Sunday, 11 June 2017

अतृप्ति

अतृप्त से हैं कुछ,
व्याकुल पल, और है अतृप्त सा स्वप्न!
अतृप्त है अमिट यादों सी वो इक झलक,
समय के ढ़ेर पर......
सजीव से हो उठे अतृप्त ठहरे वो क्षण,
अतृप्त सी इक जिजीविषा, विघटित सा होता ये मन!

अनगिनत मथु के प्याले,
पी पीकर तृप्त हुआ था ये मन,
शायद कहीं शेष रह गई थी कोई तृष्णा!
या है जन्मी फिर.......
इक नई सी मृगतृष्णा इस अन्तःमन!
क्युँ इन इच्छाओं के हाथों विवश होता फिर ये मन?

अगाध प्रेम पाकर भी,
इतना अतृप्त क्युँ है यह जीवन?
जग पड़ती है बार-बार फिर क्युँ ये तृष्णा?
क्युँ जग पड़ते है.....
प्रतिक्षण इच्छाओं के ये फन?
विष पीने को क्युँ विचलित हो उठता है फिर ये मन?

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

स्वार्थ

शायद, मैं तुझमें अपना ही स्वार्थ देखता हूं.... तेरी मोहक सी मुस्काहट में, अपने चाहत की आहट सुनता हूं तेरी अलसाए पलकों में, सलोने जीव...

विगत 30 दिनों में ज्यादा लोकप्रिय रचनाएँ