Tuesday, 22 January 2019

आवश्यक अनुरोध (सूचना)


ब्लाॅग के पाठकों से अनुरोध..

शायद आपको मालूम हो कि अब G+ खत्म होने वाला है। अतः G+ Platform से किए गए सारे comments स्वतः ही समाप्त हो जाएंगे। परन्तु जो टिप्पणी सीधे ब्लॉग पर जाकर की जाएगी, वे आगे भी बने रहेंगे।

बाद मे जब G+ profile खुद ब खुद deactivate हो जाएंगे तो G+ से किए गए सारे कमेंट्स जो अभी तो दिख रहे हैं, बाद में  दिखने भी बंद हो जाएंगे।
आवश्यक यह है कि अपने ब्लॉग के comments setting में G+ से आनेवाले comments की सेटिंग No कर ली जाय ताकि पाठक की टिप्पणी सीधे रूप से ब्लॉग पर ही अंकित की जा सके।
भविष्य की परेशानियों से बचने हेतु मैने कुछ परिवर्तन अपने ब्लॉग "कविता जीवन कलश"  (purushottamjeevankalash.bligspot.com),  "अंतहीन" (endlesspks.blogspot.com) तथा "अवधारणा" पर आवश्यक परिवर्तन अभी से ही  कर लिए हैं ।

कुछ दिनों बाद, मैं G+ profile के स्थान पर  Blogger Profile ही use करूँगा।
आपसे अनुरोध है कि अपनी टिप्पणी आप सीधे ब्लॉग पर आकर ही अंकित करें ताकि हमारा आपसी सम्पर्क-संवाद निर्बाध रूप से चलता रहे।

सादर आभार ।

Monday, 21 January 2019

अभागिन

कदाचित्, न कहना खुद को तुम अभागिन!

स्नेह वंचित, एक बस तू ही नहीं,
नीर सिंचित, नैन बस इक तेरे ही नहीं,
कंपित हृदय, सिर्फ तेरा ही नहीं,
किंचित्, भरम ये रखना नहीं,
नैन कितनों के जगे, तारे गिन-गिन!

कदाचित्, न कहना खुद को तुम अभागिन!

भाग्य, खुद से कोई लिखता नहीं,
मनचाहा, सबको हमेशा मिलता नहीं,
हासिल है जो, वो कम तो नहीं!
पाकर उसे, बस खोना नहीं,
सहेज लेना, हिस्से के वो पलक्षिण!

कदाचित्, न कहना खुद को तुम अभागिन!

पिपासा है ये, जो मिटती नहीं,
अभिलाषा अनन्त, कभी घटती नहीं,
तृष्णा है ये, कभी मरती नहीं,
खुशियाँ कहीं, बिकती नहीं,
पलटते नहीं, बीत जाते हैं जो दिन!

कदाचित्, न कहना खुद को तुम अभागिन!

विधि का विधान, जाने विधाता,
न जाने भाग्य में, किसके लिखा क्या,
पर, हर रात की होती है सुबह,
सदा ही, अंधेरा रहता नहीं,
हो न हो, बुझ रहा हो रात पलक्षिण।

कदाचित्, न कहना खुद को तुम अभागिन!

सम्भल ऐ गमे-दिल

सम्भल ऐ गमे-दिल, न हो जिन्दगी से खफा!

चल कहीं निकल, न संताप में तू जल,
बन जा विहग, आकाश पे मचल,
छोड़ दे ये दायरे, उन सितारों के पास चल,
खुद को न यूँ, तू दिवानगी में जला!

सम्भल ऐ गमे-दिल, न हो जिन्दगी से खफा!

रात का प्रहर, चाँद विंहस रहा मचल,
हँस रही ये रात भी, गा रही गजल,
तू न मौन रह, गुनगुना ले संग तू भी चल,
घुट-कर न यूँ, जीवन के क्षण बिता!

सम्भल ऐ गमे-दिल, न हो जिन्दगी से खफा!

कम न होता यहाँ, जिन्दगी का आँचल,
छँट ही जाते हैं, गम के ये बादल,
बरस गए जरा, ये पल में हो जाएंगे विरल,
शुन्य में कहीं, यूँ खुद को ना भुला!

सम्भल ऐ गमे-दिल, न हो जिन्दगी से खफा!

Sunday, 20 January 2019

पाठकों से निवेदन...

कई  पाठक वृन्द नें मुझे अपनी इस समस्या की ओर ध्यानाकृष्ट कराया था कि वे मेरी ब्लॉग "कविता जीवन कलश" पर अपने कमेंट / अपनी प्रतिक्रिया अंकित नहीं कर पा रहे हैं ।

आज, बहुत कोशिशों के बाद, कमेंट्स सेटिंग में आवश्यक परिवर्तन पश्चात, पाठकों की असुविधा दूर करने में  मैं समर्थ हो पाया।

परन्तु, अब पुराने कमेंट्स /प्रतिक्रिया ब्लाॅग पर दिखाई नहीं  दे रहे हैं । ये मेरे लिए किसी मेडल से कम नहीं थे और ये मुझे संबल प्रदान करते थे।

मैं इसे व्यक्तिगत हानि मानता हूँ और इसका मुझे बेहद अफसोस है।

समस्त सम्माननीय  पाठकों से अनुरोध है कि वे अपना प्यार व आशीष, पहले की तरह ही देते रहें।

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा/20.01.2019

Friday, 18 January 2019

शिशिर

शिशिरे स्वदंते वहितायः पवने प्रवाति!
(अर्थात् , शिशिर में ठंढी हवा बहती है, तो आग तापना मीठा लगता है)

धवल हुई दिशा-दिशा,
उज्जवल वसुंधरा,
अंबर एकाकार हुए,
कण-कण ओस भरा,
पात-पात हुए प्रौढ़,
टूट-टूट चहुँओर गिरा,
पतझड़ का इक बयार, शिशिर ले आया!

जीर्ण-शीर्ण सा काया,
फिर से है इठलाया,
पूर्णता, सरसता, रोचकता,
यौवन रस भर लाया,
रसयुक्त हुए पोर पोर,
खिली डार-डार कलियाँ,
नव-श्रृजन का श्रृंगार , शिशिर ले आया !

शीतल विसर्गकाल,
ठंढ कड़ाके की लाया,
घनेरा सा कोहरा,
संसृति को ढ़कने आया,
प्रस्फुटित हुई कली,
नव-सृजन करने चली,
नव-जीवन का विहान, शिशिर ले लाया!

कण-कण में स्पंदन,
फूलों पर भौरों का गुंजन,
कलियों में कंपन,
झूम रही वो बन-ठन,
ठंढी-ठंढ़ी छुअन,
चहुँ दिश छाया सम्मोहन,
मन-भावन ये निमंत्रण, शिशिर ले आया!

Thursday, 17 January 2019

चल झूठी

चल झूठी! फिर झूठ मुझे ना कहना...

सपन! सलोना सा है वो मेरा,
उन सपनों में, रमता है ये मन मेरा,
आओ देखो, तुम भी ये सपना,
झूठ या सच, मुझको फिर कहना!

चल झूठी! फिर झूठ मुझे ना कहना...

सागर तट सी, उनकी पलकें,
मदिरा हरपल, नैनों से हों छलके,
पास बुलाए, वो चल-चल के,
ना होश उड़ा दे, तो फिर कहना!

चल झूठी! फिर झूठ मुझे ना कहना...

भूल-भुलैय्या, हैं उनकी आँखें,
जाना-पहचाना, वो पथ बिसरा दे,
वो स्वागत में, दो बाहें फैला दे,
मोहित ना कर दे, तो फिर कहना!

चल झूठी! फिर झूठ मुझे ना कहना...

रूप सुनहरा, जैसे हो गहना,
बरसा हो सावन, जैसे इस अंगना,
नित चाहे मन, उनमें ही खोना,
सुंदर ना हो सपना, तो फिर कहना!

चल झूठी! फिर झूठ मुझे ना कहना...

Wednesday, 16 January 2019

मन की उपज

राग-विहाग, अनुराग, वीतराग,
कल्पना, करुणा, भावना, व्यंजना,
आवेग, मनोवेग, उद्वेग, संवेग,
गैर नहीं, अपने हैं, मन के ही ये उपजे हैं!

भावप्रवण, होता है जब भी मन,
सिक्त हो उठते है, तब ये अन्तःकरण, 
कराहता है मन, फूट पड़ता है कोई घाव,
अन्तः उभरता है, इक प्रतिश्राव,
जागृत हो उठते है, मन के सुसुप्त प्रदेश,
फूट पड़ती है, सिक्त सी जमीं....

ये प्रतिश्राव, गैर नहीं, मन के ही उपजे हैं!

अनियंत्रित, हो उठती हैं इंद्रियाँ,
अवरुद्ध, हो जाती है मन की गलियाँ,
तड़पाता है मन, अकुलाता है ये ठहराव,
रुक-रुक, चलता है नंगे ही पाँव,
उबल पड़ते हैं कभी, मन के भावावेश,
सिसकती है, सिक्त सी जमी....

ये भावावेश, गैर नहीं, मन के ही उपजे हैं!

अनुस्यूत हैं, इन भावों से मन,
फलीभूत हैं, इन उच्छ्वासों से मन,
बांधता है मन, अन्तहीन सा ये फैलाव,
घनेरी सी, जब करती है ये छाँव,
मृदुल एहसासों का, मन देता है संदेश,
विहँस पड़ती है, सिक्त सी जमीं.....

ये एहसास, गैर नहीं, मन के ही उपजे हैं!

तृष्णा, घृणा, करुणा, वितृष्णा,
अनुताप, संताप, आलाप, विलाप,
विद्वेष, क्लेश, लगाव, दुराव,
गैर नहीं, अपने हैं, मन के ही ये उपजे हैं!

Monday, 14 January 2019

कैसे ना तारीफ करें

कह दे कोई! कैसे ना तारीफ करें....

बासंती रंग, हवाओं में बिखरे,
पीली सरसों, जब खेतों में निखरे,
कहीं पेड़ों पर, कोयल कूक भरे,
रिमझिम बूंदें, घटाओं से गिरे!

कह दे कोई! कैसे ना तारीफ करें....

मुस्काए कोई, हलके-हलके,
सर से उनके, जब आँचल ढ़लके,
बातें जैसे, कोई मदिरा छलके,
वो कदम रखें, बहके-बहके!

कह दे कोई! कैसे ना तारीफ करें....

तारीफ के हो, कोई काबिल,
लफ्जों में हो, किन्हीं के बिस्मिल,
आँखों मे हो , तारे झिलमिल,
बातों में हो, हरदम शामिल!

कह दे कोई! कैसे ना तारीफ करें....

Sunday, 13 January 2019

यदा कदा

यदा कदा!
फिर कर उठता है मन,
सजल नैनों से, उन राहों पे सजदा,
जिद, फिर जाने की उधर,
उजाड़ सा वो शहर,
दुर्गम अपवाहित वो ही डगर!
उठते हैं जिन पर,
रह-रह कर,
नित, कोई प्रबल ज्वर,
नियंत्रण, ना हो जिन पर....
दो घड़ी,
पा लेने को चैन,
अनथक, करता है प्रतीक्षा,
उन राहों पे मन,
चल पड़ता है, करने को फिर सजदा...

यदा कदा!
फिर कह उठता है मन,
निर्जन है वो वन, पागल ना बन,
जिद, ना तू कर इस कदर,
उजड़ा है वो शहर,
क्या पाएगा जाकर उस डगर?
मरघट है बस जिधर,
जी-जी कर,
नित, मरते सब जिधर,
अधिकार, ना हो जिन पर,
पा लेने को चैन,
असफल, करता है इक्षा,
उन राहों पे मन,
क्यूँ चलता है, करने को फिर सजदा...

यदा कदा!
फिर बह उठता है मन,
उफनती हुई, इक नदिया बन,
जिद, प्रवाह पाने को उधर,
बहा जाने को शहर,
प्रवाहित ही कर देने को डगर,
सम्मोहन सा है जिधर,
मर-मर कर,
नित, जीता वो जिधर,
ठहराव, ना हो जिन पर,
पा लेने को चैन,
प्रतिपल, देता है परिविक्षा,
खुद राहों को मन,
समाहित कर, फिर करता है सजदा...

यदा कदा! कैसी ये सजदा!

Saturday, 12 January 2019

स्वर उनके ही

स्वर उनके ही, गूंज रहे अब कानों में.....

सम्मोहन सा, है उनकी बातों में,
मन मोह गए वो, बस बातों ही बातों में,
स्वप्न सरीखी थी, उनकी हर बातें,
हर बात अधूरा, छोड़ गए वो बातों में!

स्वर उनके ही, गूंज रहे अब कानों में.....

सब कह कर, कुछ भी ना कहना,
बातें हैं उनकी, या है ये बातों का गहना,
कहते कहते, यूँ कुछ पल रुकना,
मीठे सम्मोहन, घोल गए वो बातों में!

स्वर उनके ही, गूंज रहे अब कानों में.....

रुक गए थे वो, कुछ कहते कहते,
अच्छा ही होता, वो चुप-चुप ही रहते,
विचलित ये पल, नाहक ना करते,
असमंजस में, छोड़ गए वो बातों में!

स्वर उनके ही, गूंज रहे अब कानों में.....

स्वप्न, जागी आँखों का हो कोई,
मरुस्थल में, कोयल कूकती हो कोई, 
तार वीणा के, छेड़ गया हो कोई,
स्वप्न सलोना, छोड़ गए वो बातों में!

स्वर उनके ही, गूंज रहे अब कानों में.....

काश! न रुकता ये सिलसिला,
ऐ रब, फिर चलने दे ये सिलसिला,
कह जा उनसे, फिर लब हिला,
सिलसिला , जोड़ गए जो बातों में!

स्वर उनके ही, गूंज रहे अब कानों में.....

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

आवश्यक अनुरोध (सूचना)

ब्लाॅग के पाठकों से अनुरोध.. शायद आपको मालूम हो कि अब G+ खत्म होने वाला है। अतः G+ Platform से किए गए सारे comments स्वतः ही समाप्त ह...

विगत 30 दिनों में ज्यादा लोकप्रिय रचनाएँ