र ढ़ली!
ढ़लती रातों में, है जब हमराह कोई,
आँखों-आँखो में, हर रात ढ़ली,
बढती उम्र, के सौगात,
बाँट चले, संग-संग मद्धम-मद्धम.....

दो मन, दो धड़कन,
इक संग, रहते हैं इक आंगण....
मना-मनौवल, रास-विहार!
रूठे पल में, पल-पल इक मनुहार,
जीते दोनो, इक दूजे से हार,
प्यारा सा, ये व्यापार,
बढ़ रहा, संग-संग मद्धम-मद्धम.....

दो मन, दो धड़कन,
इक संग, रहते हैं इक आंगण....
हो आरूढ़, रजत रथ पर!
हुए अग्रसर, इक नवीन सफर पर,
प्रदीप्त कामना, के पथ पर,
साँसों का, ये दीपक,
जल रहा, संग-संग मद्धम-मद्धम.....
साल दर साल......
यूँ बीत रहा मद्धम-मद्धम,
दो मन, दो धड़कन,
इक संग, रहते हैं इक आंगण....

Thursday, 22 November 2018

कहें-न-कहें

कुछ कहें, न कहें हम,
या, कुछ लिखें, न लिखें हम,
अनबोले से ये बोल, अनलिखे से ये शब्द,
तुम पढ़ लेना....

तन्हा इक पल भी, न होने देंगे तुम्हे,
निश्छल से ये झर-झर झरने.....
कल-कल से बहते ये क्षण, 
अनसुने से ये गीत, अनकहे से ये संगीत,
तुम सुन लेना....

पत्तियों पर अटकी, ओस की ये बूँदें,
समीर के ये पुरकशिश झोंके....
सहला जाएंगे हौले से तन,
अन्जाने से ये अनुभव, अनबुझ से ये रंग,
तुम समेट लेना...

गिरि पर टूटकर, बिखरती ये किरणें,
पर्वत के रंगीले शिखर सुनहरे...
नृत्य नाद करती ये किरण,
अनदेखी सी ये तस्वीर, अनदेखे ये नृत्य,
तुम देख लेना.....

कब तक है भला, साँसों का ये छंद,
पर जब तक चलते है पवन....
गुजरेंगे, छूकर ही ये तन,
अनदेखी ये छुअन, अनछूए से एहसास,
तुम जान लेना....

कुछ कहें, न कहें हम,
या, कुछ लिखें, न लिखें हम,
अनबोले से ये बोल, अनलिखे से ये शब्द,
तुम पढ़ लेना....

Tuesday, 20 November 2018

सांध्य-स्वप्न

नित आए, पलकों के द्वारे, सांध्य-स्वप्न!

अक्सर ही, ये सांध्य-स्वप्न!
अनाहूत आ जाए,
बातें कितनी ही, अनथक बतियाए,
बिन मुँह खोले,
मन ही मन, भन-भन-भन...

छलावे सा, ये सांध्य-स्वप्न!
छल कर जाए,
हर-क्षण, भ्रम-जाल कोई रच जाए,
बिन घुंघरू के,
पायल बाजे, छन-छन-छन......

पलकों में, ये सांध्य-स्वप्न!
नमी बन आए,
अधूरे ख्वाब कई, फिर से दिखलाए,
बिन सावन के,
बदरा गरजे, घन-घन-घन....

बेचैन करे, ये सांध्य-स्वप्न!
छम से आ जाए,
अद्भुद दृश्य, पटल पर रखता जाए,
बिन मंदिर के,
घंटी बाजे, टन-टन-टन......

नित आए, पलकों के द्वारे, सांध्य-स्वप्न! 

Sunday, 18 November 2018

सुरभि

कुछ भूले, कुछ याद से रहे,
कुछ वादे, दबकर किताबों में गुलाब से रहे,
सुरभि, लौट आई है फिर वही,
उन सूखे फूलों से....

मुखरित, हुए फिर वो वादे,
वो चटक रंग, वो चेहरे, वो रूप सीधे-सादे,
सुरभि, लौट आई है फिर वही,
उन खुले पन्नों से.....

महक उठे हैं, फिर वो छंद,
बनते-बिगड़ते, नए-पुराने से कई अनुबंध,
सुरभि, लौट आई है फिर वही,
उन भूले लम्हों से....

मन की लिप्सा, जागी फिर,
अँकुर आए, फिर आँखों में चाह अनगिन,
सुरभि, लौट आई है फिर वही,
उन गुजरे राहों से....

तंद्रा टूटी, इक बूँद से जैसे,
सूखी नदिया की, प्यास जगी है कुछ ऐसे,
सुरभि, लौट आई है फिर वही,
उन नन्हीं बूंदों से....

कुछ भूले, कुछ याद से रहे,
कुछ वादे, दबकर किताबों में गुलाब से रहे,
सुरभि, लौट आई है फिर वही,
उन सूखे फूलों से....

Saturday, 17 November 2018

दो प्रस्तावना

दो स्वरूप जीवन के, रचता है ईश्वर!

कामना के कई रंग देकर,
वो हँसता है ऊपर,
क्यूंकि, कल्पना से सर्वथा परे,
बिल्कुल अलग-अलग,
दो विपरीत कलाएँ, रचता है ईश्वर!

बसंत ही बसंत
या है पतझड़ ही पतझड़,
हरितिमा अनंत है
या है बंजर ही बंजर,
दो रूप जीवन के, रचता है ईश्वर!

चुप ही चुप,
या कंठ में स्वर ही स्वर,
है सुर-विहीन,
या है सुर के सातों स्वर,
दो धुन जीवन के, रचता है ईश्वर!

अभिलाषा मन में देकर,
वो हँसता है ऊपर,
क्यूँकि, चाहत से सर्वथा परे,
कथाएं अलग-अलग,
दो भिन्न प्रस्तावना, रखता है ईश्वर!

चुनने को मार्ग सही, कहता है ईश्वर!

Wednesday, 14 November 2018

अजनबी चाह

बाकी रह गई है,
कोई अजनबी सी चाह शायद....

है बेहद अजीब सा मन!
सब है हासिल,
पर अजीज है, बस चाह वो,
है अजनबी,
पर है खास वो,
दूर है,
पर है पास वो,
ख्वाब है,
कर रहा है बेताब वो,
कुछ फासलों से,
यूँ गुजर रहे हैं, चाह शायद!

सफर में साथ में,
रहते वही हैं, चाह शायद!
बाकी रह गई है...
कोई अजनबी सी चाह शायद....

मौन है ये, पर गौण नहीं!
ये तोलती है मन,
झकझोरकर, टटोलती है मन,
कभी सुप्त ये,
है कभी जीवन्त ये,
अन्तहीन सा,
प्रवाह अनन्त ये,
आस-पास ये
मन ही, किए वास ये,
कभी आहटों से,
तोडती है मौन, चाह शायद!

ज्वलन्त रात में,
जलते वही हैं, चाह शायद!
बाकी रह गई है...
कोई अजनबी सी चाह शायद....

अजनबी से इस राह में!
यूँ तो मिला मैं,
कई अजनबी सी चाह से,
कुछ प्रबल हुए,
कुछ बदल से गए,
कुछ गुम हुए,
कुछ पीछे ही पड़े,
रूबरू हो कर,
इस राह में,
कई अलविदा कह गए,
अजनबी से कुछ,
अब भी बचे हैं, चाह शायद!

मन की वादियों में,
वही ढूंढते हैं, राह शायद!
बाकी रह गई है...
कोई अजनबी सी चाह शायद....

Tuesday, 13 November 2018

बिखरे शब्द

शब्दों, के ये रंग गहरे!
लेखनी से उतार, किसने पन्नों पे बिखेरे......

विचलित, कर सके ना इन्हें,
स्याह रंग के ये पहरे,
रंगों में डूबकर, ये आए हैं पन्नों पे उभर,
मोतियों से ये, अब हैं उभरे...

शब्दों, के ये रंग गहरे!
लेखनी से उतार, किसने पन्नों पे बिखेरे......

बड़े बेनूर थे, ये शब्द पहले,
भाव में गए पिरोए,
काव्य में ढलकर, आए हैं पन्नों पे उभर,
निखर गए, अब इनके चेहरे....

शब्दों, के ये रंग गहरे!
लेखनी से उतार, किसने पन्नों पे बिखेरे......

आयाम, कितने इसने भरे,
रूप कई इसने रचे,
भंगिमाएंँ लिए, ये आए पन्नों पे उभर,
करती हुई, ये नृत्य कलाएँ...

शब्दों, के ये रंग गहरे!
लेखनी से उतार, किसने पन्नों पे बिखेरे......

धूमिल भी क्या करेंगी इन्हें,
वक्त की ये ठोकरें,
विविधता लिए, ये आए पन्नों पे उभर,
सदाबहार बन, ये जो ठहरे.....

शब्दों, के ये रंग गहरे!
लेखनी से उतार, किसने पन्नों पे बिखेरे......

Sunday, 11 November 2018

खुद लिखती है लेखनी

मैं क्या लिखूं! खुद लिख पड़ती है लेखनी....

गीत-विहग उतरे जब द्वारे,
भीने गीतों के रस, कंठ में डारे,
तब बजते है, शब्दों के स्तम्भ,
सुर में ढ़लते हैं, शब्द-शब्द!

मैं क्या लिखूं! फिर खुद लिखती है लेखनी...

भीगी है जब-जब ये आँखें,
अश्रुपात कोरों से बरबस झांके,
तब डोलते हैं, शब्दों के स्तम्भ,
स्खलित होते हैं, शब्द-शब्द!

मैं क्या लिखूं! फिर खुद लिखती है लेखनी...

समुंदर की अधूरी कथाएं,
लहरें, तट तक कहने को आएं,
तब टूटते हैं, शब्दों के स्तम्भ,
बिखर जाते हैं, शब्द-शब्द!

मैं क्या लिखूं! फिर खुद लिखती है लेखनी...

Thursday, 8 November 2018

स्नेह तुम्हारा

बरस बीते, बीते अनगिनत पल कितने ही तेरे संग,
सदियाँ बीती, मौसम बदले........
अनदेखा सा कुछ अनवरत पाया है तुमसे,
हाँ ! बस ! वो स्नेह ही है.....
बदला नही वो आज भी, बस बदला है स्नेह का रंग।

कभी चेहरे की शिकन से झलकता,
कभी नैनों की कोर से छलकता,
कभी मन की तड़प और संताप बन उभरता,
सुख में हँसी, दुख में विलाप करता,
मौसम बदले! पौध स्नेह का सदैव ही दिखा इक रंग ।

छूकर या फिर दूर ही रहकर!
अन्तर्मन के घेरे में मूक सायों सी सिमटकर,
हवाओं में इक एहसास सा बिखरकर,
साँसों मे खुश्बू सी बन कर,
स्नेह का आँचल लिए, सदा ही दिखती हो तुम संग।

अमूल्य, अनमोल है यह स्नेह तेरा,
दूँ तुझको मैं बदले में क्या? 
सब कुछ है तेरा, मेरा कुछ भी ना अब मेरा,
समर्पित कण-कण हूँ मैं तुझको,
भाव समर्पण के ना बदलेंगे, बदलते मौसम के संग।

सौदा है यह, नेह के लेन-देन का,
तुम नेह निभाने में हो माहिर,
स्नेह लुटा, वृक्ष विशाल बने तुम नेह का,
देती है घनी छाया जो हरपल,
अक्षुण्ह स्नेह ये तेरा, कभी बदले ना मौसम के संग।

बुझते दीप

कल ही दिवाली थी...
कल ही, जलते दीयों को बुझते देखा मैनें....

कल ही दिवाली थी...
शामत, अंधेरों की, आनेवाली थी!
कुछ दीप जले, प्रण लेकर,
रौशन हुए, कुछ क्षण वो भभककर,
फिर, उनको बुझता देखा मैनें,
अंधेरी रातों को,
फिर से गहराते देखा मैनै...

कल ही दिवाली थी...
कल ही, जलते दीयों को बुझते देखा मैनें....

कमी, आभा की थी?
या, गर्भ में दीप के, आशा कम थी?
बुझे दीप, यही प्रश्न देकर,
निरुत्तर था मैं, उन प्रश्नों को लेकर!
दृढ-स॔कल्प किया फिर उसने,
दीप्त दीपों को,
तिमिर से लड़ते देखा मैनें....

कल ही दिवाली थी...
कल ही, जलते दीयों को बुझते देखा मैनें....

अलख, कहाँ थी....
इक-इक दीप में, विश्वास कहाँ थी!
संकल्प के कुछ कण लेकर,
भीष्म-प्रण लिए, बिना जलकर,
इक जंग लड़ते देखा मैनें,
तम की रातों को,
फिर से गहराते देखा मैनै...

कल ही दिवाली थी...
कल ही, जलते दीयों को बुझते देखा मैनें....

Tuesday, 6 November 2018

मेरी दिवाली

दीपक, इक मै भी चाहता हूँ जलाना....

वो नन्हा जीवन,
क्यूँ पल रहा है बेसहारा,
अंधेरों से हारा,
फुटपाथ पर फिरता मारा....

सारे प्रश्नों के
अंतहीन घेरो से बाहर निकल,
बस चाहता हूँ सोचना,

दीपक, इक मै भी चाहता हूँ जलाना....

वो वृहत आयाम!
क्यूँ अंधेरों में है समाया,
जीत कर मन,
अनंत नभ ही वो कहलाया....

सारे आकाश के
अँधेरों को अपनी पलकों पर,
बस चाहता हूँ तोलना,

दीपक, इक मै भी चाहता हूँ जलाना....

Sunday, 4 November 2018

पन्ने अतीत के

पन्ने अतीत के कुछ,
पलटे, अचानक हवाओं में बिखर गए!

सदियों ये चुप थे पड़े,
काल-कवलित व धूल-धुसरित,
वक्त की परत मे दबे,
मुक्त हुए, आज ये मुखर हुए!

पन्ने अतीत के कुछ,
पलटे, अचानक हवाओं में बिखर गए!

फड़-फड़ाते से ये पन्ने,
खंड-खंड, अतीत के हैं ये पहने,
अब लगे हैं ये उतरने,
यूँ चेहरे अतीत के, मुखर हुए।

पन्ने अतीत के कुछ,
पलटे, अचानक हवाओं में बिखर गए!

पल, था जो वहीँ रुका!
पल, न था जिसको मैं जी सका!
शिकवे और शिकायतें,
रुके वो पल, मुझसे कर गए!

पन्ने अतीत के कुछ,
पलटे, अचानक हवाओं में बिखर गए!

कुछ गैर अपनों से भले,
कभी, अपनों से ही गए थे छले,
पहचाने से वो चेहरे,
नजरों के सामने, गुजर गए!

पन्ने अतीत के कुछ,
पलटे, अचानक हवाओं में बिखर गए!

गर्दिशों में वक्त की कहीं,
मुझ से, खोया था आईना मेरा,
शक्ल पुरानी सी मेरी,
अतीत की, गर्भ में दिख गए!

पन्ने अतीत के कुछ,
पलटे, अचानक हवाओं में बिखर गए!

सामने था भविष्य मेरा,
अतीत की, उसी नींव पे ठहरा,
कुछ ईंटें उस नींव की,
वर्तमान में रखो, ये कह गए!

पन्ने अतीत के कुछ,
पलटे, अचानक हवाओं में बिखर गए!

सर्द हवाएं

दस्तक ये कैसी, देकर गई सर्द सी हवाएं.....

कहीं जम सी गईं है कुछ बूँद,
कहीँ छाने लगी है आँखों में धुंध,
कहीं ख्वाब बुनने लगा है मन,
कहीं खामोशियां दे रही हैं सदाएं ....

दस्तक ये कैसी, देकर गई सर्द सी हवाएं.....

कोई तकता आँखों को भींचे,
कोई जगता यूहीं आँखो को मूंदे,
कोई रंग सजाने लगा है मन,
कोई बुनने लगा है कई ख्वाहिशें ....

दस्तक ये कैसी, देकर गई सर्द सी हवाएं.....

ओस बनकर गिरी बूंदें कई,
मचलने लगी ओस की बूँदें कहीं,
कुछ बूँद भिगोने लगा है मन,
कुछ बूँद भरने लगी है सर्द आहें......

दस्तक ये कैसी, देकर गई सर्द सी हवाएं.....

डोलने लगी है डाल-डाल,
कुछ बोलने लगी है डाल-डाल,
कोई गीत गाने लगा है मन,
कोई राज खोलने लगी है दिशाएं......

दस्तक ये कैसी, देकर गई सर्द सी हवाएं.....

Wednesday, 31 October 2018

स्वप्न

रातों के एकाकी क्षण में,
अतृप्त आवेगों से सुलगते वन में,
जगता है रोज ही कोई स्वप्न,
जगती है कोई तृष्णा,
जग जाता है इक अतृप्त जीवन,
इच्छाओं के फैलाए फन!

रात के ढ़ेर पर......
रोज ही जगते हैं सोये से वे क्षण,
सांसें भरता इक स्वप्न,
इक अतृप्त सी जिजीविषा,
एक मृगतृष्णा,
जागी सी अनन्त सुसुप्त इच्छाएं,
करवट लेता हरक्षण,
स्वप्न में विघटित होता मन!

इच्छाओं के संग.....
व्याकुल हो उठते सोये से वे क्षण,
चल पड़ती है रात,
अनन्त टूटे प्यालों के साथ,
अनबुझ सी प्यास,
मन में पनपती इक अकुलाहट,
बेचैनी प्रतिक्षण,
स्वप्न में शिथिल पड़ता तन!

स्वप्न के टीले पर...
तृष्णाओं के संग सोए से वे क्षण,
जागृत अन्तःमन,
पिरोता हो कई चाह अनंत,
आस में कस्तूरी के,
जैसे मृग भटकता हो वन-वन,
अदृश्य दिग्दिगंत,
स्वप्न में अतृप्ति के ये क्षण!

रातों के एकाकी क्षण में,
अतृप्त आवेगों से सुलगते वन में,
जगता है रोज ही कोई स्वप्न,
जगती है कोई तृष्णा,
जग जाता है इक अतृप्त जीवन,
इच्छाओं के फैलाए फन!

Sunday, 28 October 2018

पथ के आकर्षण

दामन में कब आते हैं!
पथ के आकर्षण,
पीछे पथ में ही रह जाते हैं .....

इक पथ संग-संग, साथ चले थे वो पल,
मन को जैसे, बांध चले थे वो पल,
बस हाथों मे कब, कैद हुए हैं वो पल,
वो आकर्षण, मन-मानस में बस जाते हैं!
सघन वन में, ये खींच लिए जाते हैं....

दामन में कब आते हैं!
पथ के आकर्षण,
पीछे पथ में ही रह जाते हैं .....

सम्मोहन था, या कोई जादू था उस पल,
मन कितना, बेकाबू था उस पल,
जाम कई, प्यालों से छलके उस पल,
सारा जाम, कहाँ बूँद-बूँद हम पी पाते हैं!
प्यासे है जो, प्यासे ही रह जाते हैं....

दामन में कब आते हैं!
पथ के आकर्षण,
पीछे पथ में ही रह जाते हैं .....

अब नजरों से, ओझल हुए है वो पल,
कुछ बोझिल, कर गए हैं वो पल,
आगे हूँ मैं, पथ में ही छूटे हैं वो पल,
बहते धार, वापस हाथों में कब आते हैं!
कुछ मेरा ही, मुझमें से ले जाते है.....

दामन में कब आते हैं!
पथ के आकर्षण,
पीछे पथ में ही रह जाते हैं .....

Saturday, 27 October 2018

चाँद तक चलो

ओ प्रियतम, चाँद तलक तुम साथ चलो...

नभ को लो निहार तुम,
पहन लो, इन बाँहों के हार तुम,
फलक तक साथ चलो,
एक झलक, चाँद की तुम भर लो!

ओ प्रियतम, चाँद तलक तुम साथ चलो...

प्राणों का अवगुंठण लो,
इस धड़कन का अनुगुंजन लो,
भाल जरा इक अंकन लो,
स्नेह भरा, मेरा ये नेह निमंत्रण लो!

ओ प्रियतम, चाँद तलक तुम साथ चलो...

यूं हुआ जब मैं निष्प्राण,
बिंधकर उस यम की सुईयों से,
भटके दर-दर तुम कहते,
पिय वापस दे दो, यम सूई ले लो!

ओ प्रियतम, चाँद तलक तुम साथ चलो...

ये झौंके हैं शीत ऋतु के,
ये शीतल मंद बयार मदमाए से,
ये अंग प्रत्यंग सिहराए से,
ये उन्माद, महसूस जरा कर लो!

ओ प्रियतम, चाँद तलक तुम साथ चलो...

सिहरन ले आया समीर,
तुम संग चलने को प्राण अधीर,
पग में ना अब कोई जंजीर,
हाथ धरो, प्रिय नभ के पार चलो!

ओ प्रियतम, चाँद तलक तुम साथ चलो...

Thursday, 25 October 2018

यही थे राह वो

चले थे सदियों साथ जो, यही थे राह वो.....

वक्त के कदमों तले, यही थे राह वो,
गुमनाम से ये हो चले अब,
है साथ इनके, वो टिमटिमाते से तारे,
टूटते ख्वाबों के सहारे,
ये राह सारे, अब है पतझड़ के मारे.....

चले थे सदियों साथ जो, यही थे राह वो.....

बिछड़े है जो कही, यही थे राह वो,
संग मीलों तक चले जो,
किस्से सफर के सारे, है आधे अधूरे,
तन्हा बातों के सहारे,
ये राह सारे, अब है पतझड़ के मारे.....

चले थे सदियों साथ जो, यही थे राह वो.....

बदलते मौसमों मे, यही थे राह वो,
बहलाती हैं जिन्हें टहनियाँ,
अधखिले से फूल, सूखी सी कलियाँ,
शूल-काटो के सहारे,
ये राह सारे, अब है पतझड़ के मारे.....

चले थे सदियों साथ जो, यही थे राह वो....

श्वेत-श्याम

होने लगी है, श्वेत-श्याम अब ये शाम,
लगने लगी है, इक अजनबी सी अब ये शाम....

इक गगन था पास मेरे.....
विस्तार लिए, भुजाओं का हार लिए,
लोहित शाम, हर बार लिए,
रंगो की फुहार, चंचल सी सदाएं,
वो सरसराहट, उनके आने की आहट,
पहचानी सी कोई परछांईं,
थी हर एक शाम, इक पुकार लिए.....

हो चला अब, बेरंग सा वो ही गगन,
होने लगी अब, श्वेत-श्याम हर एक शाम....

इक गगन अब पास मेरे.....
निस्तेज सा, संकुचित विस्तार लिए,
श्वेत श्याम सा उपहार लिए,
धुंध में घिरी, संकुचित सी दिशाएं,
न कोई दस्तक, न आने की कोई आहट,
अंजानी सी कई परछांई,
बेरंग सी ये शाम, उनकी पुकार लिए.....

मलीन रंग  लिए, तंज कसती ये शाम,
लगने लगी है, इक अजनबी सी अब ये शाम....

Tuesday, 23 October 2018

मरुवृक्ष

अचल सदा, अटल सदा,
तप्त वात में, मरुवृक्ष सा मैं रहा सदा....

दहकते रहे कण-कण,
पाया ना, छाँव कहीं इक क्षण,
धूल ही धूल प्रतिक्षण,
चक्रवात में, मरुवृक्ष सा रहा....

अचल सदा, अटल सदा....

रह-रह बहते बवंडर,
वक्त बेवक्त, कुछ ढ़हता अंदर,
ढ़हते रेत सा समुन्दर,
सूनी रात में, मरुवृक्ष सा जगा....

अचल सदा, अटल सदा.....

वक्त के बज्र-आघात,
धूल धुसरित, होते ये जज़्बात,
पिघलते मोम से वात,
रेगिस्तान में, मरुवृक्ष सा पला....

अचल सदा, अटल सदा,
तप्त वात में, मरुवृक्ष सा मैं रहा सदा....

Sunday, 21 October 2018

गठबंधन

नाजुक डोर से इक,
दो हृदय, आज जुड़ से गए...

बंध बंधते रहे,
तार मन के जुड़ते रहे,
डबडबाए नैन,
बांध तोड़ बहते रहे,
चुप थे दो लब,
चुपके से कुछ कह गए,
गांठ रिश्तों के,
इक नए से जुड़ गए....

नाजुक डोर से इक,
दो हृदय, आज जुड़ से गए...

खिल सी उठी,
मुरझाई सी इक कली,
आशाएं कई,
इक साथ पल्लवित हुई,
बांधने मन के,
इक नवीन बंधन वो चली,
नाम रिश्तों के,
इक नए से मिल गए.....

नाजुक डोर से इक,
दो हृदय, आज जुड़ से गए...

मुक्त आकाश ये,
छूने लगा मुदित हृदय,
बेसुरा कंठ भी,
गाने लगा नवीन लय,
मुखरित राह पर,
राही नए दो चल पड़े,
राह रिश्तों के,
इक नए से मिल गए.....

नाजुक डोर से इक,
दो हृदय, आज जुड़ से गए...

कोटि-कोटि कर,
आशीष देने को उठे,
कितने ही स्वर,
शंख नाद करने लगे,
ये सैकड़ों भ्रमर,
डाल पर मंडराने लगे,
डाल रिश्तों के,
इक नए से मिल गए.....

नाजुक डोर से इक,
दो हृदय, आज जुड़ से गए...

Thursday, 18 October 2018

उद्वेलित हृदय

मेरे हृदय के ताल को,
सदा ही भरती रही भावों की नमीं,
भावस्निग्ध करती रही,
संवेदनाओं की भीगी जमीं.....

तप्त हवाएं भी चली,
सख्त शिलाएँ आकर इसपे गिरी,
वेदनाओं से भी बिधी,
मेरे हृदय की नम सी जमीं.....

उठते रहे लहर कई,
कितने ही भँवर घाव देकर गई,
संघात ये सहती रही,
कंपकंपाती हृदय की जमी....

अब नीर नैनों मे लिए,
कलपते प्राणों की आहुति दिए,
प्रतिघात करने चली,
वेदनाओं से बिंधी ये जमीं....

क्यूँ ये संताप में जले,
अकेला ही क्यूँ ये वेदना में रहे,
रक्त के इस भार से,
उद्वेलित है हृदय की जमीं....

इन्तजार

बस यूँ ही, उनसे हुई थी गुफ्तगू दो चार,
शायद उन्हें था, उस तूफाँ के गुजर जाने का इन्तजार!

था मुझे भी एक ही इन्तज़ार...,
वो तूफाँ, गुजरता रहे इसी राह हर-बार!
होती रही अनवरत बारिशें,
दमकती रहे दामिनी, गरजते रहें बादल,
लड़खड़ाते रहें उनके कदम,
रुकते रहें, दर मेरे ही वो बार-बार.....

था सदियों किया मैंने इन्तजार...,
एक पल, काश वो मुझ संग लेते गुजार!
सजाता मैं तन्हाई अपनी,
रोकता उन्हें, थामकर उनका ही आँचल,
या रोक देता वक्त के कदम,
मिन्नतें यही, मैं करता उनसे हजार....

था शायद उन्हें भी ये इन्तजार....,
कोई सदा, कर गई थी उन्हे भी बेकरार!
दमकने लगी थी दामिनी,
गरजने लगे थे, कयामत के वही बादल,
निकल पड़े थे उनके कदम,
चौखट मेरे, आ पड़े वो पहली बार....

बस यूँ ही, उनसे हुई थी गुफ्तगू दो चार,
न था अब उन्हें, किसी तूफाँ के गुजरने का इन्तजार!

Tuesday, 16 October 2018

नींद

कब नींद ढ़ुलकती है, नैनो में कब रात समाता है....

सांझ ढले यूँ पलकों तले,
हौले-हौले कोई नैनों को सहलाता है,
ढ़लती सी इक राह पर,
कोई हाथ पकड़ कहीं दूर लिए जाता है.....
बंद पलकों को कर जाता है....

कब नींद ढ़ुलकती है, नैनो में कब रात समाता है....

उभर आते हैं दृश्य कई,
पटल से दृश्य कई, कोई मिटा जाता है,
तिलिस्म भरे क्षण पर,
रहस्यमई इक नई परत कोई रख जाता है.....
बंद पलकों को कर जाता है....

कब नींद ढ़ुलकती है, नैनो में कब रात समाता है....

बेवश आँखें कोई झांके,
कोई अंग-अग शिथिल कर जाता है,
कोई यूँ ही बेवश कर,
खूबसूरत सा इक निमंत्रण लेकर आता है.....
बंद पलकों को कर जाता है....

कब नींद ढ़ुलकती है, नैनो में कब रात समाता है....

नींद सरकती है नैनों में,
धीरे से कोई दूर गगन ले जाता है,
जादू से सम्मोहित कर,
तारों की उस महफिल में लिए जाता है.....
बंद पलकों को कर जाता है....

कब नींद ढ़ुलकती है, नैनो में कब रात समाता है....

Sunday, 14 October 2018

1,11,111 Views

1,11,111 Views



समस्त सम्माननीय पाठकों का हार्दिक धन्यवाद
दिनांक: 14.10.2018

मत कर इतने सवाल

कुछ तो रखा कर, अपने चेहरे का ख्याल......
मत कर, इतने सवाल!

ये उम्र है, ढ़लती जाएगी!
हर शै, चेहरों पर रेखाएँ अंकित कर जाएंगी,
छा जाएगा वक्त का मकरजाल!
मत कर इतने सवाल.....!

समय की, है ये मनमानी!
बेरहम समय ये, किस शै की इसने है मानी?
रेखाओं के ये बुन जाएगा जाल!
मत कर इतने सवाल.....!

बदलेगा, ये वक्त भी कभी!
डगर इक नई, अपनी ही चल देगा ये कभी!
वक्त की थमती नही कहीँ चाल!
मत कर इतने सवाल.....!

ले ऐनक, तू बैठा हाथों में!
रंग कई, नित भरता है तू अपनी आँखों में!
उम्र के रंगों का क्या होगा हाल?
मत कर इतने सवाल.....!

झुर्रियाँ, ले आएंगी ये उम्र!
इक राह वही, अन्तिम चुन लाएगी ये उम्र!
क्यूँ पलते मन में इतने मलाल?
मत कर इतने सवाल.....!

कुछ तो रखा कर, अपने चेहरे का ख्याल......
मत कर, इतने सवाल!

Saturday, 13 October 2018

ठहरी सी रात

ठहरी है क्यूँ ये रात यहीं .....
क्या मेरे ही संग, नीरवता का मन भरा नहीं?

हर क्षण, संग रही मेरे क्षणदा,
खेल कौन सा, जो संग मेरे इसने ना खेला!
ऊब चुका मैं, क्षणदा थकती ही नहीं,
आँगन मेरे ही है ये क्यूँ रुकी?

ठहरी है क्यूँ ये रात यहीं .....
क्या मेरे ही संग, नीरवता का मन भरा नहीं?

नभ के तारे, ढ़ल चुके हैं सारे,
वो डग भरती, निकल पड़ी घर को कौमुदी!
झांक रहा, वो क्षितिज से अंशुमाली,
क्यूँ बैठी है मेरे घर विभावरी?

ठहरी है क्यूँ ये रात यहीं .....
क्या मेरे ही संग, नीरवता का मन भरा नहीं?

मुझको ही, तू जाने दे विभावरी!
कुछ क्षण को, मै भी तो देखूँ वो प्रभाकिरण!
भर लूँ नैनों में, थोड़ी सी वो जुन्हाई,
देखूँ दिनकर की वो अंगड़ाई?

ठहरी है क्यूँ ये रात यहीं .....
क्या मेरे ही संग, नीरवता का मन भरा नहीं?
.............................................................
अर्थ:-
विभावरी, क्षणदा, नीरवता : - रात्रि, रात
जुन्हाई, कौमुदी : - चाँदनी
अंशुमाली, दिनकर : - सूर्य

Wednesday, 10 October 2018

अब कहाँ वो कहकशाँ

वो कहकशाँ, वो कदमों के निशां अब है कहाँ....

न जाने, गुजरा है अब कहाँ वो कारवां,
धूल है हर तरफ,
फ़िज़ाओ में पिघला सा है धुआँ.....

गुजर चुके है जो, वक्त की तेज धार में,
वो रुके है याद में,
वो शाम-ओ-शहर अब हैं कहाँ.....

कभी जो कहते थे, दुनिया बसाऊंगा मै,
रातें सजाऊंगा मैं,
वो ही सूनी कर गए हैं बस्तियां.....

भिगोती थी कभी, कहकहों की बारिशें,
चुप है वो फुहारें,
है वीरान सा अब वो कहकशाँ......

अब ढ़ूंढता हूँ, फिर वही शाम-ओ-शहर,
वो रास्ते दर-बदर,
मिट चुके है जो कदमों के निशां.....

वो कहकशाँ, वो कदमों के निशां अब है कहाँ....

Sunday, 7 October 2018

ख्याल - धूरी के गिर्द

जागृत सा इक ख्याल और सौ-सौ सवाल.....

हवाओं में उन्मुक्त,
किसी विचरते हुए प॔छी की तरह,
परन्तु, रेखांकित इक परिधि के भीतर,
धूरी के इर्द-गिर्द,
जागृत सा भटकता इक ख्याल!

इक वक्रिय पथ पर,
केन्द्राभिमुख फिरता हो रथ पर,
अभिकेन्द्रिय बल से होकर आकर्षित,
उस धूरी की ओर,
उन्मुख होता रहता इक ख्याल!

जागे से ये हैं सपने,
ये ख्याल कहाँ है अपने वश में,
ख़्वाहिशें हजार दफ़न हैं सवालों में,
धूरी की आश में,
सवालों में पिसता इक ख़्याल!

जागृत सा इक ख्याल और सौ-सौ सवाल.....

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

पुलवामा (14.02.2019)

पुलवामा की आज 14.02.2019 की, आतंकवादी घटना और नौजवानों / सैनिकों की वीरगति से मन आहत है.... प्रश्न ये, देश की स्वाभिमान पर, प्रश्न ये,...

विगत 30 दिनों में ज्यादा लोकप्रिय रचनाएँ