My Proud: Daughter's Contribution

http://meghna-sinhaaaa.github.io

Saturday, 31 December 2016

गतवर्ष-नववर्ष

बीत चला है अब गतवर्ष,
कितने ही मिश्रित अनुभव देकर,
आश-निराश के पल कितने ही,
ले चला वो दामन में अपनी समेटकर।

जा रहा वो हमसे दूर कही,
फिर ना वापस आने को,
याद दिलाएगा हरपल अपनी वो,
बीते लम्हों की भीनी सी सौगातें देकर।

रुनझुन करती आई थी वो,
पहलू में हर जीवन के संग खेली वो,
कहीं रंगोली तो कहीं ठिठोली,
कितने ही रंगों संग हो ली वो हँसकर।

सपने कितने ही टूटते देखे उसने,
अपनों का संग कितने ही छूटते देखे उसने,
पर निराश हुआ ना पलभर को भी वो,
नवजीवन ले झूमा फिर वो आशा की थुन पर।

अब गले लगाकर नववर्ष का,
सहर्ष स्वागत कर रहा है गतवर्ष,
विदाई की वेला में झूम रहा वो,
कितने ही नव अरमानों को जन्म देकर।

Friday, 30 December 2016

मधुक्षण ले फिर आओ तुम

प्रिये, तुम फिर से आओ मधु-क्षण लेकर इस पल में....
है सूना सा मेरे हृदय का आँगन ,
है आतुर यह चिन्हित करने को तेरा आगमन...
यह अनहद अनवरत प्रतीक्षा कब तक?
लघु जीवन यह, लंबा ....इंतजार...!
मधुक्षण ले तुम आ जाओं फिर एक बार !

क्युँ मुझको है एक हठीला सा विश्वास?
तुम्हारा निश्चय ही आने का ,
बेबस मन है क्युँ हर पल अकुलाहट में,
चू पड़ते हैं क्युँ इन आँख से आँसू .........
क्युँ तुमसे है मुझको अनहद प्यार....?
मधुक्षण ले तुम आ जाओं फिर एक बार !

तुम घन सी लहराओं एक बार !
आतुर हैं मेरी भावनाओं के बादल ..
माधूर्य बरसाने को तुम पर,
समर्पित हूँ मैं पूर्णतः तुमको साधिकार !
मधुक्षण ले तुम आ जाओं फिर एक बार !

हर आहट पर होता है मुझको ....
बस तुम्हारे आने का भ्रम,
खुली ये खिड़की, खुला ये आंगन,
और दो आँखें हैं नम...
बस शेष इतना ही  आभार.................!!!
मधुक्षण ले तुम आ जाओं फिर एक बार !

यदि कहूँ मैं तुम हो ...
मेरे मधुक्षण की माधूर्य मधुमिता,
अतिरेक न होगा ये तनिक भी, हो गर तुमको विश्वास,
तुम चाहो तो आकर ले लेना....
मेरी इन सिक्त बाहों का हार.......
मधुक्षण ले तुम आ जाओं फिर एक बार !

Thursday, 29 December 2016

आहत संवेदना

घड़ी सांझ की सन्निकट है खड़ी,
लग रहा यूँ हर शै यहाँ बिखरी हुई है पड़ी,
अपना हम जिसे अबतक कहते रहे,
दूर हाथों से अब अपनी ही वो परछाई हुई।

विरक्त सा अब हो चला है मन,
पराया सा लग रहा अब अपना ही ये तन,
बुझ चुकी वो प्यास जो थी कभी जगी,
अपूरित सी कुछ आस मन में ही रही दबी।

थक चुकी हैं साँसे, आँखें हैं भरी,
धूमिल सी हो चली हैं यादों की वो गली,
राहें वो हमें मुड़कर पुकारती नही,
गुमनामियों में ही कहीं पहचान है खोई हुई।

संवेदनाएँ मन की तड़पती ही रही,
मनोभाव हृदय के मेरे, पढ ना सका कोई,
सिसकता रहा रूह ताउम्र युँ ही,
हृदय की दीवारों से अब गूँज सी है उठ रही।

बीत चुका भले ही वक्त अब वो,
पर टीस उसकी, आज भी डंक सी चुभ रही,
अब ढह चुके हैं जब सारे संबल,
काश ! ये व्यथा हमें अब वापस ना पुकारती !

शिकायतें ये मेरी आधार विहीन नहीं,
सच तो है कि सांझ की ये घड़ी भी हमें लुभाती,
गर संवेदनाएँ मेरी भावों को मिल जाती,
तब ये सांझ की घड़ी भी हमें भावविभोर कर जाती!

Friday, 16 December 2016

दूर वहाँ

न है कोई, इक मेरे सिवा उस भूल-भुलैया के उस पार..

हाथों से जैसे छिटकी थी वो रश्मि-किरण सी,
ज्युँ दूर गगन में वापस जाता हो पाखी,
दूर होता रहा मैं उससे जितना,
उसकी यादें सिमटती रही उतनी ही पास भी.....

उस अंतिम छोर में अब कोई प्रतीक्षारत नहीं,
ना ही इस मोड़ में भी है कोई,
मैं रहा सदैव एकाकी, बूढ़ा बरगद, सिमटती नदी,
विलीन हुए सब सांध्य कोलाहल,
उड़ गए सुदूर जैसे सारे प्रवासी पाखी।

पिघली है बर्फ़ फिर इन वादियों में,
या फिर दिल में जगी है कोई आस पुरानी,
गोधूलि बेला,सिंदूरी आकाश, तुलसी तले जलता दीप,
वही अनवरत झुर्रियों से उभरती हुई,
तेरी मेरी जीवन की अनन्त अधुरी सी कहानी।

सपाट से हो चले वो तमाम स्मृति कपाट
अपने आप जब हो चलें हैं बंद,
तब अंतरपट खोले वो करती हो इंतजार
उस नव दिगंत असीम के द्वार,
शायद चलती रहे निरंतर यह असमाप्त अन्तर्यात्रा !

पर कोई तो नहीं मेरे लिए उस भूल-भुलैया के उस पार..

Monday, 5 December 2016

प्रत्याशा

बस है उसे इक प्रत्युत्तर की आशा,
लेकिन गहराती रही हर पल उस मन में इक निराशा,
हताश है अब वो मन और हतप्रभ जरा सा...

सुबहो-शाम आती है जब कोई आवाज,
प्रतिध्वनि जब कोई, मन पर दे जाती है दस्तक,
जाग पड़ती है उस मन की सोई सी प्रत्याशा,
चौंक उठता है वो, मन मे लिए इक झूठी सी आशा...

उसे बहुत देर तक, दी थी उसने आवाज,
सूखे थे कंठ हलक तक, रहा पुकारता वो अंत तक,
भौचक्की आँखों से अब निहारता आकाश,
लेकिन छूट चुका है धीरज, टूट चुकी है अब आशा.....

पहुँच ना सकी वो ध्वनी, उन कानों तक,
या थिरकते लब उसके शायद कर न सकी थी बातें,
या रह गई थी अनसुनी उसकी शिकायतें,
लेकिन है उस मन में, अब भी इक अटूट भरोसा....

बस है उसे अब भी, इक प्रत्युत्तर की आशा,
भले गहराती रहे कितनी उस मन में पलती निराशा,
बस है वो मन हताश थोड़ा और हतप्रभ जरा सा...

Sunday, 4 December 2016

क्या महज कल्पना?

क्युँ मैं हर पल सोचता हूँ बस तुमको ही,
यह जानकर भी कि तुम महज इक कल्पना नहीं,
इक स्वर, इक रूप साकार सी हो तुम,
जागृत सपनों में रची बसी मूर्त स्वरूप हो तुम,
विचरती हो कहीं न कहीं इन्ही हवाओं में,
गाती हो धुन कोई इन्ही फिजाओं में,
फिर भी, न जाने क्यूँ ढूंढता हूँ मैं तुम्हें ख्यालों में!

क्यूँ ये मन सोचता है हर पल तुझको ही सवालों में?

लगता है कभी, जैसे बिखरे से होंगे बाल तेरे,
रख न पाती होगी खुद अपना ख्याल तुम,
गुम सी हो चुकी हो, उलझनों में जिंदगी की कहीं,
पर तुम परेशानियाँ अपनी बयाँ करती नही,
संभालकर दामन के काटें रख रही हो सहेजकर,
पर...! क्यूँ मैं करता हूँ हर पल तेरी फिकर?

क्यूँ! बस तुझको ही, ये मन सोचता है हर पल इधर?

रब से मैं मांग लेता हूँ, बस तेरी ही खैरो-खबर,
दुआएँ तुझको मिले, नजरें तू फेरे जिधर,
बिखरी हुई तेरी जिन्दगी, बस पल में यूँ ही जाए सँवर,
मिल जाए तुझको हर परेशानियों के हल,
सँवरती ही रहो, जब भी ख्यालों में तुम करो सफर,
फिर सोचता हूँ मैं, अधिकार क्या है मेरा तुम पर?

क्यूँ! ये मन तुझको सोचकर, बस करता है तेरी फिकर?

खामोशियों के छंद

स्तब्ध निशान्त सा है ये आकाश,
स्निग्ध खामोश सी है ये समुन्दर की लहरें,
गुमसुम सी मंद बह रही ये हवाएँ,
न जाने चाह कौन सी मन में दबाए,
तुम ही कुछ बोल दो, कोई छंद खामोशियों को दो....

कहना ये मुझसे चाहती हैं क्या,
निःस्तब्ध सी ये मन में सोचती है क्या,
खोई है कहाँ इनकी गतिशीलता,
यहाँ पहले न थी कभी इतनी खामोशियाँ,
तुम ही कुछ बोल दो, कोई छंद खामोशियों को दो....

शायद बात कोई इनके मन में है दबी,
या ठेस मुझसे ही इसकी मन को है लगी,
चुपचाप अब वो क्युँ रहने लगी,
नासमझ मैं ही हूँ, ना मैं उसकी मन को पढ़ सका,
तुम ही कुछ बोल दो, कोई छंद खामोशियों को दो....

कुछ वजह! मैं भी जान पाता अगर,
मन में है उसके क्या? ये लग जाती मुझको खबर,
मनाने को बार-बार जाता मैं उसकी डगर,
पर गहरा है राज ये, मिन्नतें करूँ तो मैं किधर,
तुम ही कुछ बोल दो, कोई छंद खामोशियों को दो....

ऐ आकाश! तू बादलों की चादर बिछा,
ऐ लहरें! तू आ मचल मेरी पाँवों को दे भीगा,
ऐ हवाएँ! तू राग कोई मुझको सुना,
मन की गिरह खोल दे अनकही मुझको सुना,
अब तो कुछ बोल दो, कोई छंद खामोशियों को दो....

Tuesday, 29 November 2016

मेरी स्मृतियाँ

अविस्मरणीय सी कुछ स्मृतियाँ......
या शीतल सुखदायी, या हों अति-दुखदायी,
अविस्मृत,अक्षुण्ण अनंत काल तक रवाँ,
बिसारे बिसरती है ये कहाँ?

अंश कुछ स्मृतियों के रहते हैं बाकि......
या मीठी हो ये स्मृतियाँ, या हों ये खट्टी!
स्मृति कुछ ऐसी ही हूँ मैं भी,
है बहुत मुश्किल भुला देना, यूँ ही मुझको भी!

माना, पत्थर सी शक्ल है हृदय की तेरी,
पर कहीं शेष रह न गई हों यादें मेरी?
टटोल लेना अपनी हृदय को तुम.....
निशान मेरी स्मृति के तुम पाओगे वहाँ भी!

आड़ी-टेढ़ी लकीरों सी पत्तों पर अंकित,
ये पल पल सूख सूख गहराएँगी होकर अमिट,
मानस पटल जब कुरेदोगे तुम ....
उभर आएँगी दबी सी मासूम स्मृतियाँ मेरी!

अक्षुण्ण हूँ हर पल तेरे मन में मैं,
अभिन्न तुझसे हूँ, तेरी यादों की तरंग में हूँ मैं,
साँस -साँस जीता हूँ मैं तुझमें....
झुठला ना पाओगे, स्मृति बिसार न पाओगे मेरी!

Friday, 25 November 2016

वृत्तान्त

अटूट लड़ी हो इस जीवन वृत्तान्त की तुम,
अर्धांग सर्वदा ही जन्म-जन्मातर रही हो तुम,
न होते कंपन इस हृदय के गलियारों में,
उभर कर न आती तस्वीर कोई इन आखों में,
न लिख पाता वृत्तान्त मैं जीवन की राहों के,
मेरे पिछले जीवन की ही कोई अटूट कड़ी हो तुम....

लिख जाता हूँ मैं कितने ही पन्ने तेरी लय पर,
अनलिखे कितने ही कोरे पन्ने, फिर होते हैं मुखर,
विह्वल हो उठते हैं शब्दों के भाव इन पन्नों पर,
शक्ल फिर तेरी ही उभर आती है लहराकर,
अर्धांग मेरी, तुम सिमट जाती हो वृत्तान्त बनकर,
मेरे अगले जन्म की कड़ी, कोई लिख जाती हो तुम...

सीधा सा मेरा वृत्तान्त, बस तुम से तुम तक,
इस जन्म पुकार लेता हूँ बस तुम्हे मैं अन्नु कहकर,
गीतों की गूँजन में मेरे, बजते हैं तेरे ही स्वर,
तैरती आँखों में तेरी, जब निखर उठती है तस्वीर मेरी,
प्रेरित होता हूँ मैं वृत्तान्त नई लिख जाने को तब,
जन्म-जन्मांतर की कोई लड़ी सी बन जाती हो तुम...

तिथि: 24/11/2016...
(हमारे शादी की 23वीं सालगिरह पर अर्धांग को सप्रेम)

Saturday, 19 November 2016

हुई है शाम

हुई है शाम, प्रिये अब तुम गुनगुनाओ........!

लबों से बुदबुदाओ, तराने प्रणय के गाओ,
संध्या किरण की लहर पर, तुम झिलमिलाओ,
फिर न आएगी लौटकर, ये शाम सुरमई,
तुम बिन ये गा न पाएगी, प्रणय के गीत कोई,
गीत फिर से प्रणय के, तुम वही दोहराओ,

हुई है शाम, प्रिये अब तुम गुनगुनाओ........!

ऐ मन के मीत मेरे, तुम पंछियों सी चहचहाओ,
सिमटती कली सी, तुम लजाती दुल्हन बन आओ,
फिर लौट कर न आएगी, ये शाम चम्पई,
तुम बिन कट न पाएगी, ये रुत, ये प्रहर, ये घड़ी,
तराने मिलन के लिखकर, तुम राग में सुनाओ,

हुई है शाम, प्रिये अब तुम गुनगुनाओ........!

चाँद तारों से मिलने, तुम भी फलक पे आओ,
रूठो ना मुझसे यूँ तुम, दिल की पनाहों में आओ,
झूमकर फिर ना चलेगी, लौटी जो पुरवाई,
तुम बिन न खिल सकेगा, फलक पे चाँद कोई,
प्रणय के तार छेड़कर, अनुराग फिर जगाओ,

हुई है शाम, प्रिये अब तुम गुनगुनाओ........!

Thursday, 17 November 2016

तराना प्रणय का

सोचा था मैंने, गाऊँगा मैं भी कभी तराना प्रणय का....

गाएँ कैसे इसे हम, अब तुम ही हमें ये बताना,
ढ़ल रही है शाम, तुम सुरमई इसे बनाना,
अभी सहने दो मुझको, असह्य पीड़ा प्रणय का,
निकलेगी आह जब, इसे धुन अपनी बनाना।

सोचा था मैंने, गाऊँगा मैं भी कभी तराना प्रणय का....

अभी गाऊँ भी कैसै, मैं ये तराना प्रणय का,
आह मेरी अब तक, सुरीली हुई है कहाँ,
बढ़ने दो वेदना जरा, फूटेगा ये तब बन के तराना,
तार टूटेंगे मन के, बज उठेगा तराना प्रणय का।

सोचा था मैंने, गाऊँगा मैं भी कभी तराना प्रणय का....

कभी फूटे थे मन में, वो तराने प्रणय के,
लिखी है जो दिल पे, आकर रुकी थी ये लबों पे,
एहसास थी वो इक शबनमी, पिघलती हुई सी,
कह भी पाऊँ न मैं, दिल की सब बातें किसी से।

सोचा था मैंने, गाऊँगा मैं भी कभी तराना प्रणय का....

छेड़ना ना तुम कभी, फिर वो तराना प्रणय का,
अभी मैं लिख रहा हूँ, इक फसाना हृदय का,
फफक रहा है हृदय अभी, कह न पाएगा आपबीती,
नगमों में ये ढ़लेंगे जब, सुनने को तुम भी आना।

सोचा था मैंने, गाऊँगा मैं भी कभी तराना प्रणय का....

Monday, 14 November 2016

चुपचाप

हाँ, बस चुपचाप ....

चुपचाप ....जब आँखों की भाषा में कोई,
गिरह मन की खोलता है चुपचाप,

चुपचाप .... जब साँसों की लय पर कोई,
हृदय की धड़कन गिनता है चुपचाप,

चुपचाप ....जब कदमों की आहट पर कोई,
बेताबी दिल की सुन लेता है चुपचाप,

चुपचाप ....अंतःस्थ प्यार का बादल यूँ ही,
क्षितिज से उमड़ पड़ता है चुपचाप,

चुपचाप ....जब दिल की आँखों से यूँ ही,
कुछ शर्माकर वो देखते है चुपचाप,

चुपचाप .... ये मेरा छोटा सा घर  यूँ ही,
संसार मेरा बन जाता है चुपचाप।

हाँ, बस चुपचाप ....

आ पास मेरे

आ पास मेरे ...पल दो पल, आ पास मेरे।

फिरा लूँ ऊँगली,
तेरे गुलाबी आँखों पर,
लाल लाल उन होठों पर,
लहराते इन गेसुओं पर,
चुरा लूँ झील से तेरे,
नैनों का काजल,
आ पास मेरे ...पल दो पल, आ पास मेरे।

गुलाब के फूलों सा,
महका तेरा बदन,
झूम उठी प्रकृति सुन,
छम-छम की सरगम,
बजा लूँ होकर विह्वल
रूनझुन तेरी पायल,
आ पास मेरे ...पल दो पल, आ पास मेरे।

सूरज संग किरण,
बादल संग बिजली,
हम जी रहे जैसे,
फूलों संग तितली,
तस्वीर तेरी आँखों में,
रहती हर पल,
आ पास मेरे ...पल दो पल, आ पास मेरे।

कुछ तो कहो

कुछ तो कहो मेरे अर्धांग.....

सिले से लब, भीगे से दो नैन,
चुप न रहो कहो मेरे अर्धांग,
लब हिलने दो कह दो वृतान्त,
कुछ बोलो........

सिंदूर का भरम, बिंदी में हम,
देह पत्र तुम, मैं हूँ कलम,
गम न सहो ऐ मेरे मृगान्त,
कुछ पिघलो.......

भौंहें तनी सी , नयन के तेवर,
कमर प्रत्यंचा सी, अनोखे जेवर,
मुझसे कहो कुछ मेरे सर्वांग,
कुछ दो लो........

कुछ तो कहो मेरे अर्धांग.....

कशिश

कुछ तो है कशिश बातों मे तेरी, जो खींच लाई है मुझे...

घूँघरुओं की मानिंद लगते हैं शब्द तेरे,
दूर मंदिर में जैसे कोई कर रहा हो स्वर वंदन,
सुर मधुर सा कोई गाने लगी हो कोयल,
वीणा के तार कहीं झंकृत हुए हों अचानक ऐसे,
कि जैसे छम से आ टपकी हों बारिश की बूँदें!

कुछ तो है कशिश बातों मे तेरी, जो खींच लाई है मुझे...

आत्माओं के संस्कार की प्रकट रूप है वाणी,
सरस्वती के वरदान का इक स्वरूप है वाणी,
वाणी में किसी के यूँ ही होता नहीं इतना मिठास,
कशिश किसी की शब्दों में आता नहीं चुपचाप,
यूँ ही कोई, किसी का बनता नहीं तलबगार।

कुछ तो है कशिश बातों मे तेरी, जो खींच लाई है मुझे...

Sunday, 13 November 2016

शायद

भूल जाना तुम, वो शिकवे-शिकायतों के पल....

शायद! इक भूल ही थी वो मेरी!
सोचता था कि मैं जानता हूँ खूब तुमको,
पर कुछ भी बाकी न अब कहने को,
न सुनने को ही कुछ अब रह गया है जब,
लौट आया हूँ मैं अपने घर को अब!

शायद! यूँ ही थी वो मुस्कराहटें!
खिल आई थी जो अचानक उन होंठो पे,
कुछ सदाएँ गूँजे थे यूँ ही कानों में,
याद करने को न शेष कुछ भी रह गया है जब,
क्या पता तुम कहाँ और मैं कहाँ हूँ अब!

शायद! वो एक सुंदर सपन हो मेरा!
जरा सा छू देने से, कांपती थी तुम्हारी काया  ,
एक स्पर्श से सिहरता था अस्तित्व मेरा,
स्थूल सा हो चुका है अंग-प्रत्यंग देह का जब,
जग चुका मैं उस मीठी नींद से अब!

शायद! गुम गई हों याददाश्त मेरी!
या फिर! शब्दों में मेरे न रह गई हो वो कशिश,
या दूर चलते हुए, विरानों में आ फसे हैं हम,
या विशाल जंगल, जहाँ धूप भी न आती हो अब,
शून्य की ओर मन ये देखता है अब!

शायद! छू लें कभी उस एहसास को हम!
पर भूल जाना तुम, वो शिकवे- शिकायतों के पल....
याद रखना तुम, बस मिलन के वो दो पल,
जिसमें विदाई का शब्द हमने नहीं लिखे थे तब,
दफनाया है खुद को मैने वहीं पे अब!

भूल जाना तुम, वो शिकवे- शिकायतों के पल....

Friday, 11 November 2016

अतीत

तट पे आज खड़ा ये जीवन,
ताकता उस तट को,
छोड़ आया अतीत वो जिस तट,
फिर ये नाव बही क्यूँ उस तट को।

कह रहा है अब अतीत मेरा,
मेरे वर्तमान से आकर,
हो न सका जो तेरा,
क्यूँ रह गया तू उसका ही होकर।

अतीत में तब खोया था तू ने,
खुद से ही खुद को,
हो न सका हासिल लेकिन,
कुछ भी तो जीवन-भर तुझको।

अब सामने खड़ा अतीत तेरा,
वर्तमान की राहों को घेरे,
कच्चे धागों से मन को ये फेरे,
क्या तोड़ पाएगा तू इस बंधन को?

Thursday, 10 November 2016

सिहरन

सिहर सिहर कर ....
आज अधरों से फूटी है दो बात,
चुप-चुप ज्युँ ....
गई हो रौशनी छिप छिप कर आई हो रात,
विवश हुए हम इतने बदले हैं ये कैसे हालात।

सिमट सिमट कर  ....
रह गई अब इस मन की अभिलाषा,
विलख-विलख ज्यूँ,
रोई हो बदली और आकाश हुआ हो प्यासा,
विवश हुए हम इतने छूट चुकी दामन से आशा।

बहक बहक कर  .....
क्षितिज पर छाई है भरियाई सी शाम,
सहम-सहम ज्यूँ,
खोये से है हम और नदी का तट हो निष्काम,
विवश हुए हम इतने भीगे-भीगे नैन हुए हैं नम।।

अतीत हूँ मैं

अतीत हूँ मैं बस इक तेरा, हूँ कोई वर्तमान नहीं...
तुमको याद रहूँ भी तो मैं कैसे,
मेरी चाहत का तुझको, है कोई गुमान नहीं,
झकझोरेंगी मेरी बातें तुम्हें कैसे,
बातें ही थी वो, आकर्षण का कोई सामान नहीं।

मेरी आँखों के मोती बन-बनकर टूटे हैं सभी,
सच कहता हूँ उन सपनों में था मुझको विश्वास कभी,
सजल नयन हुए थे तेरे, देखकर पागलपन मेरा,
अब हँसता हूँ मैं यह कहकर "लो टूट चुका बन्धन मेरा!"
अतीत के वो क्षण, अब मुझको हैं याद नहीं।

क्या जानो तुम कि एक विवशता से है प्रेरित...
जीवन सबका, जीवन मेरा और तेरा !
पर यह विवशता कब तक रौंदेगी जीवन को भी,
हो जाएंगे आँखों से ओझल जीवन के ये पृष्ठ सभी,
नव-यौवन की ये हलचल, हो जाएंगी खाक यहीं।

अपनाने में तुमको मैंने अपनेपन की परवाह न की,
पर क्रंदन सुनकर भी मेरी, तूने इक आह न की,
आह मेरे अब उभरे हैं बनकर गीत,
पर दुनिया मेरे गीतों में अपनापन पाए भी तो क्या?
बोल मेरे उन गीतों के, रह जाने हैं बस यहीं।

अतीत हूँ मैं बस इक तेरा, हूँ कोई वर्तमान नहीं.....

एक और इंतजार

रहा इस जनम भी, एक और अंतहीन इंतजार....!
बस इंतजार, इंतजार और सदियों का अनथक इंतजार!

इंतजार करते ही रहे हम सदियों तुम्हारा,
कब जाने धमनियों के रक्त सूख गए,
पलकें जो खुली थी अंतिम साँसों तक मेरी,
जाने कब अधखुले ही मूँद गए,
इंतहा इंतजार की है ये अब,
तुमसे मिलने को पाया हमने ये जन्म दोबारा...

रहा इस जनम भी लेकिन एक और अंतहीन इंतजार...!

गिन न सके अनंत इंतजार की घड़ियों को हम,
चुन न सके वो चंद खुशियाँ उन राहों से हम,
दामन में आई मेरी बस इक तन्हाई,
और मिला मुझको मरुभूमि सा अंतहीन इंतजार,
और कुछ युगों का बेजार सा प्यार,
हां, बस ..  कुछ युगों का एक और इंतजार.....।

किया इस जनम भी हमनें एक और अंतहीन इंतजार..!

ये युग तो ऐसे ही बस पल में बीत जाएंगे,
तेरी यादों में हम युगों तक ऐसे ही रीत जाएंगे,
भूला न सकोगे जन्मों तुम मुझको भी,
इंतजार तुझको भी बस मेरी ही,
मिटा सकोगे ना तुम भी ये रेखाएँ हाथों की
मृत्यु जब होगी सामने आएंगे याद तुम्हें बस हम ही......

इस जनम तुमको भी है एक और अंतहीन इंतजार....!

शायद तब होगी अंत मेरी ये इंतजार,
जब होगी अपनी इक अंतहीन सी मुलाकात,
व्योम मे उन बादलों के ही पीछे कहीं,
तब साधना होगी मेरी सार्थक,
पूजा होगी मेरी तब सफल,
युगों युगों के इंतजार का जब मिल जाएगा प्रतिफल.....

पर, रहा इस जनम भी, एक और अंतहीन इंतजार....!
बस इंतजार, इंतजार और सदियों का अनथक इंतजार!

Monday, 7 November 2016

अतिरंजित पल

हैं कितने सम्मोहक ये, उनींदे से अतिरंजित पल......

कतारें दीप की जल रही हर राह हर पथ पर,
जन-सैलाब उमर आया है हर नदी हर घाट पर,
हो रहा आलोकित, अंधियारे मन का प्रस्तर।

हैं कितने मनभावन ये, उनींदे से अतिरंजित पल......

मंद-मंद पुरवैयों संग घुमर रहा नभ पर बादल,
बिखेरती किरणें सिंदूरी वो सूरज अब रहा निकल,
हो रहा सुशोभित, लाल-पीत वर्णों से मुखमंडल।

हैं कितने आकर्षक ये, उनींदे से अतिरंजित पल......

प्रकाशित है नभमंडल, प्राणमयी हुए हैं मुखरे,
कली-कली मुस्काई है, रंग फूलों के भी हैं निखरे,
हो रहा आह्लादित, विहँस रहे हैं हर चेहरे।

हैं कितने मनमोहक ये, उनींदे से अतिरंजित पल......

Friday, 4 November 2016

चाहो तो

चाहो तो पढ़ लेना तुम वो पाती,
हवाओं के कागज पर लिखकर हमनें जो भेजी,
ना कोई अक्षर इनमें, ना हैं स्याही के रंग,
बस है इक यादों की खुश्बू चंचल पुरवाई के संग।

चाहो तो रख लेना तुम वो यादें,
घटाओं की चुनरी में कलियों संग हमने जो बाँधे,
ना कोई पहरे इन पे, ना शिकवे ना रंज,
बस है इक ठंढी सी छाँव बादल की परछाई के संग।

चाहो तो सुन लेना तुम वो गीत,
सागर की लहरों ने जो छेड़ी है सरगम की रीत,
ना हैं वीणा के सुर, ना पायल की रुनझुन,
बस है इक अधूरा सा संगीत सागर की तन्हाई के संग।

चाहो तो पढ़ लेना तुम वो संदेशे,
किरणों संग नभ पर लिखकर हैं हमने जो भेजे,
ना है शब्द कोई, ना कोई भी पूर्णविराम,
बस है इक रंग गुलनारी सी थोड़ी श्यामल रंगों के संग।

Thursday, 3 November 2016

उनकी आहट

भरम सा हो रहा है मन को, या ये आहट है उनकी.....?

फैली है पहचानी सी खुश्बू फिजाओं में पल पल,
गूंज रही इक आवाज दिशाओं में हर पल,
तोड़ रही ये खामोशी, विरान दिल के प्रतिपल,
रह रहकर इन हवाओं में,ये कैसी है हलचल.......!

भरम सा हो रहा है मन को, या ये आहट है उनकी.....?

क्यूँ आँखों से अदृश्य अब तक है वो प्रतिकृति,
क्या आहट है यह किसी मूक आकृति की,
गुंजित हैं फिर मेरा मन धुन पर किस सरगम की,
मन से निकल रही है क्यूँ इक आह सी....!

भरम सा हो रहा है मन को, या ये आहट है उनकी.....?

झूमती इन पत्तियों में ये सरसराहट है फिर कैसी,
छुअन सी इक सिहरन बदन में है ये कैसी,
जेहन में हर पल गूंजती फिर ये आवाज है कैसी,
एहसास नई सी जागी दिल मे आज है कैसी.......!

भरम सा हो रहा है मन को, या ये आहट है उनकी.....?

Wednesday, 2 November 2016

कभी तुम लौट आओ

तुम लौट आओ.....तुम लौट आओ.....कभी तुम..

कभी लगता है मुझको,
जैसे हर चेहरे में छुपा है तेरा अक्श,
क्यूँ  तेरी चाहत में मुझको,
प्यारा सा लगता है हर वो इक शक्श,
ले चला है भरभ किस ओर मुझको,
राहत मिलता नही कहीं दिल को....

तुम लौट आओ....तुम लौट आओ.....कभी तुम..

कभी देखता हूँ मैं फिर,
आँखों मे मंडराता इक धुंधला सा साया,
क्यूँ लगने लगता है फिर,
स्मृतिपटल पर छाई है तिलिस्म सी माया,
लहरों सी वो फिर उफनाती,
उद्वेलित इस स्थिर मन को कर जाती....

तुम लौट आओ....तुम लौट आओ.....कभी तुम..

तभी सोचता हूँ फिर मैं,
वो अक्श तो मिल चुकी वक्त की खाई में,
क्यूँ फिर भरम में हूँ मैं,
किस साए से मिलता हूँ रोज तन्हाई में,
किसी कोहरे में उलझा हूँ शायद मैं,
बिखरा है ये मन भरम के किस बादल में ......

तुम लौट आओ....तुम लौट आओ.....कभी तुम..

कभी लगता है तब,
यादों के ये उद्वेग होते है बड़े प्रबल,
क्यूँ याद करता है इन्हे मन जब,
असह्य पीड़ा देते है ये जीने के संबल,
पर यादों पर है किसके पहरे,
चल पड़ता हूँ उस ओर जिधर ये यादें चले,

तुम लौट आओ....तुम लौट आओ.....कभी तुम..

कभी पूछता हूँ मैं फिर,
झकझोरा है मेरे स्मृतिपटल को किसने,
क्यूँ अंगारों को सुलगाया है फिर,
तन्हा लम्हों को फिर उकसाया है किसने,
पानी में पतवार चली है फिर क्यूँ,
यादों की ये तलवार खुली है फिर क्यूँ,

तुम लौट आओ....तुम लौट आओ.....कभी तुम..

Tuesday, 1 November 2016

प्रेम कल्पना

इक दिवा स्वप्न में ढ़लकर, संग मेरे तुम चल रहे ....
कल्पना की चादर मे सिमटी, तुम जीवन में ढ़ल रहे ....

अब गीत विरह के गाने को,
कोई पल ना आयेगा,
मन के मधुबन में ओ मीते,
प्रेम प्रबल हो गायेगा..............

सुरमई गीतों में रचकर, सरगम मे तुम ढल रहे ....
कल्पना की चादर मे सिमटी, तुम जीवन में ढ़ल रहे ....

अब एकाकी ही रह जाने को,
कोई मन ना तड़पेगा,
मन के आंगन में ओ मेरे मीते,
तन्हाई गीतों संग गूंजेगा............

संध्या प्रहर ये सुनहरी, भावों में तुम पल रहे ....
कल्पना की चादर मे सिमटी, तुम जीवन में ढ़ल रहे ....

अब मोहनी सी मूरत देखने को,
कोई पल न रिझाएगा,
सांझ प्रहर क्षितिज नित ओ मीते ,
सूरत तेरी  ही दिखलाएगा..........

गूढ़ शब्द बन तुम मिले, अर्थ में तुम ढ़ल रहे.....
कल्पना की चादर मे सिमटी, तुम जीवन में ढ़ल रहे ....

अब भाव हृदय के पढ़ पाने को,
कोई मन ना तरसेगा,
गूढ़ रहस्य उन शब्दों के ओ मीते,
नैन तेरे मुझसे कह जाएगा..........

इक दिवा स्वप्न की भांति, संग मेरे तुम चल रहे ....
कल्पना की चादर मे सिमटी, तुम जीवन में ढ़ल रहे ....

ख्वाहिशें

सर्द खामोश सी ख्वाहिशें,सुलग उठी है फिर हलके से.....

कुछ ऐसा कह डाला है तुमने धीरे से,
नैया जीवन की फिर चल पड़ी है लहरों पे,
अंगड़ाईयाँ लेती ख्वाहिशें हजार जाग उठी है चुपके से।

बुनने लगा हूँ मैं सपने उन ख्वाहिशों के,
आशा के पतवार लिए खे रहा नाव लहरों पे,
सपनों का झिलमिल संसार अब दूर कहाँ मेरी नजरों से।

ख्वाहिश तुझ संग सावन की झूलों के,
मांग सजी हों तेरी कुमकुम और सितारों से,
बिखरे होली के सत रंगी बहार तेरे आँचल के लहरों से।

हँस पड़ते हों मौसम तेरी मुस्कानों से,
बरसते हों रिमझिम सावन तेरे आ जाने से,
बसंती मौसम हों गुलजार आहट पे तेरे इन कदमों के।

तेरी बाहों के झूले में मेले हों जीवन के,
बाँट लेता तुझ संग मैं पल वो एकाकीपन के,
तुम जिक्र करती बारबार आँखों में फिर उन सपनों के।

पिरो लेता तेरे ही सपने अपनी नींदों में,
खोलता मैं आँखें, सामने तुम होती आँखों के,
जुल्फें लहराती हरबार तुम आ जाती सामने नजरों के।

लग जाते मेले फिर ख्वाहिशों के,
खिल आते बाग में दो फूल तेरे मेरे बचपन के,
कटते जीवन के दिन चार, रंग भरते तेरी ख्वाहिशों के।

सर्द खामोश सी ख्वाहिशें,सुलग उठी है फिर हलके से.....

Friday, 28 October 2016

काश

काश! यादों के उस तट से गुजरे न होते हम....

रंग घोलती उन फिजाओं में,
शिकवे हजार लिए अपनी अदाओं में,
हाँ, पहली बार यूँ मिले थे तुम.....

कशिश बला की उन बातों में,
भरी थी शरारत उन शरमाई सी आँखों में,
हाँ, वादे हजार कर गए थे तुम.....

नदी का वो सूना सा किनारा,
वो राह जिनपर हम संग फिरे थे आवारा,
हाँ, उन्हें तन्हा यूँ कर गए थे तुम.....

ढली सुरमई सांझ कभी रंगों में,
कभी रातें शबनमीं तुझको पुकारती रहीं,
हाँ, मुद्दतों अनसुनी कर गए थे तुम....

बातें वो अब बन चुकी हैं यादें,
रह रह पुकारती है मुझको, तेरी वो बातें,
हाँ, लहरों सी यादें देकर गए थे तुम......

काश! यादों के उस तट से गुजरे न होते हम....

Thursday, 27 October 2016

संग बैठ मेरे

संग बैठ मेरे, आ पल दो पल को पास तू!
आ इस क्षण मैं, तुझको अपनी इन बाहों का पाश दूँ.....

क्षण तेरा तुझसे है नाराज क्यूँ?
मन हो रहा यूँ निराश क्यूँ?
सब कुछ तो है रखा है इस क्षण में,
आ अपने सपनों में झांक तू,
संग बैठ मेरे, आ पल दो पल को पास तू!

सुंदर ये क्षण है, इस क्षण ही जीवन है,
कल-कल बहता ये क्षण है,
तेरी दामन में चुपके रहता ये क्षण है,
आ इस क्षण अपनों के पास तू,
संग बैठ मेरे, आ पल दो पल को पास तू!

फिर क्यूँ इस क्षण है उदास तू?
सांसें कुछ अटकी तेरी प्राणों में है,
कुछ बिंब अधूरी सी तेरी आँखों में है,
आ हाथों से प्रतिबिम्ब निखार तू,
संग बैठ मेरे, आ पल दो पल को पास तू!

स्वर आशा के इस क्षण हैं,
तेरी सांसों में भी सुर के कंपन हैं,
मन वीणा है मन सितार है,
आ आशाओं  के भर आलाप तू,
संग बैठ मेरे, आ पल दो पल को पास तू!

आ इस क्षण मैं, तुझको अपनी इन बाहों का पाश दूँ.....

Tuesday, 25 October 2016

संवेदनाएँ

पल-पल प्रबल आघात करती ये निरीह संवेदनाएँ ...

करवट ली है संवेदनाओं ने आज फिर से,
झकझोर दिया हो दरिया को मछवारे ने जैसे,
आँधियों में झूलती हों पत्तियाँ डाल पर जैसे,
मन की शांत झील, झंकृत है लहराकर ऐसे.....

संवेदनाएँ! निरीह, लाचार खुद अन्दर से,
पतली सी काँच कहीं चकनाचूर रखी हों जैसे,
कनारों के धार नासूर सी डस रही हों जैसे,
अंतःकरण हृदय के, लहुलुहान कर गई ये ऐसे....

वश में कहाँ, किसी मानव की ये संवेदनाएँ,
बाँध तोड़ कर बह जाती हो, धार नदी की जैसे,
मगरूर शिलाएँ प्लावित होती हैं इनमें जैसे,
विवश कर गई ये, अंतःमानस के कण-कण ऐसे...

सुख में कभी सम्मोहित करती संवेदनाएँ,
छलक पड़ती हैं फिर आँखों में बूंद-बूंद बनके,
छिरकते हैं मनोभाव कभी तेज कदमों से,
क्या रह पाऊँगा पृथक? मैं इन संवेदनाओं से....?

Thursday, 20 October 2016

दीपावली / दिवाली 2016

इक दीप मन में जले, तम की भयावह रात ढ़ले...

है दुष्कर सी ढ़लती ये शाम,
अंधेरों की ओर डग ये पल-पल भरे,
है अंधेरी स्याह सी ये रात,
तिल-तिल सा ये जीवन जिसमें गले,
चाहूँ मैं वो दीपावली, जो ऊजाले जीवन में भरे....

है बुझ रही वो नन्ही सी दीप,
जूझकर तम से प्रकाश जिसने दिए,
है वो ईक आस का प्रतीक,
कुछ बूँद अपनी स्नेह के उसमें भरे,
मना लूँ मैं वो दीपावली, दीप आस का जलता रहे....

है संशय के विकट बादल घिरे,
अज्ञानता की घनघोर सी चादर लिए,
ताले विवेक पर हैं यहाँ जड़े,
प्रकाश ज्ञान का मन में अब कौन भरे?
मनाऊँ अब वो दीपावली, वैर, द्वेश, अज्ञान जले....

इक दीप मन में जले, तम की भयावह रात ढ़ले...

Wednesday, 19 October 2016

करवा चौथ - प्रीत

On Karwa Chouth....few lines

प्रीत हो तो कैसी?

किरकिरी सी काजल लगे,
        नैनों  में सुरमा  सहा ना जाए,
जिन नैनों में  श्याम बसे,
       वहाँ  फिर  दूजा कौन समाए...

प्रीत न कीजिये पंछी जैसी,
       जल सूखे पनघट से उड़ जाए,
प्रीत तो कीजै मछली जैसी,
       जल सूखे तलछट में मर जाए...

पतंगे सी भली प्रीत की रीत,
              नित दिए संग जल जाए,
प्रीत क्या जाने वो छिपकली,
              बुझे दीप कहीं छुप जाए...

राधा के ज्युँ जब  प्रीत  निभै,
             मथुरा राधा मय हुई जाए,
जब प्रीत श्याम संग मीरा करै,
             सुर प्रेम ग्रंथ की रच जाए....

करवा चौथ की ढेर सारी शुभकामनाएँ.....

नन्ही बूँद

मचलती सी इक नन्ही बूँद ही तो थे तुम....
निकल पड़ी थी आसमान से जो इक सीप की तलाश में,
न भय ऊँचाई में गिरकर बिखरने का मन में,
न खौफ तपती सी जमीं पर छन से जलने का तुम्हे।

मचलती सी इक नन्ही बूँद ही तो थे तुम....
ये तुझको भी थी खबर, कई बूँद झुलसी है इस आग में,
दूर आसमाँ से हुए थे तुम, अंजाने तलाश में,
खोया हैं वजूद अपना, कितने ही बूंदों ने इस राह में।

मचलती सी इक नन्ही बूँद ही तो थे तुम....
था उधर चाहतों का इक नया संसार, तेरे इंतजार में,
वो पत्तियाँ भी बाग की, सूखी पड़ी थी राह में,
आकर भिगोते तुम ये दामन, सूखी थी जो तेरी चाह में।

मचलती सी इक नन्ही बूँद ही तो थे तुम....
है कायम तेरा वजूद, उस बूँद की तरह मेरे दिल में,
बन गई मोती जो इक दिन, जा गिरी जो सीप में,
अब छलकते हैं जो बन के आँसू, डबडबाकर नैन में। 

Tuesday, 18 October 2016

मानसरोवर

तुम देखो ना, खिल आए हैं कमल असंख्य,
तैरते है हर पल ये मेरी हृदय के मानसरोवर में,
कुछ दिखती हैं ये तेरी यादों की परछाई सी,
लगती है कुछ तेरी बातों की अमराई सी,
कुछ बीते लम्हों की नटखट तरुणाई सी,
तुम झांको ना, मेरी हृदय के मानसरोवर में....

तुम देखो ना, प्यारे कितने हैं ये कमल असंख्य,
श्रृंगार विविध रूप के तेरे, उभर आए हैं इनमें,
कुछ मुस्कान लिए तेरे चेहरे के आभा सी,
स्वागत करती ये खुली खुली तेरी आँखों सी,
उभर आई है लालिमा इनमें तेरे होठों की,
तुम उतरो ना, मेरी हृदय के मानसरोवर में....

तुम देखो ना, कोमल कैसे हैं ये कमल असंख्य
करुणा का अगाध सागर जैसे आ सिमटा है इनमें,
कुछ शान्त, स्निग्ध भाव लिए तेरे मुखरे सी,
नर्म स्पर्श करती ये पंखुड़ियाँ तेरे हाथों सी,
लावण्य भर लाई जैसे ये ममतामयी तेरे सूरत की,
तुम आकर देखो ना, मेरी हृदय के मानसरोवर में....

खिल आए हैं कमल असंख्य तेरी ही परछाई के.....

Sunday, 16 October 2016

वजूद / अस्तित्व

अस्तित्व की तलाश में, तू उड़ खुले आकाश में.....

ऐ मन के परिंदे, तू उड़ चल हवाओं में,
बह जा कहीं बहती नदी सी उतरकर पहाड़ों में,
स्वच्छंद साँस ले तू खुलकर फिजाओं में।

वजह ढूंढ ले तू अपने वजूद के होने की,
हैं अकेला सब यहाँ, राहें अकेली सबके मन की,
ढूंढने होंगे तुझे, वजह अपने अस्तित्व की।

आजाद सा तू परिंदा अबोध अज्ञान सा,
दिशाहीन रास्तों पर, यूँ ही कहीं क्यूँ भटक रहा,
पथ प्रगति के है, तेरे सामने प्रशस्त खड़ा।

भले ही विपरीत हों, ये झोंके हवाओं के,
सशक्त पंख हैं तेरे,रख भरोसा अपनी उड़ानों पे,
है ये जंग अस्तित्व की, जीतनी होगी तुझे।

ऐ मन के परिंदे, तू उड़ अपनी वजूद ढूंढने,
बहकती नदी बन, बह पहाड़ों के हृदय चीर के,
वजह जिंदगी को दे, वजूद खुद की ढूंढ ले।

तू उड़ खुले आकाश में, अस्तित्व की तलाश में....

Saturday, 15 October 2016

इक मोड़

अजब सी इक मोड़ पर रुकी है जिंदगानी,
न रास्तों का ठिकाना, न खत्म हो रही है कहानी।

लिए जा रहा किधर हमें ये मोड़ जिन्दगी के,
है घुप्प सा अंधेरा, लुट चुके हैं उजाले रौशनी के,
ओझल हुई है अब मंजिलें चाहतों की नजर से,
उलझी सी ये जिन्दगानी हालातों में जंजीर के।

अवरुद्ध हैं इस मोड़ पर हर रास्ते जिन्दगी के,
जैसे कतरे हों पर किसी ने हर ख्वाब और खुशी के,
ताले जड़ दिए हों किसी ने बुद्धि और विवेक पे,
नवीनता जिन्दगी की खो रही अंधेरी सी सुरंग में।

अजब सी है ये मोड़.....इस जिंदगी की रास्तों के.....

पर कहानी जिन्दगी की खत्म नहीं इस मोड़ पे,
बुनियाद हौसलों की रखनी है इक नई, इस मोड़ पे,
ऊँची उड़ान जिंदगी की भरनी हमें है विवेक से,
आयाम ऊंचाईयों की नई मिलेंगी हमें इसी मोड़ से।

यूँ ही मिल जाती नही सफलता सरल रास्तों पे,
शिखर चूमने के ये रास्ते, हैं गुजरते कई गहराईयों से,
चीरकर पत्थरों का सीना बहती है धार नदियों के,
इस मोड़ से मिलेगी, इक नई शुरुआत कहानियों के।

अजब सी इस मोड़ पे, नई मोड़ है जिन्दगानियों के.....

Thursday, 13 October 2016

सौगातें

सौगातें उन लम्हों की, मैं बाँटता हूँ जीवन की झोली से...

अपने मन की तेज धार में उन्मुक्त बह जाने को,
मन ही मन खुल कर मुस्काने को,
गुजारे थे कुछ लम्हे मैनें संग जीवन के,
बस वो ही लम्हे हैं थाथी, मेरे बोझिल से जीवन के।

सौगातें उन लम्हों की, मैं बाँटता हूँ जीवन की झोली से...

चढती साँसों की लय में दूर तक बह जाने को,
कंपन धड़कन की सुन जाने को,
बिताए थे कुछ लम्हे मैने एकाकीपन के,
बस वो लम्हे ही हैं साथी, मेरे जीवन की तन्हाई के।

सौगातें उन लम्हों की, मैं बाँटता हूँ जीवन की झोली से...

दो नैनों की प्यासी पनघट में नीर भर लाने को,
करुणा के सागर तट छलकाने को,
गुजारे थे कुछ लम्हे मैने तुम बिन विरहा के,
बस वो लम्हे हैं काफी, नैनों से सागर छलकाने के।

सौगातें उन लम्हों की, मैं बाँटता हूँ जीवन की झोली से...

Thursday, 6 October 2016

दस्तक देते पल

दस्तक देते हैं कुछ पल बीते वक्त के तहखाने से ....

ऐ वक्त के बहते हुए अनमस्क से साये,
लघु विराम दे तू अपनी यात्रा को,
देख जरा छीना है कैसे तूने उन लम्हों को,
सिमटी हैं उन लम्हों में ही मेरे जीवन की यादें,
तू लेकर आ यादों के वो घनेरे से छाये,
तेरी तहखानों में कैद हुए वो पल, मुझको लौटा दे.....

ऐ वक्त के बहते हुए अनवरत से धारे,
खोई तेरी धारा में, चपलता यौवन की मेरी,
बदली है काया, बदली सी सूरत है मेरी,
मायने बदल गए हैं रिश्तों के इन राहों में तेरी,
छूट गई राहों में कितने ही साँसों की डोरी,
दस्तक देते उन लम्हातों के पल, मुझको लौटा दे.....

झाँक रहे है वो कुछ पल बीते वक्त के तहखाने से ....

दोरसा मौसम

वो बोली, रखना खयाल अपना दोरसा है ये मौसम....

ठंढी बयार लेकर आई थी जब अगहन,
पहली बार तभी काँपा था उस दुल्हन का मन,
होकर व्याकुल फिर समझाया था उसने,
दोरसा है ये मौसम, खयाल होंगे तुम्हे रखने,
संभल कर रहना, इक तुम ही हो इस मन में........

बदलते मौसम से चिंतित थी वो दुल्हन,
मन ही मन सोचती बड़ा अल्हड़ है मेरा साजन,
उपर से अगहन पूष का दोरसा ये मौसम,
आशंकओं से पहली बार कांपा था उसका मन,
दोरसे मौसम में तब घबराई थी वो नव दुल्हन......

युग बीते, बीते कितने ही दोरसे मौसम,
चिन्तित होती वो अब भी, जब आता दोरसा मौसम,
बेफिक्री साजन की बढ़ाती उसकी धड़कन,
मन ही मन कहती, आता ही है कयूँ दोरसा मौसम,
दोरसे मौसम में, बन चुकी थी वो पूरी दुल्हन......

रखती है वो ख्याल मेरा, जब आता है दोरसा मौसम.....

Tuesday, 4 October 2016

प्यार भरी कोई बात

शायद, दबी सी मन में है कोई बात, ये कैसे हैं जज्बात?

जागे हैं अनदेखे से सपने....ये खयालात हैं कैसे,
अनछुए से मेरे धड़कन.........पर ये एहसास हैं कैसे,
अन्जाना सा चितवन...ये तिलिस्मात हैं कैसे,
बहकते कदम हैं किस ओर, ये अंजान है कैसे?

जीवन के.....इस अंजाने से डगर पर,
उठते है ज्वर ....झंझावातों के.........किधर से,
कौन जगाता है .....एहसासों को चुपके से,
बेवश करता सपनों में कौन, ये अंजान है कैसे?

खुली आँख.. सपनों की ...होती है बातें,
बंद आँखों में ....न जाने उभरती वो तस्वीर कहाँ से,
लबों पर इक प्यास सी...जगती है फिर धीरे से,
गहराती है फिर वो प्यास, मन अंजान हो कैसे?

अंजानी उस बुत से.....होती हैं फिर बातें,
बसती है छोटी सी दुनियाँ...फलक पे अंजाने से,
घुलती है साँसों में....खुश्बु इक हौले से,
बज उठते हैं फिर तराने, गीत अंजान ये कैसे?

संभाले कौन इसे, रोके ...इसे कोई कैसे,
एहसासों...की है ये बारात, अरमाँ हैं बहके से,
रिमझिम सी उस पर ये बरसात, हौले से,
मचले से हैं ये जज्बात, समझाएँ इसे फिर कैसे?

शायद, दबी सी मन में है कोई बात, ये कैसे हैं जज्बात?

Monday, 3 October 2016

रुखसत

रुखसत हुआ वो जहान से यूँ पलट कर,
अनगिनत सवालों के हल, अथूरे यूँ ही रख कर,
हालातों के भँवर में फसा वो यूँ सिमट कर।

दीप था वो बुझ गया जो फफक कर,
थी खबर उसको कहाँ वो बुझेगा यूँ ही जलकर,
रास्तो के अंधेरो मे मिटेगा यूँ धधक कर।

चौराहे पर बिलखती संगिनी छोड़ कर,
बीच मझधार में नाव जीवन की यूँ ही छोड़ कर,
रिश्तों के मोह से चला वो यूँ मुँह मोड़ कर।

न जाने किधर वो चला जहाँ को छोड़ कर
क्या खुश है वो भी मोह के बंधनों को तोड़कर?
चाहतों के हमसफर को अकेला छोड़ कर?

रुखसत हुई हैं साँसे उसकी यूँ ही टूटकर,
रुखसत हुआ है अलग भीड़ से वो वजूद रख कर,
संसार की रंगीनियों को अलविदा कह कर।

(आज, एक दोस्त की असमय आकस्मिक निधन पर)

Sunday, 2 October 2016

हल्की सी हवा

हल्की सी वो हवा थी, जो हौले से तन को छू गई....

वादी वो हरी-हरी खिली-खिली सी,
झौंके हवाओं के हल्के से, मदहोश कर गई,
गुनगुनाने लगा है मन उन वादियों में कहीं,
चल पड़े हैं बहके कदम मेरे, दिशाहीन से कहीं....

हल्की सी वो सिहरन थी, जो हौले से तन को छू गई....

शायद कल्पनाओं की है ये इक लरी,
शब्द मेरे ही गीतों के, वादी में गुंज रही हैं कहीं,
मुस्कुराने लगा है मन, हवा ये कैसी चली,
थिरक रहे हैं रोम-रोम, धुन छिड़ी है ये कौन सी.....

हल्की सी वो चुभन थी, जो हौले से तन को छू गई....

सच कर लूँ मैं भरम मन के वही,
दोहरा लूँ फिर से वही अनुभव सिहरन भरी,
बह जाये वो पवन, इन्ही वादियों में कहीं,
दिशाहीन बहक लूँ मैं, सुन लूँ इक संगीत नई......

हल्की सी वो अगन थी, जो हौले से तन को छू गई....

Saturday, 1 October 2016

चिलमन

कह दे कोई चिलमनों से, जिन्दगी न छीने किसी से...

कभी  तरसाती  हैं बहुत, ये चिलमन के साये,
दीदार धुंधली सी कर पाती है जब ये निगाहें,
हैं चिलमनों के पार निखरी सी रौशन फिजाएँ,
चिलमनों के इस तरफ,  छाई है काली घटाएँ।

जल रहा है दीप कोई चिलमनों के उस तरफ,
गीत कोई बज रही है चिलमनों के उस तरफ,
शाम सुहानी ढल रही चिलमनों के उस तरफ,
धुंधली सी है विरानी,  चिलमनों के इस तरफ।

बरपाए है सदियों, जुल्म कितने चिलमनों ने,
चाँदनी थी गगन पे, दीदार की न हो किसी ने,
काटे हैं पल इस  तरह,  गुजारे हैं जैसे महीने,
जीवन के पलों से खुशी छीन ली हो किसी ने।

कह दे कोई चिलमनों से, जिन्दगी न छीने किसी से...

पलकों की छाँव

छाँव उन्हीं पलकों के, दिल ढूंढता है रह रहकर....

याद आता हैं वो पहर, जब मिली थी वो नजर,
खामोशी समेटे हुए, हँस पड़ी थी वो नजर,
चिलचिलाती धूप में, छाँव दे गई थी वो नजर,
वो पलकें थी झुकी और हम हुए थे बेखबर......

है दर्द के गाँवों से दूर, झुकी पलकों के वो शहर....

बेचैन सी कर जाती है जब तन्हा ये सफर,
जग उठते हैं दिल में जज्बातों के भँवर,
एकाकी मन तब सोंचता है तन्हाईयों में सिमटकर,
काश वो पलकें बन जाती मेरी हमसफर ........

छाँव उन्हीं पलकों के, दिल ढूंढता है रह रहकर....

Friday, 30 September 2016

बावस्ता

व्यस्तताओं के हाथों विवश होने के बावजूद,
कई जरूरतों से बावस्त हूँ मैं......

जरूरतों में सबसे ऊपर है मेरी सृजनशीलता,
सृजन की ऊर्जा ही तो है सृष्टि का वाहक,
कल्र्पनाओं के परे रचती है भंगिमाएँ,
रूबरू कराती है अनदेखे स्वप्नों के लहरों से,
दृष्टिगोचर होती है तब इक अलग ही दुनियाँ,
रचनाओं को जन्म देने लगती हैं सृजनशीलता....

बावस्त होता हूँ फिर मैं अनसुनी भावनाओं से,
कांटे भावनाओं के फूलों संग चुनकर,
रख लेता हूँ सृजनशीलता की धागों में गूँथकर,
निखर जाते हैं कांटे,संग फूलों के रहकर,
विहँसती जन्म लेती है फिर कोमल सी भावनाएँ,
कैद हो जाता हूँ मैं उन भावनाओं में बहकर......

जरूरत होती है फिर एहसासों को शक्ल देने की,
व्यस्तताओं में पिसे होते हैं एहसास के कण,
जज्बात बिखर से जाते हैं बिन अल्फाज,
कोशिश करता हूँ एहसासों को समझाने की,
शब्दों में समेट लेता हूँ उन बिखरे जज्बातों को,
बावस्त होता हूँ फिर मैं एहसासों के तरानों से.....

व्यस्तताओं के हाथों विवश होने के बावजूद,
कई जरूरतों से बावस्त हूँ मैं......

कामनाएँ

अमुल्य मानव जन्म,
अनमोल रचना सृष्टि की,
पराकाष्ठा विवेक की,
अभिमान रचयिता के प्रकटीकरण की...

नन्हे कदमों से डग भरता,
अन्धी राहों पे चलता,
कोशिश में आकाश लांघने की,
भूला देता वजह खुद के इन्सान होने की...

कामनाओं से विवश,
ख्वाहिशों के वश में,
वासनाओं के ग्रास में,
खुद से पल पल दूर होता इन्सान....

आकांक्षाएं असीम,
इच्छाएँ नित अपरिमित,
अंतहीन अंधी सी चाहत,
रातोंरात सब हासिल कर लेने की जल्दी....

उद्वेलित अन्तःमन,
न पा सकने का भय,
कुछ छूट जाने का संशय,
आशंका सब छूटकर बिखर जाने की......

अवरुद्ध कल्पनाशीलता,
दम तोड़ती सृजनशीलता,
विवेकहीन सी हो चली मानसिकता,
वर्जनाओं में हर पल उलझता इन्सान.......

Thursday, 29 September 2016

याद तुम्हारी

आ जाती है हर बार बस इक याद तुम्हारी...........

लताएँ झूमकर लहराती हैं जब शाखों पे,
नन्ही सी बुलबुल जब झूलती हैं लताओं पे,
लटकती शाखें जब फैलाती हैं अपनी बाहें,
बहारें जब-जब मिलने आती हैं बागों से,
चंचल हवाएँ जब टकराती हैं मेरे बालों से,

आ जाती है हर बार बस इक याद तुम्हारी...........

गर्म हवाएँ उड़ाती हैं जब ये कण धूल के,
बदन छू जाती हैं जब तपती सूरज की किरणें,
साँसें हल्की गहरी सी निकलती हैं जब सीने से,
चुपके से सहला जाती हैं जब बारिश की बूँदें,
सिहरन भरे एहसास जब लाती हैं सर्द हवाएँ,

आ जाती है हर बार बस इक याद तुम्हारी...........

जब गाती है कोयल कहीं गीत मिलन के,
बज उठती है शहनाई जब धड़कन के,
आँधी लेकर आती है जब सनसनाती हवाएँ,
आवाज निकलती है जब फरफराते पन्नों से,
पल तन्हाई के देती हैं जब खामोश सदाएँ,

आ जाती है हर बार बस इक याद तुम्हारी...........

Wednesday, 28 September 2016

इतनी सी चाह

प्रिय, बस कुछ और नहीं, प्रिय, और नहीं कुछ चाह !

चाहूँ बस इतना सा,
ले लूँ मैं हाथों में हाथ,
अंतहीन सी दुर्गम राहों पर,
पा जाऊँ मै तेरा साथ।

प्रिय, बस कुछ और नहीं, प्रिय, और नहीं कुछ चाह !

चुन लूँ राहों के वो काँटें,
चुभते हैं पग में जो चुपचाप,
घर के कोने कोने मे मेरे,
तेरी कदमों के हो छाप।

प्रिय, बस कुछ और नहीं, प्रिय, और नहीं कुछ चाह !

रख दो शानों पर मेरे,
तुम स्नेह भरे सर की सौगात,
भर लो आँखों मे सपने,
सजाऊँ मैं तेरे ख्वाब।

प्रिय, बस कुछ और नहीं, प्रिय, और नहीं कुछ चाह !

वादी हो इक फूलों की,
चंचल चितवन हो जिसमें तेरी,
झोंके पवन के बन आऊँ मैं,
खेलूँ मैं बस तेरे साथ।

प्रिय, बस कुछ और नहीं, प्रिय, और नहीं कुछ चाह !

चाह यही मेरी अनन्त,
तुम बनो इस जीवन का अन्त,
अंतहीन पल का हो अंत,
तेरी धड़कन के साथ।

प्रिय, बस कुछ और नहीं, प्रिय, और नहीं कुछ चाह !

Tuesday, 27 September 2016

सफर

अंजाने से इस सफर की,
कौन जाने अनिश्चित सी मंजिल है किधर,
भीड़ मे जीवन के सफर की,
क्युँ तन्हा सा उपेक्षित ये मन है इधर,
फुर्सत किसे, सुने कौन किसी की,
चल रहे हम इस सफर में, पत्धरों का है ये शहर।

तलाश में सब मंजिलों की,
न कोई है यहाँ पर किसी का हमसफर,
सफर में हैं सबकी साँसें थकी,
ये रास्ते न जाने हमको लिए जा रहे हैं किधर,
थिरकते हैं हम, यहाँ धुन पर किसी की,
अंजाना सा इक शक्ल, तलाशती हैं सबकी नजर।

पड़ाव कैसी है यह उम्र की,
अभी अधूरा सा लगता है क्यूँ ये सफर,
लिए हसरतें निगाहें यार की,
ढूंढता है दिल हरपल बस वही इक नजर,
इन्तहाँ हो चुकी, अब तो तलाश की,
तन्हा ये सफर, काट लेंगे हम जीवन के रास्तों पर।

Sunday, 25 September 2016

आ जाऊँगा मैं

इक अक्श हूँ, ख्यालों में ढल जाऊँगा मैं,
सोचोगे जब भी तुम, सामने नजरों के आ जाऊँगा मैं...

जब दरारें तन्हा लम्हों में आ जाए,
वक्त के कंटक समय की सेज पर बिछ जाएँ,
दुर्गम सी हो जाएँ जब मंजिल की राहें,
तुम आहें मत भरना, याद मुझे फिर कर लेना,
दरारें उन लम्हों के भरने को आ जाऊँगा मैं......

इक अक्श हूँ, ख्यालों में ढल जाऊँगा मैं,
सोचोगे जब भी तुम, सामने नजरों के आ जाऊँगा मैं...

जब लगने लगे मरघट सी ये तन्हाई,
एकाकीपन जीवन में जब लेती हो अंगड़ाई,
कटते ना हों जब मुश्किल से वो लम्हे,
तुम आँखे भींच लेना, याद मुझे फिर कर लेना,
एकाकीपन तन्हाई के हरने को आ जाऊँगा मैं.....

इक अक्श हूँ, ख्यालों में ढल जाऊँगा मैं,
सोचोगे जब भी तुम, सामने नजरों के आ जाऊँगा मैं...

भीग रही हो जब बोझिल सी पलकें,
विरह के आँसू बरबस आँचल पे आ ढलके,
हृदय कंपित हो जब गम में जोरों से,
तुम टूटकर न बिखरना, याद मुझे फिर कर लेना,
पलकों से मोती चुन लेने को आ जाऊँगा मैं,

इक अक्श हूँ, ख्यालों में ढल जाऊँगा मैं,
सोचोगे जब भी तुम, सामने नजरों के आ जाऊँगा मैं...

Saturday, 24 September 2016

बचपना

देखो ना, बीत गई उम्र सारी पर बीता न बचपना।

दौड़ पड़ता हूँ आज भी खेतों की आरी पर,
विचलित होता हूँ अब भी पतंगें कटती देखकर,
बेताब झूलने को मन झूलती सी डाली पर,
मन चाहता है अब, कर लूँ मैं फिर शैतानियाँ ....

देखो ना, बीत गई उम्र सारी पर बीता न बचपना,

लटकते बेरी पेड़ों के, मुझको हैं ललचाते,
ठंढी छाँव उन पेड़ों के, रह रहकर पास बुलाते,
मचल जाता हूँ मै फिर देखकर गिल्ली डंडे,
कहता है फिर ये मन, चल खेले कंचे गोलियाँ.....

देखो ना, बीत गई उम्र सारी पर बीता न बचपना।

यौवन की दहलीज पर उम्र हमें लेकर आया,
छूट गए सब खेल खिलौने, छूटा वो घर आंगना,
बचपन के वो साथी छूटे, छूटी सब शैतानियाँ,
पर माने ना ये मन , करता यह नादानियाँ....

देखो ना, बीत गई उम्र सारी पर बीता न बचपना।

Thursday, 22 September 2016

सरहदें

देखी हैं आज फिर से मैने लकीरें सरहदों के,
दर्द अन्जाना सा, न जाने क्यूँ उठने लगा है सीने में..

लकीरें पाबन्दियों के खींच दी थी किसी ने,
खो गई थी उन्मुक्तता मन की उमरते आकाश के,
हिस्सों में बट चुकी थी कल्पनाशीलता,
विवशता कुछ ऐसा करने की जो यथार्थ सो हो परे,
ऐसे में मन करे भी तो क्या? जिए या मरे?

उन्मुक्त मन, आकर खड़ा हो सरहदों पे जैसे,
कल्पना के चादर आरपार सरहदों के फैलाए तो कैसे,
रोक रही हैं राहें ये बेमेल सी विचारधारा,
भावप्रवणता हैं विवश खाने को सरहदों की ठोकरें,
ऐसे में मन करे भी तो क्या? जिए या मरे?

देखी हैं आज फिर से मैने लकीरें सरहदों के,
दर्द अन्जाना सा, न जाने क्यूँ उठने लगा है सीने में..

Wednesday, 21 September 2016

उरी...की गोली

जैसे, धँस गई हो एक गोली उसके सीने के अन्दर भी......

चली थी अचानक ही गोली उरी की सीमा पर,
धँस गई थी एक गोली उसके सीने में भी आकर,
बिखर चुके थे सपने उसके लहू की थार संग,
सपने उन आँखों मे देकर, आया था वो सीमा पर...

उफ क्या बीती होगी उस धड़कते दिल पर,
अचानक रूँधा होगा कैसे उस अबला का स्वर,
रह रह कर उठते होंगे मन में अब कैसे भँवर,
जब उसे मिली होगी, रहबर के मरने की खबर....

गुम हुआ है उसके सर से आसमाँ का साया,
निर्जीव सा है जीवन, निढाल हुई उसकी काया,
शेष रह गईं है यादें और इन्तजार सदियों का,
पथराई सी आँखों में, चाह कहाँ अब जीवन का......

जैसे, धँस गई हो एक गोली उसके सीने के अन्दर भी.....

Monday, 19 September 2016

घर

सजाया है घर को मैने, पुकारती हैं तुझको ये बाँहें...

कहता हूँ मैं अपनी दुनियाँ जिसे,
वो चहारदिवारी जहाँ हम तुम बार-बार मिले,
जहाँ बचपन हमारे एकबार फिर से खिले,
करके इशारे, वो आँगन फिर से बुलाती हैं तुझे...

सजाया है घर को मैने, पुकारती हैं तुझको ये बाँहें....

पलकों तले तुमने सजाया था जिसे,
इंतजार करती थी तुम जहाँ नवश्रृंगार किए,
आँचल तेरे ढलके थे जहाँ पहलू में मेरे,
पलकें बिछाए, वो अब देखती है बस तेरी ही राहें....

सजाया है घर को मैने, पुकारती हैं तुझको ये बाँहें....

रौशन थे तुझसे ही इस घर के दिए,
तेरी आँखों की चमक से यहाँ उजाले धे फैले,
खिल उठते थे फूल लरजते होठों पे तेरे,
दामन फैलाए, वो तक रहीं हैं बस तेरी ही राहें....

सजाया है घर को मैने, पुकारती हैं तुझको ये बाँहें....

खामोशियाँ

पुकार ले तू मुझको, कुछ बोल दे ऐ जिन्दगी,
रहस्य खामोशियों के, कुछ खोल दे ऐ जिन्दगी....

यह खामोशी है कैसी......

विषाद भरे आक्रोशित चिट्ठी की तरह गुमशुम,
राख के ढेर तले दबे गर्म आग की तरह प्रज्वलित,
तपती धूप में झुलसती पत्थर की तरह चुपचाप....

खामोशियाँ हों तो ऐसी.....

जज्बात भरे पैगाम लिए चिट्ठी की तरह मुखर,
दीवाली के फुलझड़ी मे छुपी आग सी खुशनुमा,
धूप में तपती गर्म पत्तियों की तरह लहलहाती.....

खामोशी है यह कैसी....

पुकार ले तू मुझको, कुछ बोल दे ऐ जिन्दगी,
तु कर दे इशारे, बता कि ये खामोशियाँ हैं कैसी?
रहस्य खामोशियों के, कुछ खोल दे ऐ जिन्दगी....

Sunday, 18 September 2016

कटते नहीं कुछ पल

ढल जाती है शाम, कटे कटता नहीं कुछ पल उम्र भर....

चूर हुआ जाता है जब बदन थक कर,
मुरझा जाती हैं ये कलियाँ भी जब सूख कर,
पड़ जाती हैं सिलवटें जब सांझ पर,
छेड़ जाता है वो पल फिर चुपके से आकर,

ढल जाती है शाम, कटे कटता नहीं कुछ पल उम्र भर....

मद्धिम सी सूरज हँसती थी फलक पर,
आसमाँ से गिरके बूंदे, छलक जाती धी बदन पर,
नाचता था ये मन मयूर तब झूमकर,
बदली सी हैं फिजाएं, पर ठहरा है वो पल वहीं पर,

ढल जाती है शाम, कटे कटता नहीं कुछ पल उम्र भर....

उस पल में थी जिन्दगानी की सफर,
उमंग थे, तरंग थे, थे वहीं पे सपनों के शहर,
लम्हे हसीन से गुजरते थे गीत गाकर,
पल वो भुलाते नहीं फिर गूंजते हैं जब वो स्वर,

ढल जाती है शाम, कटे कटता नहीं कुछ पल उम्र भर....

इक अमिट याद हूँ मैं

इक अमिट याद हूँ मैं, रह न पाओगे मेरी यादों के बिना।

सताएंगी हर पल मेरी यादें तुझको,
आँखें बंद होंगी न तेरी, मेरी यादों के बिना,
खुली पलकों में समा जाऊंगा मैं,
तन्हा लम्हों में चुपके से छू जाऊंगा मैं,
जिन्दगी विरान सी तेरी, मेरी यादों के बिना।

संवारोगे जब भी तुम खुद को,
लगाओगे जब भी इन हाथों में हिना,
याद आऊँगा मैं ही तुमको,
देखोगे जब भी तुम कही आईना,
निखरेगी ना सूरत तेरी, मेरी यादों के बिना।

गीत बनकर होठों पर गुनगुनाऊंगा मैं,
तेरी काजल में समा जाऊंगा मैं,
संभालोगे जब भी आँचल को सनम,
चंपई रंग बन बिखर जाऊँगा मैं,
सँवरेंगी न सीरत तेरी, मेरी बातों के बिना।

हमदम हूँ मैं ही तेरी तन्हाई का,
तेरे सूने पलों को यादों से सजाऊंगा मैं,
भूला न पाओगे तुम मुझको कभी,
खुश्बू बनकर तेरी सांसों मे समा जाऊंगा मैं,
तन्हाई न कटेगी तेरी, मेरी यादों के बिना।

इक अमिट याद हूँ मैं, रह न पाओगे मेरी यादों के बिना।

Friday, 16 September 2016

अधलिखी

अधलिखी ही रह गई, वो कहानी इस जनम भी ....

सायों की तरह गुम हुए हैं शब्द सारे,
रिक्त हुए है शब्द कोष के फरफराते पन्ने भी,
भावप्रवणता खो गए हैं उन आत्मीय शब्दों के कही,
कहानी रह गई एक अधलिखी अनकही सी....

संग जीने की चाह मन में ही रही दबी,
चुनर प्यार का ओढ़ने को, है वो अब भी तरसती,
लिए जन्म कितने, बन न सका वो घरौंदा ही,
अधूरी चाह मन में लिए, वो मरेंगे इस जनम भी ....

जी रहे होकर विवश, वो शापित सा जीवन,
न जाने लेकर जन्म कितने, वो जिएंगे इस तरह ही,
क्या वादे अधूरे ही रहेंगे, अगले जनम भी?
अनकही सी वो कहानी, रह गई है अधलिखी सी....

विलख रहा हरपल यह सोचकर मन,
विधाता ने रची विधि की है यह विधान कैसी,
अधलिखी ही रही थी, वो उस जनम भी,
वो कहानी, अधलिखी ही रह गई इस जनम भी ....

Thursday, 15 September 2016

अफसाना

लिखने लगा ये मन, अधलिखा सा फिर वो अफसाना....

रुक गया था कुछ देर मैं, छाॅव देखकर कहीं,
छू गई मन को मेरे, कुछ हवा ऐसी चली,
सिहरन जगाती रही, अमलतास की वो कली,
बंद पलकें लिए, खोया रहा मैं यूॅ ही वही,
लिखने लगा ये मन, अधलिखा सा तब वो अफसाना....

कुछ अधलिखा सा वो अफसाना,
दिल की गहराईयों से, उठ रहा बनकर धुआॅ सा,
लकीर सी खिंच गई है, जमीं से आसमां तक,
ख्वाबों संग यादों की धुंधली तस्वीर लेकर,
गाने लगा ये मन, अधलिखा सा फिर वो अफसाना.....

कह रहा मन मेरा बार-बार मुझसे यही,
उसी अमलतास के तले, आओ मिलें फिर वहीं,
पुकारती हैं तुझे अमलतास की कली कली,
रिक्त सी है जो कहानी, क्यूॅ रहे अनलिखी,
लिखने लगा ये मन, अधलिखा सा फिर वो अफसाना....

Wednesday, 14 September 2016

गुजरी राहें

मिलने आऊॅगा मैं ढलते हुए शाम की चंपई सुबह लेकर...

वो राहें मुड़कर देखती हैं अब राहें मेरी,
जिन राहों से मैं गुजरा था बस दो चार घड़ी,
शायद करने लगी हैं वो राहें मुझसे प्यार,
सुन सकूंगा न मैं उन राहों की सदाएं,
पुकारो न मुझको बार-बार, ए गुजरी सी राहें,

मिलने आऊॅगा मैं ढलते हुए शाम की चंपई सुबह लेकर...

इस कर्मपथ पर मेरी, गुजरेंगी राहें कई,
अपनत्व बाटूंगा उन्हे भी मैं, चंद पल ही सही,
अपने दिल के करने होंगे मुझे टुकड़े हजार,
कर न सकूंगा मैं उन राहों से भी प्यार,
हो सके तो भूल जाना मुझे, ए गुजरी सी राहें,

मिलने आऊॅगा मैं ढलते हुए शाम की चंपई सुबह लेकर...

ए राहें, तू झंकृत न कर मेरे मन के तार,
तू दे न अब सदाएं, बुला न मुझको यूॅ बार-बार,
बाॅध न तू मुझे रिश्तों के इन कच्चे धागों से,
भीगेंगी आॅखें मेरी, तोड़ न पाऊंगा मैं ये बंधन,
बेवश न कर अब मुझको, ए गुजरी सी राहें,

मिलने आऊॅगा मैं ढलते हुए शाम की चंपई सुबह लेकर...

Tuesday, 13 September 2016

नए स्वर

क्युॅकि उस नदी ने अब राह बदल ली है अपनी.....

वो दूर घाटी, जहाॅ कभी बहती थी इक नदी,
वो नदी की तलहटी, जहाॅ भीगते थे पत्थर के तन भी,
वो गुमशुम सी वादी, जहाॅ कोलाहल थे कभी,
सन्नाटा सा अब पसरा है हर तरफ वहीं,
असंख्य सूखे पत्थर के बीच सूखा है वो घाटी भी।

क्युॅकि उस नदी ने अब राह बदल ली है अपनी.....

घास के फूल उग आए हैं अब धीरे से वहीं,
पत्थर के तन पर निखरी है अनदेखी कोई कारीगरी,
प्रकृति ने बिछाई है मखमली सी चादर अपनी,
गूंजी है कूक कोयल की, हॅस रही हरियाली,
फूटे हैं आशा के स्वर, गाने लगी अब वो घाटी भी।

क्युॅकि उस नदी ने अब राह बदल ली है अपनी.....

Sunday, 11 September 2016

शहतूत के तले

हाॅ, कई वर्षों बाद मिले थे तुम उसी शहतूत के तले.....

अचानक ऑंखें बंद रखने को कहकर,
चुपके से तुमनें रख डाले थे इन हाथों पर,
शहतूत के चंद हरे-लाल-काले से फल,
कुछ खट्टे, कुछ मीठे, कुछ कच्चे से,
इक पल हुआ महसूस मानो, जैसे वो शहतूत न हों,
खट्टी-मीठी यादों को तुमने समेटकर,
सुुुुसुप्त हृदय को जगाने की कोशिश की हो तुमने।

हाॅ, कई वर्षों बाद मिले थे तुम उसी शहतूत के तले....

शहतूत के तले ही तुम मिले थे पहली बार,
मीठे शहतूत खाकर ही धड़के थे इस हृदय के तार,
वो कच्ची खट्टी शहतूत जो पसन्द थी तुम्हें बेहद,
वो डाली जिसपर झूल जाती थी तुम,
शहतूत की वो छाया जहाॅ घंटों बातें करती थी तुम,
वही दहकती यादें हथेली पर रखकर,
सुलगते हृदय की ज्वाला और सुलगा दी थी तुमने।

हाॅ, कई वर्षों बाद मिले थे तुम उसी शहतूत के तले....

Friday, 9 September 2016

चंचल बूॅदें

चंचल सी ये बूंदें,
सिमटी हैं अब घन बनकर,
नभ पर निखरी हैं ये,
अपनी चंचलता तजकर,
धरा पर बिछ जाने को,
हैं अब ये बूँदे आतुर,
उमर पड़े है अब घन,
चंचलता उन बूंदो से लेकर।

बह चली मंद सलिल,
पूरबैयों के झौंके बनकर,
किरण पड़ी है निस्तेज,
घन की जटाओं में घिरकर,
ढ़क चुके हैं भाल,
विशाल पर्वत के अभिमानी शिखर,
घनेरी सी घन की,
घनपाश भुजाओं में घिरकर।

बूँदे हो रहीं अब मुखर,
शनैः शनैः घन लगी गरजने,
धुलकर बिखरे हैं नभ के काजल,
बारिश की बूंदों में ढ़लकर,
बिखरी हैं बूँदे, धरा पर अब टूटकर,
कण-कण ने किया है श्रृंगार,
चंचल बूंदों की संगत पाकर।

Thursday, 8 September 2016

विराम

यह पूर्णविराम डाला है किसने अधूरे से लेख पर?
रह गई न! अब सब बातें अनकही!
किताबों के पन्नों पर, अपूर्ण लेख में सिमटकर।

पर क्या करूँ मैं, अब उस आवेग का?
उठ रहें हैं झौकों जैसे, जो विचारों में रह रहकर,
अब तो तय है कि ये बनेंगे विस्फोटक,
जब जल उठेंगी ये बारूद सी, चिंगारी में जलकर।

आवेग के ये झौंके, हैं ये सुनामी जैसे,
रुक सकता यह लेख नहीं, इस पूर्णविराम पर,
शक्ल ये ले लेंगी, मेरी कविताओं की,
हर कदम बढ़ती रहेगी, यह अल्पविराम ले-लेकर।

वो अनकही, अब बनेंगी मेरी क्षणिकाएँ,
अपूर्ण लेख मेरे, बोल पड़ेंगी पूर्णविराम तोड़कर,
इस अशांत मन को तब, कहीं मिलेगा सुकून,
दुखों के पलों मे ये बढ़ेगी, सुख के चंद सुकून लेकर।

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

उपांतसाक्षी

न जाने क्यूँ..... जाने.... कितने ही पलों का... उपांतसाक्षी हूँ मैं, बस सिर्फ.... तुम ही तुम रहे हो हर पल में, परिदिग्ध...

विगत 30 दिनों की सर्वाधिक चर्चित रचनाएँ