Sunday, 17 June 2018

दो पग साथ चले

दो पग पथ पर तुम क्या मेरे साथ चले......

ख्वाब हजारों आकर मुझसे मिले,
जागी आँखों में अब रात ढ़ले,
संग तारों की बारात चले,
सपनों में अब मन को आराम मिले!

दो पग पथ पर तुम क्या मेरे साथ चले......

कब दिन बीते जाने कब रैन ढले,
उम्मीद हजारो हम बांध चले,
उस पथ मेरे अरमान चले,
तुमको ही हम अपना मान चले!

दो पग पथ पर तुम क्या मेरे साथ चले......

पथ उबड़-खाबड़ मखमल से लगे,
पग पग कितने ही फूल खिले,
ये ख्वाब हकीकत में ढ़ले,
कितनी ही जन्मों के सौगात मिले!

दो पग पथ पर तुम क्या मेरे साथ चले......
Post a Comment

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

अजनबी चाह

बाकी रह गई है, कोई अजनबी सी चाह शायद.... है बेहद अजीब सा मन! सब है हासिल, पर अजीज है, बस चाह वो, है अजनबी, पर है खास वो, दूर है, पर है ...

विगत 30 दिनों में ज्यादा लोकप्रिय रचनाएँ