Thursday, 31 December 2015

सबसे प्यारा फूल

एक फूल है सबसे सुन्दर,
मन के बगिया में जो उपजा है
उस बगिया ने गुलाब भेजा है,
मन के अन्दर जो सदियों से सजा है,
हृदय मध्य ये सजे रहेंगे
प्राणों से सदा जुड़े रहेंगे,
प्रीत बिना ये मुरझा जाएंगे ।
प्रेमबगिया की मधुयादों को नववर्ष की ढेर सारी बधाई

समय और अनुबंध

अनुबंधों में हम बंध सकते हैे,
समय नही अनुबंधों में बंधता,
समय निरंकुश क्या बंध पाएगा,
अनुबंधों की परिधियां तोड़ता,
गंतव्य की ओर निकल जाएगा।

मानव विवश है समय सीमा में,
सुख-दुख दोनों समय के हाथों,
अनुबंध की शर्तें विवश समय मे,
समय सत्ता जो समझ पाएगा,
अनुबंधो के पार वही जा पाएगा।

जीवन नैया

मझधारों की धारा संग,
जीवन हिचकोले खाए,
इक क्षण उत ओर चले,
इक क्षण इस ओर आए।

तरने मे जीवन नैया सक्षम,
मझधार ही दिखे है अक्षम,
इक क्षण ये झकझोर चले,
इक क्षण कमजोर पड़़ जाए।

जीवन की सीमा अक्षुण्ण,
धार मझधार ही कुछ क्षण,
हर क्षण जीवन वार सहे,
क्षण क्षण मजिल ओर जाए।

एकाकी मन

एकाकी मन खग सा उड़े,
अंतहीन गगन मरूस्थल मे,
जाने किस तृष्णा ने घेरा,
प्रतिपल एकाकीपन मन मे।

मन एकाकी तृष्णाओं मध्य,
ज्युँ मरुस्थल तरु एकाकी,
राग उन्माद इसने फिर छेड़ा,
अचल एकाकीपन मन में।

तारों की मृगतृष्णाओं ने घेरा,
उड़ता ये सीमाहीन अनंत में,
युग बीते तन हुए अब जर्जर, 
तरुण एकाकीपन पर मन मे।

जो छोड़ गए हैं तन्हा

जो छोड़ गए हैं तन्हा,
वो पूछते हैं अक्सर, कैसे हो?
शायद! तन्हाई में कैसे जीता हूँ,
यही जानना चाहता है वो!

तो सुन लो...

नसों में रक्त प्रवाह है जारी,
धड़कनें अभी रुकी नही हैं,
सासों का प्रवाह निरंतर है,
हंदय मे कंपण अभी है शेष,
पलकें अब भी खुली हुई है,
आँखें देख पाती हैं नभ को,
कोशिकाएँ अभी मरी नही हैं।

जो छोड़ गए हैं तन्हा,
वो पूछते हैं अक्सर, कैसे हो?

तो और सुनो,

स्वर कानों मे अब भी जाते है,
स्पर्श महसूस कर सकता हूँ,
जिह्वा स्वाद ले पाती हैं...
सूरज का उगना देखता हूँ
सामने अस्त हो जाना भी,
जीवन देखता हूँ और मृत्यु भी,
नित्य क्रिया कर्म अभी है जारी।

जो छोड़ गए हैं तन्हा,
वो पूछते हैं अक्सर, कैसे हो?

जीवन साँसों से चलता है,
दिल धड़कते हैं स्नायु से,
तंत्रिकाएँ चलाती है सोंच को।

पर दिलों के एहसास....?

एहसास मर जाते हैं तन्हाई में,
एहसास का स्पंदन साथ ढूंढ़ता है प्रीत का।
वर्ना जीवन तिल-तिल मरता है।
साँसों के आने जाने से केवल,
जीवन कहाँ चलता है?

उसने खून किया जीवन का,
तन्हाई मे जिसने भी छोड़ा,
पर साथ निभाता कौन अन्त तक,
मृत्यु से पहले .....!
सांसे तन्हा छोड़ जाती तन को,
शरीर छोड़ जाता है तन्हा मन को।

जो छोड़ गए हैं तन्हा,
वो पूछते हैं अक्सर, कैसे हो?

यादों के फूल

फूल यादों के खिलते रहेंगे सदा,
यादों की बन जाएंगी लड़ियाँ,
कुछ सूखे कुछ हरे-भरे पत्तों से,
मानस पटल पर उभर अनमने से,
कुछ सुख-कुछ दुख की अनुभूतियाँ।

बीती-बातों की खुल जाएंगी परतें,
आँखों मे होगा हर गुजरा मंजर,
परत दर परत शायद वो गहराए,
कुछ याद आए, कुछ विसरा जाए,
कुछ आशा-कुछ निराशा के प्रस्तर।

जीवन की राहें गुजरती यादों संग,
कुछ यादें मीठी क्युँ न छोड़ जाए हम़,
जो प्रखेरे आशाओं के रश्मि किरण,
यादें ऐसी जो आँखों मे प्रीत भर दे,
कुछ आस जगाएं नयनों को कर जाए नम।

Wednesday, 30 December 2015

जल उठे है मशाल

जल उठे असंख्य मशाल,
शांति, ज्योति, प्रगति के,
उठ खड़े हुए अनन्त हाथ,
प्रशस्त मार्ग हुए उन्नति के।

अनन्त काल जलें मशाल,
अन्त असीम रात्रि-तम हो,
सामने हो प्रखर प्रशस्त प्रहर,
भय दूर हुए जिंदगी के।

ग्यान का उन्नत प्रकाश हो,
अशांति, अचेतन, क्लेश घटे,
धरा पे फैले चांदनी की लहर,
पू्र्ण कामना हुए मानवों के।

फिर तेरी यादों के बादल छाए

फिर तेरी यादों के बादल छाए,
चाहत की रिमझिम बूंदें बरसाए,
अन्तर्मन भीग चुके हैं इनमें,
मयुरों के नृत्य मन को लुभाए।

यादें सारी सजीव हो चुकी हैं,
कोलाहल इनके उभर चुके हैं,
शोर मचाते ये अन्तर्मन मे,
कोयल की हूक मन को हर जाए।

आँखें सजल हो चुकी यादों में,
होठों पर इक चुप सी लगी हैं,
चेहरे पर छा गई अजीब शांति सी,
चातक के स्वर मनविभोर कर जाए।

फिर तेरी यादों के बादल छाए। 

नववर्ष 2016 की शुभकामनाएँ

नववर्ष ले आया नवविहन,
       जागे हैं फिर नए अरमान,
              उपजी है फिर नई आशाएँ,
                    तू इन आशाओं के संग तो हो ले।

वर्ष नया है प्रारंभ नई है,
       दिवस नया है प्रहर नई है,
                हर चिन्ताओं को तज पीछे,
                       तू इक नई उड़ान तो भर ले।

निराशा के घनघोर अंधेरे,
         अब रह गए हैं पीछे तेरे,
                सामने खड़ा एक नया लक्ष्य है,
                        तू इन लक्ष्यों के संग तो हो ले।

             (हमारे समस्त पाठको को नववर्ष 2016 की 
                       असीम प्रेरक शुभकामनाएँ)

कर्मपथ का योद्धा

कर्मपथ पर चल निर्बाध अग्रसर,
नित समर बाधाओं से तू ना डर,
इस कर्मपथ का है तू अजेय योद्धा,
तू हर बाधा पर विजय कर।

विचलित तुझको न कर सकेंगे,
अंजान राहों के घनघोर अंधेरे,
निर्बाध गति से तू बढ़ निरन्तर,
 इस पथ ही समक्ष मिलेंगे सवेरे।

हिम्मत के आगे निराशा निरूत्तर,
मेहनत के आगे असफलता विफल,
प्रतिभा को कर तू इतना प्रखर,
लक्ष्य खुद हो जाए तेरा सफल।

निर्दोष का कर्मपथ

कर्म-पथ की इन राहों पर,
मानदण्डों के उच्च शिखर,
सदा स्थापित मैं करता रहा,
फिर क्युँ कर मैं दोषी हुआ?

षडयंत्र को मैं जान न पाया,
हाथ पकड़ जिसने करवाया,
अब तक उसको दोस्त सा पाया,
फिर वो कैसे निर्दोष हुआ?

ईश्वर इसकी करे समीक्षा,
दोष-निर्दोष का है वो साक्षी,
देनी हो तो दे दो मुझे दीक्षा,
दोषी मैं वो निर्दोष कैसे हुआ?

आशा का दामन

प्याले जो टूटे तो क्या,
क्षणभंगूर इन्हें टूटना ही था,
भाग्य मे लिखा है इनके,
टूटना! टूट बिखर फिर जाना क्या।

नियति पर किसका चलता,
अपनी हाथों मे कहाँ कुछ होता,
अपनी हाथों किस्मत की रेखा,
तो फिर इनका शोक मनाना क्या।

हे मानव! तू कर्म किए जा,
आशा का दामन तू रह थामे,
राह कितने भी हो कठिन,
इन राहों पे रुक जाना भी क्या।

तुम प्रीत गीत मीत

तुम प्रीत, तुम गीत, तुम मीत बन जाओ!

ऊर आलिंगन मे भर लो,
तुम नभ को मुझ संग छू लो,
हृदयाकाश पर लहरा जाओ,
तुम प्रीत बरसाओ, तुम प्रीत बरसाओ!

मन प्रांगण आ जाओ,
मन वीणा के तार छेड़ दो,
मधुर झंकार बन जाओ,
तुम हिय गीत बन जाओ, तुम हिय गीत बन जाओ!

यादों मे बस जाओ,
प्रखरता के आयाम दे जाओ,
जीवन-संध्या तक साथ निभाओ,
तुम संग मीत बन जाओ, तुम संग मीत बन जाओ।

हृदय के भाव

हृदय की भाषा गर तुम समझो,
प्रीत हमारी समझ जाओगी,
शब्दों मे कहाँ इतनी प्रखरता,
भाव जो ये तुम्हे समझा पाएगी।

हृदय में प्रबल भावना बसते हैं,
सागर कल्पना के ये रचते हैं,
प्राणों की आहूति ये लेते हैं,
नामुमकिन शब्दों मे ढ़ल पाएगी।

हृदय गर पाषाण हों तो,
भाव कहाँ तुम जान पाओगी,
प्रस्तर भावों मे बसता जीवन,
क्या तुम भी कभी समझ पाओगी?

जिनके लिए हृदय बस अंग है,
जीवन बस आवागमन है,
लाभ-हानि,धन-सम्मान निज उत्थान है,
हृदय-भाव वहाँ ये मर जाते हैं ।

तुम चंद पल जीवन दे जाते हो

तुम चंद पल जीवन दे जाते हो।

आहटों में रचकर,
धड़कनों मे बसकर,
गुंजी सदाओं मे छुपकर,
संगीत सुना जाते हो,

तुम चंद पल जीवन दे जाते हो।

रश्मि किरण मे ढ़लकर,
मंद हवाओं संग चलकर,
मेरी कल्पनाओं मे आकर,
रच बस जाते हो,

तुम चंद पल जीवन दे जाते हो।

नभ में बादल बनकर,
घनघोर घटाओं सी छाकर,
अमृत रस बरसाकर,
मन शीतल कर जाते हो,

तुम चंद पल जीवन दे जाते हो।

अच्छा लगता है

तुम मेरे लिए व्याकुल रहो, 
मैं तुम्हारे लिए रहुँ आकुल...अच्छा लगता है।
.
प्यार भरा हृदय तुम्हारा हो,
मै आच्छादित हो जाऊँ उर मे ...अच्छा लगता है।

तुम जीवन मे मेरी उमंग भरो,
मैं दूँ करुणा का आलिंगन......अच्छा लगता है।
.
तुम मेरा सारा जीवन ले लो,
मै जीवन कलश तुझको दूँ......अचछा लगता है।
.
बस जाओ तुम कविताओं मे..सदाओं जैसी,
मैं हर क्षण बस लिखता जाऊँ......अच्छा लगता है।
.
छू जाओ तुम मेरा विह्वल मन,
तुमको प्यार करता रहूँ...,..अच्छा लगता है।

हो जाओ तुम मेरी बाहों मे बूढ़ी,
मैं तुझ संग बूढा हो जाऊ.....अच्छा लगता है।

दोनो साथ जीवन से तर जाएँ,
दोनो फिर नभ में मिल जाएँ.....अच्छा लगता है

Tuesday, 29 December 2015

कह तो तुम सब अनकही

कह दो तुम सब अनकही।

जो तुमने अब तक ना कहा,
जो मैने अब तक ना सुना,
नयनों के सधे वाणो से 
अब तक तुम कहती रही,
जो बातें अब तक मन मे रही,
अपने शब्द प्रखर इन्हे दे दो।

कह दो तुम सब अनकही।

अनकही बातें करती है कलरव,
शिखर निर्झर झरे जल की तरह,
अनकहे जज्बात कौंधती रह रह,
बादलों में छुपे बिजली की तरह,
उमरती घुमरती मन में रही
इन जज्बातों को शब्द मुखर दे दो।

कह दो तुम सब अनकही।

तुझसे मेरा वक्त किसने छीना

तुझसे मेरा वक्त किसने छीना?

एकाकीपन का सघन विराना,
घेरे जीवन को अनन्त सुदूर तक,
सूनेपन के कोलाहल से मन व्यथित अबतक,
हृदयदल को छू गई इक रश्मिकण,
पर किसने इस रश्मिकण को भरमाया ।

तुझसे मेरा वक्त किसने छीना?

हृदय मे बजने लगी थी मृदंग रागिणी,
हवाओं मे घुलने लगी थी खुशबु भीनी,
अन्तर्मन के विरानो में फैली थी चाँदनी,
स्वप्निल फुलझड़ियाँ फूट परे थे उस क्षण,
पर किसने इस क्षण को भरमाया!

तुझसे मेरा वक्त किसने छीना?

एकाकीपन उसने तोड़ा था,
व्यथित मन को दी थी इक आशा,
सपन सुनहला जन्मा था आँखों,
सुख की घड़ियों को मैने पहजाना था,
पर किसने इन घड़ियों को भरमाया ।

तुझसे मेरा वक्त किसने छीना?

रहने दो तुम मत दो आस

रहने दो तुम.....!
अब मत करो बात।
भूल जाओ,
अब मत दो आस।
तुम्हारे होंगे असंखय दोस्त,
मिटती होगी जिनसे
तेरी प्यास,
मेरी तो बस एक ही आस,
ला सकता था जो मधुमास,
स्मृति से तेरे हुआ मैं विस्मृत,
बस अब तो,
छोड़ चला हूँ आस।
न मिट सकेगी अब,
इस मन की प्यास।
रहने दो तुम....!
भूल जाओ, मत दो आस,
रहने दो तुम.....!
मत करो बात।
गुजरा हुआ वक्त हूँ मैं,
लौट नही फिर आउँगा,
यादों मे रह जाऊँगा साथ,
रहने दो तुम.....!

दृश्य विहंगम

दृश्य विहंगम समक्ष आँखों के,
आभा प्रकृति की अति निराली,
उपवन ने छेड़े है राग मधुर से,
मचल उठे प्राण तुझ संग अालि।

अरुणिमा यूँ बिखरी नभ पर,
फूलों के चेहरे हो रहे है प्रखर,
राग प्रकृति संग खग के मुखर,
मुरझाए निशि के कर्कश स्वर।

शिखर हिमकण इठलाते झिलमिल,
पात ओस की बूँदों के मुख गए खिल,
कोयल ने छे़ड़ी रागिणी अति कोमल, 
आलि संग हंदय हो गए हैं आकुल।

मेरा एकाकीपन

मैं अकेला,
अग्यात् रश्मिकण,
जीवन की सांध्य वेला।

मेरा एकाकीपन
देकर स्नेह चुंबन,
बांधती जाती मुझे अकेला।

पी गया मैं
गरल जीवन का,
समझ मधुघट अलबेला।

प्यासे जीवन की आशा

आग वो जो जीवन पीकर जलती है,
प्यार वो जो प्यालों में डूबकर मिलती है,
कोमलता वो जो तुम संग मिलती है,
मधुरता वो उस क्षण प्राणों में बसती है।

प्यास वो जो गरल पीकर बुृझती है,
आँसू वो जो तेरी यादों में बहती है,
सम्मुख वो जो जग से विमुख रहती है,
लहर वो जो तुझ संग हृदय में उठती है।

ओह! मन तू समझ ले जीवन की परिभाषा,
डाल दृष्टि उस अचेतन पर तू तजकर निराशा,
विमुख जो तुझको दिखता, वही है तेरे सम्मुख,
गरल मे ही संचित है, प्यासे जीवन की आशा।

मिटती नहीं मन की क्युँ प्यास?

मिटती नही मन की क्युँ प्यास !

जैसे जीवन में गायन हो कम,
गायन में हों स्वर का अधूरापन,
स्वर में हो कंपन का विचलन,
कंपन में हो साँसों का तरपन ।

मिटती नहीं मन की क्युँ प्यास?

जीवन दो क्षण सुख के मिले,
और प्यास मिली रेगिस्तानों सी,
मृगतृष्णा अनंत अरमानों के मिले,
प्यास मिली कितनी प्रबल सी।

मिटती नहीं मन की क्युँ प्यास?

अतृप्त अन्तर्मन

अतृप्ति कितना अन्तर्मन में,
विह्वल प्राण आकुल तन में,
पीड़ा उठते असंख्य प्रतिक्षण में,
अतृप्त कई अरमान जीवन में।

मधु चाहता पीना ये हर क्षण,
अगणित मधु प्यालों के संग,
चाहे मादकता के कण-कण,
आह! अतृप्त कितना है जीवन।

असंख्य मधु-प्याले पीकर भी,
बुझ पाती नही मन की प्यास,
शायद तृप्ति ही है यह क्षणिक,
आह! अतृप्ति अटल अन्तर्मन में।

Monday, 28 December 2015

क्या बीते वर्ष मिला मुझको

पथ पर ठहर मन ये सोचे,
क्या बीते वर्ष मिला है मुझको।

चिरबंथन का मधुर क्रंदन या
लघु मधुकण के मौन आँसू।

स्वच्छंद नीला विशाल आकाश या
अनंत नभमंडल पर अंकित तारे।

चिन्ता, जलन, पीड़ा सदियों का या,
दो चार बूँद प्यार की मधुमास।

अवसाद मे डूबा व्यथित मन या
निज जन के विछोह की अमिट पीड़ा।

मौन होकर ठहर फिर सोचता मन,
क्या बीते वर्ष मिला है मुझको।

धुँधला साया

आँखों मे इक धुंधला सा साया,
स्मृतिपटल पर अंकित यादों की रेखा,
सागर में उफनती असंख्य लहरों सी,
आती जाती मन में हूक उठाती।

वक्त की गहरी खाई मे दबकर,
साए जो पड़ चुके थे मद्धिम,
यादें जो लगती थी तिलिस्म सी,
इनको फिर किसने छेड़ा है?

यादों के उद्वेग भाव होते प्रबल,
असह्य पीड़ा देते ये हंदय को,
पर यादों पर है किसके पहरे,
वश किसका इस पर चलता है।

स्मृतिपटल को किसने झकझोरा,
बुझते अंगारों को किसने सुलगाया,
थमी पानी में किसने पतवार चलाया,
क्युँकर फिर इन यादों को तूने छेड़ा ?

साथ मेरे तुम क्यूँ नही आए

कोलाहल मची है मन के अन्दर,
प्राणों के आवर्त मे भी लघु कंपन,
अपनी वाणी की कोमलता से,
कोलाहल क्युँ ना तुम हर जाते,
बोलो ! साथ मेरे तूम क्यूँ नही आए।

इक क्षण को तब मिटी थी पीड़ा,
साथ तुम्हारा मिला था क्षण भर,
कोलाहल तब मिटा था मन का,
तुमसंग जीवन जी गया मैं पल भर,
बोलो ! साथ मेरे तुम क्युँ नही आए।

अवसाद मिटाने तुम आ जाते,
जीवन संगीत सुनाने तुम आ जाते,
वीणा तार छेड़ने तुम आ जाते,
जीवन क्लेश मिटानें तुम आ जाते,
बोलो ! साथ मेरे तूम क्युँ नही आए।

सन्निकट अवसान

अवसान सन्निकट जीवन के,
छाए स्वत: हो रहे अब दीर्घ,
वेग-प्रवाह धीमे होते रक्त के,
सांसें स्वतः हो रहे अब प्रदीर्घ।

बीत रहा प्रहर निर्बाध अधीर,
अभिलाशाएँ हृदय की बहाती नीर,
सांझ जीवन की आती अकुलाई,
वश में कर सकै ऐसा कौन प्रवीर।

उत्थान-पतन और विहान-अवसान,
महाश्रृष्टि रचयिता के हैं दो प्रमाण,
जीर्ण होकर ही दे पाता ये नव जीवन,
कर्म अडिग कर, बना अपनी पहचान।

फिर दैदिप्य हुआ पूर्वांचल

फिर दैदिप्य हुआ पूर्वांचल,
प्रखर भास्कर ने पट हैं खोले,
लहराया गगण ने फिर आँचल,
दृष्टि मानस पटल तू खोल,
सृष्टि तू भी संग इसके होले।

कणक शिखर भी निखर रहे है,
हिमगिरि के स्वर प्रखर हुए हैं,
कलियों ने खोले हैं घूंघट,
भँवरे निकसे मादक सुरों संग,
छटा धरा का हुआ मनमोहक।

प्रखरता मे इसकी शीतलता,
रोम-रोम मे भर देती मादकता,
विहंगम दृष्टि फिर रवि ने फैलाया,
प्रकृति के कण-कण ने छेड़े गीत,
तज अहम् संग इनके तू भी तो रीत। 

Sunday, 27 December 2015

प्रीत भरा मन

प्रीत रीत की वो राहें,
जिन पर संग कभी चले थे हम,
ना छोड़ेंगे कभी ये दामन,
ये वादा तुम संग कर चले थे हम,
पर मन अब कितना अकेला है।

चखा था अमृत उन अधरों का,
इन अधरों ने फिर भी
अमिट प्यास अब भी हमारी है,
मन की आवर्तों मे अब भी,
मिलने की आस संभाली है,
देखो मन कितना अलबेला है।

नयन तकते अब भी राह तुम्हारी, 
वादों की करता रखवारी,
तेरी यादों के दामन मे बस जाऊँगा,
याद तुझे भी मैं आऊँगा,
साँसों के थमने तक, बस तुझको ही चाहुँगा,
ये मन भी कितनाअलबेला है।

पूछे जो कोई तुमसे

पूछे जो कोई तुमसे कौन हूँ मैं?
तुम कह देना,

एक बेगाना पागल दीवाना, 
जो अनकही बातें कई कह जाता है..!

एक धुंधला चेहरा,
 जो यादों में बस रह जाता है...!!

एक बेगाना अन्जाना,
जो जीवन दर्शन दे जाता है...!!

एक जाना पहचाना,
जो कभी-कभी बात पते की कह जाता है...!!

यूँ तो उसके होने, या फिर, 
ना होने से,
कुछ फर्क नही पड़ता जीवन पर..!!!

पूछे जो कोई तुमसे, तुम कह देना!!!!
पर क्या अपने दिल से 
तुम यही कह सकोगी??????
शायद नही........!!! कभी नही.......!!!

यादों के नीर

नैनों से जो छलक पड़े हैं,
विह्वल होकर जो सिसक पड़े है,
हैं तेरी यादों के वो नीर।

भावप्रवण जो फफक पड़े है,
अधरों पर जो बरस पड़े हैं
है तेरी यादों के वो जंजीर।

इन भावों से है गहराता सागर,
चखा है जिनको इन अधरों ने,
ये हैं तेरी प्यास के अधीर।

नीर नहीं ये, हैं नीरव अमृत,
पीता जाऊँ मैं इसको जीवनभर,
है जीवन तेरी आस का पीर।

चखा है अमृत अधरों ने पर,
अब भी बाकी प्यास हमारी,
नैनों से अविरल बह जाने को,
विह्वल नीर ने फिर कर ली तैयारी।

तुम मुझसे दूर कहीं

तुम मुझ से है दूर कहीं मैं सोच रहा हूँ,
यह सोचना ही तो जीवन है इस पल का,
लहरों में मौन बहा उन प्यालों से छलका।

सदियों मेरी आवाज़ की तरंगों ने
आसमान मे कितने ही घनवृत्त रचाया,
युगों बसन्त में मन की पत्तियाें ने,
पतझरों मे लुटकर पुष्पोत्सव मनाया,
सदियों हृदय में सँजोई आशाओं ने,
जगमग हो जगत को मौन उपहार दिया ।

प्रिय तुम चांदनी मधु उषा ले मुझे जगाओ,
झिझक छोड़ मन का जंजाल जोड़ दो
साँसों मे ले लहर सी आओ तुम लहराओ।

युगों से प्राण-बंधन व्योम रहा मुझ पर छाया ,
अपना बस क्या, जीवन है दुनिया का सपना,
जब तक आँखों में है, तब तक ज्योति बना है।
अलग हुआ तो, आँसू है या तिमिर घना है।

प्यार ! जो पूरा न हो, तू उन्हीं ख्वाइशों में से है एक!

प्यार इक कशिश

प्यार! तू है इक कशिश,
कोशिशों के बावजूद भी 
जो रह जाती हो अधूरी ..! 
तू उन्हीं ख्वाइशों में से है एक....!!

गर कर सको तुम,
ले कोरे कागज़ को हाथो में,
दो अपने अक्शों का स्नेह स्पर्श,
तू उन्ही खलिशों में से है एक ...!!

हमने खुद में पिरोया है तुम्हे,
एक ताबीर की तरह ,.,
टूटे गर हम बिखर जाओगे तुम भी,
तू उन्ही तपिशों में से है एक ...!!

चाह मेरी

चाह मेरी 
बरगद सा विशाल बनूँ,
दरख्तों सी हो
शख्सियत हमारी,
कंधे विशाल 
थामूँ युग का जुआ।

बरगद जैसी हो
असंख्य मजबूत बाहें,
शाखाएँ विशाल चहुँ दिशा में
लिए छाँव घने,
बने शख्सियत 
सागर पटल सी विस्तृत।

उम्र के इस पड़ाव पर,
चंचल मन अधीर सा 
खोता जाता,
 वक्त हाथों से बस रेत सा 
फिसलता जाता।

Saturday, 26 December 2015

उम्र के इस पड़ाव पर

मानव मन की चाह होती असीमित,
ईच्छाएँ पैदा लेती इनमें अपरिमित,
चाहता ये ब्रम्हांड की सीमा छू लेना,
पर हासिल ना कुछ भी हो पाता।

सोचता था बरगद सा विशाल बनूँगा,
दरख्तों सी होगी शख्सियत हमारी,
विशाल कंधों पर होगा युग का जुआ,
पर हासिल ना कुछ भी हो पाता ।

बरगद जिसकी है असंख्य मजबूत बाहें,
शाखाएँ फैली चहुँ दिशा में लिए छाँव घने,
शख्सियत सागर पटल सी लंबी उम्र लिए,
पर हासिल ना कुछ भी हो पाया ।

ढ़लते उम्र के इस पड़ाव पर सोचता,
चंचल पखेरू मन अधीर सा होता जाता,
हाथों से रेत सी फिसलती जाती वक्त,
और हासिल ना कुछ भी कर पाता।

ईश्वर ने दिया है बस ईक जीवन,
सांसें भी दी है बस गिनतियों की,
करनी थी आशाएँ सब पूरी इनमें,
पर हासिल ना कुछ भी हो पाया ।

चाहता हूँ समय ले फिर से करवट,
उलटी दिशा में फिर लौट चले ये,
कर सकुँ शुरुआत पुनः जीवन का,
पर हासिल ना कुछ भी हो पाता ।

समय बलवान महत्ता इसकी तू पहचान,
कर कुछ ऐसा, बरगद से भी हो तू महान,
शख्सियत में तेरे, जड़ जाएं चांद-सितारे,
सागर पटल भी आएँ, छूने चरण तुम्हारे।

किरणों ने खोले हैं घूंघट


किरणों ने फिर खोले है घूंघट,
                   तिमिर तिरोहित बादलों के,
कलुषित रजनी हुआ तिरोहित,
                   संग ऊर्जामयी उजालों के।

अनुराग रंजित प्रबल रवि ने,
                    छेड़ी फिर सप्तसुरी रागिणी,
दूर हुआ अवसाद प्राणों का,
                    पुलकित हुई रंजित मन यामिनी।

ज्योतिर्मय हुआ ज्योतिहीन जन,
                    मिला विश्व को जन-लोचन तारा,
अवसाद मिटे हुआ जड़ता विलीन,
                    मिला मानवता को नव-जीवन धारा।

शाकाहारी मांसाहारी

एक शाकाहारी नें गर्व से कहा, 
साग सब्जी भून रहा हूँ मैं खाने को,
जीवन नहीं लेता मैं किसी कि
अपनी क्षुधा, भूख, तृष्णा मिटाने को।

मैने कहा यह तो है सापेक्षिक समझ,
कण-कण में रजते बसते हैं प्राण,
कोशिकाओं ऊतकों से बनते ये भी,
तुम भी लेते हो प्राण उस कण की।

उन कोशिकाओं मे भी होती है जान,
श्वाँस लेते ये भी इन्हे भी होती है पीड़ा,
दर्द हो सके तो तू इसकी भी पहचान,
स्वार्थ में रजकर क्यों रचता है तू भी स्वांग।

कण कण मे बसे हैं सूक्ष्म प्राण
प्रसव पीड़ा तू इनकी भी पहचान।
हो चुका था वो बिल्कुल निरुत्तर ,
विवश हो उठे थे उसके प्राण ।

शाकाहारी मांसाहारी तो है विभिन्र रुचि बस,
नही झलकते इनसे अलग विचार,
भाव अगर हो सूक्ष्म जीवन की रक्षा,
करो तुम कर्म महान हो जग का कल्याण ।

आरोह-ठहराव-अवरोह

आरोह अगर सत्य है तो, अवरोह भी अवश्यमभावी,
उत्थान अगर सम्मुख है तो, पतन भी प्रशस्त प्रभावी,
जीवन चेतन सत्य है तो, मृत्यु भी है शास्वत भावी,
समुन्दर मे है ज्वार प्रबल तो, भाटा भी निरंतर हावी।
आरोह है जीवन के उत्थान की तैयारी.........
जैसे खेत मे बीजों का अंकुरित होना,
खिलते कलियों-फूलों का इठलाना,
काली घटाओं का नभ पर छा जाना,
मदमाते सावन का झूम के बरस जाना,
समुद्र में अल्हर ज्वार का उठ जाना,
सुबह के लाली की आँखों का शरमाना,
प्रात: काल पंछियों का चहचहाना,
नव दुलहन का पूर्ण श्रृंगार कर जीवन में..........
..............आशाओं के नव दीप जलाने की बारी।
अवरोह है जीवन के ढलने की बारी.........
जैसे खेतों के बीजों का पौध बन फल जाना,
कलियों-फूलों के चेहरों का मुरझाना,
काली घटाओं का मद्धिम पड़ जाना,
सावन की मदिरा का सूखकर थम जाना,
समुद्री ज्वार का भाटा बन लौट जाना,
सूरज की किरणों का तेज निस्तेज पड़ जाना,
पंछियों का थककर वापस घर लौट आना,
दुल्हन का श्रृंगार जीवन भट्ठी में झौंक.........
............संध्या प्रहर मद्धिम दीप जलाने की तैयारी।
पर आरोह अवरोह के पलों के मध्य,
                  आता है पल ईक ठहराव का भी,
कुछ अंतराल के लिए ही सही पर,
                  दे जाता है इनको अल्पविराम भी,
ठहराव ही तो क्षण हैं, दायित्व पूरा कर जाने को,
मानव से मानव भावना की, गठजोर कर जाने को,
संसार की सारी खुशियाँ, दामन में समेट ले जाने को,
उपलब्धियों की सार्थकता, अर्थपूर्ण कर जाने को,
अवरोह बेला उन्मादरहित, अनुकरणीय बना जाने को!
जैसे सा, रे, ग, म, प, ध, नी, सा,
                 सा, नी, ध, प, म, ग, रे, सा के मध्य,
सा - है ठहराव, अल्पविराम,सम की स्थिति,
                सुर नही सध सकते बिन इनके पूर्ण।
सम है तो निर्माण है संभव,
                         वर्ना है विध्वंश की बारी !!!!!!!!!!

Friday, 25 December 2015

जीवन क्या है?



जीवन एक डगर है, ठहर नहीं तू चलता चल,
पथ हों दुर्गम रख साँसों में दम बढ़ता चल।

जीवन एक लहर है, पतवार लिए तू बढ़ता चल
धैर्य बना ध्रुवतारा, विपदाओं को परे करता चल।

जीवन एक समर है, हर संकट से तू लड़ता चल,
आत्मबल से हर क्षण को विजित करता चल।

जीवन एक प्यार है, दिलों से नफरत को तू तजता चल,
कर हिय को झंकृत द्वेश घृणा पर विजय पाता चल।

जीवन एक समर्पण है, हृदय प्राण किसी को देकर चलता चल,
हाथों को हाथों मे ले उनके दुख तु हरता चल।

जीवन एक विश्वास है, हर बाधाओं से मुक्त हो बढ़ता चल,
दुख से हारना नियति नहीं आशा और लगन से तू कामयाबी पाता चल।

जीवन एक एहसास है, जियो हर क्षण को तुम बनाते संबल,
हर आने वाला पल जुड़ जाए अतीत से हो विकल।

शब्द मुझ तक पहुँच नही पाते

तुम्हारे शब्द मुझ तक पहुँच नहीं पाते,
होठों से मंद मंद फूटे शब्दों के कंपन,
आँखों से निकली प्रकाश की किरण,
चाहें बंधन तोड़ युगों से मुझ तक आने को।
पर शब्द ये मुझ तक पहुँच कहाँ पाते हैं ?

दूरी तय करते युग बीते शब्दों को,
फासले ये तय कर नही पाते हैं ?
कंपन किरण से कब जीत पाते हैं?
शब्द ये मुझ तक पहुँच कहाँ पाते हैं ?

प्रकाश की प्रस्फुटन, शब्दों की ध्वनि से तेज,
आंखों की चंचल भाषा, मृदु आवाज़ से चतुर,
शब्दों से पहले पहुँच, ये ठहर जाते हैं।
पर शब्द ये मुझ तक पहुँच कहाँ पाते हैं ?

आँखों की चपल भाषा, मैं मूरख क्या जानूं,
शब्द-स्पंदन से ही, मैं भावों को पहचानुं,
पर मर्यादाओं की सीमाओं में सिमटे शब्द,
उल्लंघित करने का दुस्साहश नही कर पाते हैं,
शब्द ये मुझ तक पहुँच कहाँ पाते हैं ?

क्षण-क्षण मधु-स्मृतियाँ

धुँधली रेखायें, खोई मधु-स्मृतियों के क्षण की,
चमक उठें हैं फिर, विस्मृतियों के काले घन में,

घनघोर झंझावात सी उठती विस्मृतियों की,
प्रलय उन्माद लिए, उर मानस कम्पन में,

जाग उठी नींद असंख्य सोए क्षणों की,
हृदय प्राण डूब रहे, अब धीमी स्पन्दन में,

गहरी शिशिर-निशा में गूंजा जीवन का संगीत,
जीवन प्रात् चाहे फिर, अन्तहीन लय कण-कण में,

जीवन पार मृत्यु रेखा निश्चित और अटल सी,
प्राण अधीर प्रतिपल चाहे मधुर विस्मृति प्रांगण मे,

बीते क्षणों के स्पंदन में जीवन-मरण परस्पर साम्य,
मिले जीवन सौन्दर्य, मर्त्य दर्शन, प्रतिपल हर क्षण में,

धुँधली रेखाओं की उन खोई मधु-स्मृतियों संग,
कर सकूं मृत्यु के प्रति, प्राणों का आभार क्षण-क्षण में!

जन्मदिन की बधाई

25th December
मेरे प्यारे विनय भैया को जनमदिन की ढेर सारी शुभकामनाएँ
Wish you Bhaiya a happy birthday…

ये जनम दिन है वृहद, कोई साधारण नही,
मन में जिसके अपार करुणा, दया व प्यार,
वही सर्वव्यापी मसीहा, पैदा हुआ था आज,
प्रीत की सीख देकर जो, रचता रहता नव-संसार।

वाणी मे जिसकी, घुलती है सरलता-मधुरता,
प्राणों मे जिसके, बसता है अनंत प्यार,
शब्दों मे जिसकी, ढलती है मृदु कोमलता,
हृदय में जिसके, बसती हैं मृदुलता अपार।

जनम लिया था उसने, देने जग को उपहार,
खुद पीड़ा मे रहकर भी, हरता औरों के दुख,
कष्टों को समेट स्वयम् में, करता रहता परोपकार,
जनम लिया है उसी परम ने, उन्हें सादर नमस्कार।

Thursday, 24 December 2015

ओस के बूंदों की प्रीत

आखिर प्रीत जो ठहरी ...बूंदों से!!
इन ओस की
अल्प बूंदों से भी,
बुझ सकती है मेरी प्यास,
जरा ठहरो तो सही।

पर वो तो ओस हैं,
वो भी एक बूंद,
क्षणिक हैं इनका जीवन,
क्या बुझा पाएगी ये प्यास?
सम्पूर्ण धरा है इसकी प्यासी।

ओस की अल्प बूँद,
तुम्हारा लक्ष्य महान,
अपना हश्र जानते हुए भी
बिछ जाती हो हर रात
धरा के 
कण-कण पर,
इसकी प्यास बुझाने,
आखिर प्रीत जो ठहरी ...!!

तलाश

विस्तृत सा आकाश है,
फिर भी तन्हाईयों का एहसास है,
इस घनी सी बस्ती मे,
अपने घर की तलाश है।

दीप जलाने वाले सौ,
फिर भी बुझती लौ सी आस है,
जाने पहचाने रिश्तों में,
बस जिन्दगी की तलाश है।

ज्जबातों से सूखे आँसुओं में,
डूबती अब आस है,
समुंदर के गीले आँसुओं से,
बुझने वाली ये प्यास है।

लाखों चेहरो हैं पहचाने से,
पर जाने कहां खोया है खुद को,
के आईने को भी अब,
अपने अक्स की तलाश है।

तू चुपके से सुन इस पल की धुन

सुबह की पुरवाई मे घुली तेरी महक,
मेरी आँखों के गीले कोरों से,
मखमली ख्वाबों को चुनकर,
शाम ढ़़ले तन्हाई के एहसासों कों तजकर,
तू चुपके से सुन, इस पल की धुन,
दो दिलों की धड़कनें, मैं और तुम।

चांदनी सम तुम, शांत बादल सम मैं,
तुम बिखरो मुझपर मृदु चांदनी सम,
छा जाऊँ मैं तुमपर विस्तृत आकाश बन,
तुम हो जाओ चंचल निर्मल नदी सी,
सागर सा विस्तृत पूर्ण हो जाऊँ मैं।

नीलाभवर्ण बादलों में छिपी इन बूँदों सम,
वो सुरमयी ख़्वाब हैं, जो देखे हैं हमने तुम संग
अब कणों नें फिर छेड़े है वही धुन, 
चहुँ ओर है शांत सा कोलाहल,
कोयल भी है चुप सुनने को फिर से वही धुन,
तू चुपके से सुन, इस पल की धुन,
दो दिलों की धड़कनें, मैं और तुम।

तुम मुझमें हो

देखो ना,
तुम मुझमे हो,
जैसे धड़कनें है हृदय के अंदर,
इन्हें रखने को जीवित,

पर क्या धड़कन को भी है,
किसी हृदय की जरूरत,
धड़कते रहने को,
अपने अस्तित्व को जिन्दा रहने को,

तुम मुझमे हो,
इससे यह कहां साबित होता है कि,
मैं भी तुझमे हूँ,
मेरी जरूरत भी है तुम्हें,
उतनी ही संजीदगी से।

एहसास जिन्दा हों तो,
हमें एक दूसरे की जरूरत है,
दुनियाँ भर की तमाम यादें समाहित हैं,
इन चंद पंक्तियों में...................
तुम भी हो इसमें कही न कही।

Wednesday, 23 December 2015

तुम बनो प्रेरणा जग हेतु

ओ मानव ! 
निराशा तज कर तुम आशावान बनो,
कर्म पथ पर नित प्रगतिशील रहो, 
मलयनील के उत्तुंग शिखरों तक,
तुम पहुचो निर्बाध गति से,
कनक शिखर पर तेरे ,
सूरज भी आएं शीष झुकाने,
कर्म पथ पर चलकर,
तुम बनो प्रेरणा जग हेतु,
असंख्य हाथ उठे तेरी इशारों पर,
असंख्य शीष उठकर तेरी राह निहारे।

जिन्दगी के आईने प्रखर हो इतने,
प्रबुद्ध बनकर चमको तुम इतने,
कि बीते कल के घनघोर अंधेरे,
रौशनी में शरमाकर धुल जाएं इनमें,
आशा का नव संचार हो,
हो फिर नया सवेरा,
हर पल जीवन में हो उजियारा,
निष्कंटक पथ प्रशस्त हों प्रगति के,
कोटि-कोटि दीप जलकर तेरी राह सवाँरे।

मेरी अन्तरआत्मा की आवाज

किसी दोस्त ने टिप्पणी की,

ज़िन्दगी ख़ुद ब ख़ुद एक आइना है जो बयां करती है
बीते हुए कल की जो अंधेरी रात की तरह है
अौर सुबह का इन्तज़ार करती है आने वाले खुबसूरत पल की,

दूसरे बुजूर्ग दोस्त ने कहा.....

न आए लबों पे तो कागज़ पे लिख दिया जाए..
किसी खयाल को मायूस क्यों किया जाए__

मेरी अन्तरआत्मा ने जवाब दिया....

कागजों के लिखे तो मिट जाते हैं,
                  ख्याल वो जो दिलों पे लिखे जाएं,
महसूस हो जो जन्मो-जन्मों तक,
                  एहसासों को अन्दर तक झकझोर जाएं।

जिन्दगी के आईने को हम इतना चमकाएं,
कि बीते कल के अंधेरे इनमें घुल जाएं,
आनेवाला हर पल हो उज्जवल, खुशनुमा,
जिन्दगी की सुबहो-शाम खो इनमें जाए ।

मलयनील के उत्तुंग शिखरों तक तुम पहुचो,
कनक शिखर पर तेरे सूरज भी शीष झुकाएं,
कर्म पथ पर चलकर तुम बनो प्रेरणा जग में,
असंख्य शीष उठकर तुम्हें आशापूर्वक निहारे।

परिधियों के दायरे

परिधियों के दायरे

परिधियों मे संकुचित जीवन आदर्श,
परिधियों मे संकुचित उमरता विचार,
पर मानव व्यक्तित्व भरता कुलांचे,
जीवन्त सोच भरती नित नई उड़ान,
कुछ नया कर जाने को।

चाहूँ तोड़ना परिधियों के दायरे,
कर सकूँ स्थापित एक नया आदर्श,
जहां विचार हों स्वतंत्र उमरने को,
विश्व कल्याण हेतु कुछ करने को,
दिशा नई दिखा जाने को।

दायरे हों इतने विशाल,
पंख हो इनके इतने विस्तृत,
समाहित हो जाएं इनमें जनाकांक्षा,
विचार ले सके खुल के श्वाँस,
मंजिल नई पा जाने को।

धर्म, जाति, कुल, वंश का न रहे कोई भेद,
परिधियों के परे हो मेरी पहचान,
विश्व कल्यान हों जिनका आदर्श,
परिधि खुद हो सके विस्तृत,
समय के साथ बढ़ जाने को।

Tuesday, 22 December 2015

चाहत की मंजिल

मेरी भीगी चाहतों को जैसे, आज मंजिल मिल गई
एक मुश्त खिलखिलाती, सुनहरी धूप मिल गई,
सफल हुई मेरी पूजा, ज़िन्दगी फूलों सी खिल गई।

कोई शिकायत न रही किश्तों मे मिली जिन्दगी से,
जिस निगाहे नूर की कमी थी,
वो निगाहें चश्मेबद्दूर मिल गई,

जी खोलकर की जब उसने मन की बातें,
रौशन लगने लगी हैं अब जीवन की राहें,
उसकी ज़रा सी नूर काफ़ी थी ज़िन्दगी के लिए,
किश्मत मेरी, मुझे विसाले यार मिल गई।

करती रही वो बेपरवाह मनगढंत शिकायतें,
कि तुमने ये क्युँ कहा? तुमने वो क्युँ नही कहा?
तुम्हारी भाषा भटक क्युँ गई? तुमने पूछा क्युँ नही?
बेपरवाह हँसती रही वो इन सवालों में,
जैसे निगाहे यार को भी सुकून मिल गई।

मैने देखा उस बेपरवाही में है जीवन अनंत, 
उन आँखों मे रौशनी है असीम, आशाएँ हैं दिगन्त,
साधना सफल हुई मेरी, जीवन हुआ जैसे पूर्ण
मुझे मेरी जीवन दिगन्त मिल गई।

तुम लौट आओ

प्रिय तुम सुनो मेरी आवाज...
कहीं हवा में है घुली- घुली सी....
तुम गुजरो यादों के गलियारे से..
मेरी परछांईयां तुम्हें वहां भी मिलेंगी...
आज भी शामिल हूँ यादों मे तेरे..
कही न कही मैं संग तुम्हारी राह में.....

मेरी आंखें रोकती है तुम्हारे बढ़ते कदम,
लौट जाती हो तुम, क्या अब भी डरते हो...
उन घनी पलकों की छावों से......
सुनती हो तुम.. मेरी खामोशी..
मेरी पलकों से गिरते शीशे चुभते है तेरे पांव में...
दर्द होता है तुम्हें .... मेरे दर्द से..

अनछूआ सा वो रिश्ता..छूता है तुम्हें...
थाम हाथ तुम्हारा, करता है जिद ..
वजूद मेरा शामिल है तेरी रूह में...
लौट आओगे तुम फ़िर कभी.....
निभाने रिश्ते पुराने...बिताने गुजरे ज़माने....
मेरे ख्वाब रखे हैं मैनें संभाले तुम्हारे सिरहाने..

ढूंढता हूँ हर चेहरे में तेरा अक्श,
करने लगता हूँ प्यार उस शक्श से,
पर मिलती नही मुझे वो राहत,
तुम लौट आओ ,,,तुम लौट आओ.....

रूह की सिसकियाँ

कुछ बूंदों के अकस्मात् बरस जाने से,
सिर्फ लबों को क्षणभर छू जाने से,
बादलों के बिखरकर छा जाने से,
ये रूह सराबोर भींग नहीं जाते।

जमकर बरसना होगा इन बादलों को,
झूमकर बूंदों को करनी होगी बौछार,
छलककर लबों को होना होगा सराबोर,
रूह तब होगी गीली, तब होगी ये शांत।

पिपासा लिए दिगंत तक पहुचते-पहुँचते,
हो जाए न ये रूह एकाकी, होते-होते भोर,
विहंगम शून्य को तकते ये नीलाकाश,
अजनबी सी खड़ी रूह, कही उस ओर।

कुछ स्पंदन के लम्हात् और बढ़ा जाते,
रूहों की पिपासा और अविरल जीने की चाहत,
ताउम्र नही मिल पाती फिर भी,
रूह की सिसकियों को, तनिक भी राहत।

अवरोह वेला गीत कोई तो गाता?

जीवन पथ आरोहित होता जाता,
सासों का प्रवाह प्रबल हो गाता,
धमनियों के रक्त प्रवाह अब थक सा जाता,
जीवन अवरोह मुखर सामने दिखता,
नदी के इस पार साथ कोई तो गाता।

गीत जिनमें हो सुरों का मधुर आरोह,
लय, नव ताल, मादकता और सुकुँ का प्रारोह,
उत्कंठा हो जी लेने की, सुदूर हृदय मे बस जाने की,
किंतु मेरी रागिनी हो पाती नही निर्बंध निर्झर।

अर्धजीवन की इन सिमटते पलों मे,
आरोहित होते संकुचित पलों मे,
अब तीर नदी न कोई मिल पाता,
नदी के इस पार गीत कोई न गाता।

इक मैं हूँ खड़ा इस तट पर एकांत,
साथ देती मेरी नदी जल चुप श्रांत,
गीत गाती ये मंद अलसायी हवाएं,
साथ देती नदी के उस पार ईक साया।

जीवन अारोह है अब होने को पूर्ण,
अवरोह की बेला भी दिखती समीप,
मन चाहे अवरोह भी हो उतना ही मुखर,
मधुर हो इसकी तान मादक हों इसके स्वर।

पर यह देख मन मायूस हो जाता,
नदी के इस पार गीत कोई न गाता,
न इस तट, न उस तट, मिल कोई न पाता,
काश! नदी के इस पार साथ कोई तो गाता।

जीवन अवरोह मुखर हो जाता.......!
नव गीत कोई यह भी गा पाता........काश!

Sunday, 20 December 2015

वक्त ठहरता ही नही

वक्त ठहरता ही नही, आशाएं बढती ही जाती,
जीवन की इस गतिशीलता, बढ़ती महत्वाकांक्षाओं मे,
भावनाएं या तो पंख पा लेती हैं,
या फिर कुंठित हो जाती।

व्याकुल आंखे जीवन भर तलाशती रह जाती हैं उन्हे, 
जिनसे भावनाओं को समझने की उम्मीद हों बंधी,
वो मिल जाएं तो ठहराव आता है जीवन में,
कुछ कर गुजरने की तमन्ना जगती हैं

पर दिशाहीन भटकती आकांक्षाओें,
पल पल बढ़ती महत्वाकाक्षाओं के बीच,
वक्त ही कहां है शेष प्रीत की रीत निभाने को,
बचता है फिर कौन जीवन ज्योत जलाने को।

मुझे वो चेहरा पुनः मिल गया,
मन की आकांक्षाओं ने फिर ऊँची उड़ान भरी,
पर उसकी आकांक्षाएं, महत्वाकांक्षाए,
मेरी संवेदनाओं से कही अधिक ऊँची निकली

भावनाएं हुई हैं पुनः कुंठित,
चेतनाएँ हो चुकी हैं शून्य मतिहीन,
जीवन लगने लगी है दिशाहीन,
क्युंकि वक्त ही नही उसके पास भी ।

इन्सानी उम्र की अपनी है सीमा,
वक्त के लम्हे बचे हैं बस गिने चुने,
आशाओं के तो हैं पर लगे हुए,
पर वक्त ठहरता ही नही, बस हम गुजर जाते है
अधूरी अपूरित इक्षाओं के साथ.........

मैं रहूंगा जीवित!

मै पुरूषोत्तम कुमार सिन्हा,
अकाट्य सत्य है कि एक दिन मिट जाऊंगा,
पृथ्वी पर जन्मे,असंख्य लोगों की तरह, 
समाहित कर दिया जाऊंगा दावानल में,
प्रवाहित कर दी जाएंगी मेरी अस्थियां भी,
गंगाजल फिर या किसी नदी तालाब मे,
मिट जाएंगी मेरी स्मृतियाँ भी।

मेरे नाम के शब्द भी हो जाएंगे,
एक दूसरे से अलग-अलग.
पहुँच जाएंगे शब्दकोष में अपनी-अपनी जगह,
जल्दबाजी में समेट लेंगे वेअपने अर्थ भी,
लेने को एक नई पहचान, एक नव-शरीर के साथ।

पुरूष कहीं होगा, उत्तम कहीं, कहीं होगा कुमार,
सिंहा होगा कहीं, करता हुआ पुनर्विचार,
एक दिन असंख्य लोगों की तरह, 
मिट जाऊँगा मैं भी, मिट जाएगा मेरा नाम भी।

पर निज पर है मुझे विश्वास कि रहूंगा मैं,
फिर भी जीवित, चिर-मानस में तुम्हारे,
राख में दबे अंगारे की तरह,
कहीं न कहीं अदृश्य, अनाम, अपरिचित,
रहूंगा जीवित फिर भी मै -फिर भी मैं।
भुला न पाओगे तुम मुझे जीवन पर्यन्त।

मन रुपी वृक्ष

निस्तब्ध विशाल आकाश के मध्य,
मन रुपी वृक्ष !
मानो चाहे मौन तोड़ कुछ कहना,

पर निष्ठुर वक्त की दायरे संकीर्ण इतने कि,
कौन सुने इनकी मन की बातें?
कौन करे इंतजार?

अब केवल मौन है,
निस्तब्धता है मन के भीतर,
जैसे निस्तब्ध रात की सियाह चादर पर,
टंकी सितारों की लड़ियाँ बिखर गई हैं।

खनकती हंसी खो गई है हवाओं के साथ,
सिर्फ इक नाम होठों पे ठहरा है युगों से,
ख़ामोशी की दीवार तोड़ना चाहते हैं कुछ शब्द,
लेकिन वक्त के हाथों मजबूर हैं,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

क्यूंकि वक्त ने छोड़ा है केवल ''मौन'',,,,,,,,,,
जैसे किसी बियावान निर्जन देवालय में,
पसरा हो ईश्वर का नाम...!
पूजनेवाला कोई नहीं,
बचे हो सिर्फ एहसास..............!

मेरी माँ का आशीष

मेरी मां द्वारा उच्चारित तत्क्षण् आशीष शब्द...

लो मेरा आशीष
प्रतिक्षण प्रगति पथ पर बढ़ चलो तुम
तुम्ही आशा, तुम्ही स्वपनों की बनो साकार प्रतिमा,
दे रही आशीष तुझको, भावना की भावभीनी भेंट ले लो,

चाहता है मन तुझे आरूढ़ देखूं, प्रगति के उत्तुंग शिखरों पर,
ग्यान का आलोक ले विद्या विनय व पात्रता से 
तुम लिखो इतिहास नूतन,गर्व जिसपर कर सकें हम, 

वाटिका के सुमन सम विकसित रहो तुम,
सुरभि से जन जन के मन को जीत लो तुम,
स्नेह सेवा देशहित तुम कर सको सबकुछ समर्पण,
मार्ग के काटों को फूलों मे बदल लो,
भावना की भावभीनी भेंट ले लो,

शब्द को शक्ति नहीं कि भावना को मुखर कर दे, 
समझ पाओ तुम हमे (मां-गुरु)
ईश्वर तुम्हारी बुद्धि को भी प्रखर कर दे,
हम वो संतराश है....जो पत्थरों में फूकते हैं प्राण, 
कृति मेरी तुम बनो कल्याणकारी,
ले सको तो स्नेह का उपहार ले लो,
भावना की भावभीनी भेंट ले लो।

-- रचयिता श्रीमति सुलोचना वर्मा (मेरी मां)

Its blessings that my mother said these lines to me, which i could capture in words, at Saharsa (Bihar)

एक कतरा आँसू

एक कतरा आँसू
जो छलक गए नैनों से,
जो देखी दुनिया की बेरुखी,
सिमट गए फिर उन्ही नैंनों मे।

आसू के जज्बात यहां समझे कौन,
अपनी-अपनी सबकी दुनियां,
सभी है खुद में गुम और मौन,
ज्जबातो की यहां सुनता कौन।

बंदिशे हैं सारी जज्बातों पर,
कोमलताएं कही खो चुकी हैं
बेरुखी के सुर्ख जर्रों में,
आँसूं भी अब सोचते बहूं या सूख ही जाऊं...!

वो मधुर आवाज

वो मधुर आवाज जीवन का आवर्त लिए
कानों मे गूंजती सदा प्रिय अहसास लिए,

आवाज.... जिसमे है माधूर्य,
कोमल सा रेशमी दिलकश तान,
जैसे कोयल ने छेड़ी हो सदा,
कूक से उसकी सिहर उठा हो विराना,
पत्तियों को छेड़ा हो हवाओं ने,
उसकी सरसराहट जैसे रही है गूंज,
भँवरे जैसे सुना गए हो गीत नया,
लहरें जैसे बेकल हों सुनाने को कोई बात ।

बारबार वही आवाज जाती है क्यूँ कर
मन को बेकल और उद्विग्न,
हृदय के झरमुट मे गूंजती वो शहनाई,
क्युँ सुनने को होता मैं बेजार
जबकि मुझे पता है,
वो आवाज तो है कही मुझसे दूर,
नहीं है उसपे वश मेरा,
यकी की हदों से से कही दूर
जहां नही पहुच पाते मेरे हाथ,
कल्पना ने तोड़ दिए है अपने दम,

वक्त भी है कितना बेरहम,
भाग्य भी है कितना निष्ठुर,
ईश्वर का निर्णय भी है कितना कठोर
क्युं नही पूरी कर सकता मेरी लघु याचना,
बस वो मधुरआवज ही तो मांगी है हमने,
प्रिय अहसास की ही तो है प्यास,
जीवन का आवर्त ही तो मांगा है मैनें।

जीवन के इस पार या
जीवन के उस पार,
मैं सुन पाऊंगा वो मधुर आवाज,
मेरी क्षुधा न होगी कम, प्यास रहेगी सदा ।

अंतहीन इंतजार..!!!!!!!!

बस इंतजार........और इंतजार......!

सदियों इंतजार ही तो करते रहे हम तुम्हारा,
विहँसते फूलों के चेहरे कब मुरझाए,
धमनियों के रक्त कब सूख गए,
बस, पता ही नहीं चला.............

अनंत इंतजार की घड़ियों को भी हम,
गिन न सके,
चुन न सके राहों से
वो चंद खुशियां,
रहे सिर्फ अतहीन इंतजार
तुम्हे ढेर सारा प्यार,
और कुछ युगों के इंतजार
हां, बस ...........  कुछ युगों के इंतजार.....।

युग जो पल में बीत जाएंगे,
यादों में तेरी हम ही बस जाएंगे,
भूला न सकोगे तुम मुझको भी,
मृत्यु जब होगी सामने
आएंगे बस तुम्हें याद हम ही......

खत्म होगी तब ये इंतजार,
आसमानों मे बादलों के पीछे कहीं,
जब होगी अपनी इक अंतहीन मुलाकात,
साधना मेरी होगी तब सार्थक,
मेरी पूजा होगी तब सफल,
युगों युगों के इंतजार का इक दिन, 
जब मिल जाएगा प्रतिफल.......

Saturday, 19 December 2015

वादों का क्या ?

कहते है, वादों का क्या?
वादे अक्सर टूट जाया करते है पर कोशिशें कामयाब होती है।

लगाव हो हमें जिनसे, उनके टूटने पर तो
पीड़ा भी असीम होती है, कराह भी अथाह,
वादा तो है, प्रष्फुटित विवेक की अन्तरिम प्रवाह,
मानवीय संवेदनाओं की भावपूर्ण चेतना का प्रष्फुटन,
ये जगा जाते है भावनात्मक उम्मीद,
जहां जिन्दगियों के परिणाम होते है प्रभावित,

हर वो शै जो टूटने वाली है,
स्थायित्व का है अभाव उनमें,
जैसे ,,,नींद टूट जाती है, सपने टूट जाया करते हैं,
दिल टूट जाया करते है, शीशा टूट जाता हैं,
और तो और रिकार्ड टूट जाते हैं,
स्थाई नही है ये जरा भी, न है इनका मलाल इन्हें।

फिर वादा निभाने की हमारी निष्ठा
कहां और क्युं हो जाती है विलीन,
मानवीय भावनाओं के उपर भी क्या कुछ और हैं
जो कर जाती हैं हमें विवश वादे तोड़ने को
जिन्दगियों से खिलवाड़ करने को.......

क्यूँ न हम वादा निभाने की कोशिश करें,
दिलों को टूटने से रोके जिन्दगियों को निखार दें
आत्मा पर और बोझ ना पड़े
सुकूँ और करार मिले,,,,,,