Saturday, 30 January 2016

होली

आयो होली रंग अति सुभावन, 
रंग डालूँ जीवन प्रीतम के संग,
राग विहाग गाऊँ चित्त-भावन।

विविध रंग मोहक मनभावन,
डारुँ मुख पे शोभे अतिरंजन,
नयन अभिराम अतिसुहावन।

रत-चुनरी रंग डारूँ सजनी के,
डारूँ रंग मनभावन जीवन के,
मुखमंडल मुखरित सजनी के।

चाहुँ नित फागुन अति-रंजित,
सजनी संग जीवन रंग-रंजित,
धानी चुनर हृदय अभिरंजित।

Friday, 29 January 2016

नेह निमंत्रण

हे प्रिय, तुम मेरे हृदय का नेह निमंत्रण ले लो!

मेरा हृदय ले लो तुम प्रीत मुझे दे दो,
स्वप्नमय नैनों में मुग्ध छवि सी बसो,
स्मृति पलकों के चिर सुख तुम बनो।

हे प्रिय, तुम मेरा प्रीत निवेदन सुन लो!

मैं पाँवो की तेरे लय गति बन जाऊँ,
प्राणों मे तुझको भर गीत बन गाऊँ
तेरी चंचल नैनों का नींद बन जाऊँ।

हे प्रिय, तुम नैन किरण आमंत्रण सुन लो!

तूम जीवन की नित उषा सम उतरो,
मेरी परछाई बन रजनी सम निखरो,
चिर जागृति की तू स्वप्न सम सँवरो।

हे प्रिय, तुम अधरों का गीत तो सुन लो!

मैं सृष्टि प्रलय तलक तेरा संग निभाऊँ,
तेरी अधरों का अमृत पीकर इठलाऊँ,
तुझ संग सृष्टि वीणा का राग दुहराऊँ।

हे प्रिय, मेरे भावुक हृदय का नेह निमंत्रण स्वीकारो!

ईश्वर विनती

हे ईश्वर, मेरी इतनी अभिलाषा पूरित कर!
हे ईश्वर, बस विनती तू मेरी सुन ले!

स्वर्गिक स्पर्शो का मै अनुरागी,
हर्ष विमर्शों का मैं प्रेमी,
मधुर स्मृतियों की क्षण का मैं याचक।

हे ईश्वर, बस इतनी चाह मेरी पूरी कर!

उज्जवल क्षण का अभिलाषी,
निश्चल अंतर्हृदय का वासी,
महत् कर्म मधुरगंध का मैं याचक।

हे ईश्वर, बस मेरी वीणा को तू स्वर दे!

चमकीले आडंबर का बैरागी,
नैसर्गिक धन का मैं प्रेमी,
अंतर के स्वर वीणा का मैं वादक।

हे ईश्वर, बस विनती तू मेरी सुन ले!
हे ईश्वर, बस मेरी इतनी अभिलाषा पूरित कर!

मधुर स्मृति स्पर्श अनुराग

मधुर स्मृति स्पर्श अनुराग छू जाते अंतर के स्वर!

मैं प्रेमी जीवन के स्वर्गिक स्पर्शो का, 
मै अनुरागी जीवन के हर्ष विमर्शों का,
मैं प्रेमी विद्युत सम मधुर स्मृतियों का।

शीतल उज्जवल अनुराग छू जाते अंतर के स्वर!

उज्जवलता दूँ मैं जीवन भर जलकर,
निश्चल बस जाऊँ हृदय संग चलकर,
अंबर की धारा से उतर आऊँ भू पर।

महत् कर्म मधुरगंध छू जाते अंतर के स्वर!

उच्च उड़ान भर लूँ मैं महत् कर्म कर,
त्याग दूँ जीवन के चमकीले आडंबर,
पी जाऊँ मधुरगंध साँसों में घोल कर।

मधुर स्मृति स्पर्श अनुराग छू जाते अंतर के स्वर!

निःस्वार्थ

चिलचिलाती सी धूप में,
निहारता किसी छाँव की ओर,
देख विशाल एक वटवृक्ष,
बढ पड़े कदम उस ओर।

विश्राम कुछ क्षण का मिला,
मिली चैन की छाँव भी,
कुछ वाट वटोही मिले,
हुई कुछ मन की बात भी।

मंद हवा के चंद झौंके मिले,
कांत हृदयस्थल हुआ,
कुछ अनोखे भाव जगे,
प्रश्न अनेंकाें फिर मन में उठे।

विशाल वटवृक्ष महान कितना,
ताप धूप की खुद सहकर,
निःस्वार्थ छाँव पथिक को दे गया,
शीतल तन को कर मन हर ले गया।

पटकथा

किसने लिखी है पटकथा जिन्दगानी की,
ये कैसी है कथा अन्त जिसका पता नहीं,
दौड़ते हैं सब यहाँ मंजिलों के निशाँ नहीं,
पलकें हैं खुली हुई पर दृष्टि का पता नहीं।

एक दूसरे के ही हम दुश्मन सभी बने हुए,
लड़ रहे खुद से ही निज स्वार्थ में घिरे हुए,
कथा है ये कौन सी हम अंजान इससे हुए,
जिसने रची पटकथा, अन्तर्धान स्वयं हुए।

Thursday, 28 January 2016

पुरूष हूँ रखता हूँ पुरूषार्थ

पुरूष हूँ रखता हूँ पुरूषार्थ,
पुरूषोत्तम हूँ निभाता हूँ अपना धर्म,
भरम वादा का मैं तोड़ सकता नही,
ढूँढ लेना मुझे जीवन के उस मोड़ पर कहीं।

पुरुष हूँ, पुरूषोत्तम हूँ निभाऊंगा अपना धर्म सभी।

मिलना तुम उस मोड़ पे जीवन के वहाँ,
राहें उम्मीदों के सारे छूट जाते हैं जहाँ,
सूझता नही जब कुछ हाथों को,
आँखें की पुतलियाँ भी थक जाती हैं जहाँ।

पुरुष हूँ, पुरूषोत्तम हूँ निभाऊंगा अपना धर्म वहाँ।

इन्तजार करता मिलूँगा तुमको वहीं,
राहे तमाम गुजरती हो चाहे कही,
शिथिल पड़ जाएं चाहें सारी नसें मेरी,
दामन छूटे सासों का या लहु प्रवाह थक जाए मेरी।

पुरुष हूँ, पुरूषोत्तम हूँ निभाता हूँ अपना धर्म सभी।

पुकारता क्षितिज

खुलता हुआ वो क्षितिज,
मन के सन्निकट ही कहीं,
पुकारता है तुझको बाहें पसारे।

तिमिर सा गहराता क्षितिज,
हँसता हैं उन तारों के समीप कहीं,
पुकारता अपने चंचल अधरों से ।

मधुर हुए क्षितिज के स्वर,
मध टपकाते उसके दोनो अधर,
हास-विलास करते काले बालों से।

आ मिल जा क्षितिज पर,
कर ले तू भी अपने स्वर प्रखर,
तम क्लेश मिट जाए सब जीवन के।

मान लो मेरा कहा

तुम मान लो आज मेरा कहा!

गीत कोई प्रीत का,
गुनगनाऊँ तेरे संग आज चल,
तार तेरे हृदय का,
छेड़ जाऊँ आज तू साथ चल।

आ चलें उन मंजिलों पर,
गम के बादल न पहुँचते हों जहाँ,
संग दूर तक चलते रहें,
अन्त रास्तों के न मिलते हों जहाँ।

मान लो तुम मेरा कहा,
संगीत की धुन तू इक नई बना,
लय, सुर, ताल कुछ मैं भरूँ,
नया तराना रोज तू मुझको सुना।

अब मान लो तुम मेरा कहा!

खुशियों के क्षण

छंद बिखरे क्षणों के अब बन गए है गीत मेरे!

बिखर गई हैं आज हर तरफ खुशियाँ यहाँ,
सिमट गए हैं दामन में आज ये दोनो जहाँ,
खोल दिए बंद कलियों ने आज घूँघट यहाँ,
खिल गए हैं अब मस्त फूलों के चेहरे यहाँ।

गुजरकर फासलों से अब मिल गई मंजिल मेरी।

शूल यादों के सभी फूल बनकर खिल गए,
सज गई महफिलें हम और तुम मिल गए,
थाम लो मुझको यारों आज वश में मै नही,
मस्त आँखों से सर्द जाम पी है मैनें अभी।

लम्हों के इन कारवाँ में गुजरेगी अब जिन्दगी मेरी।

भटकता मन

निज मन तू क्युँ रत बहलावे में नित दिन!

मन तू सच क्युँ न बोलता?
जीवन का दर्पण दिखा मुँह क्युँ फेरता?
तू ही तो मेरा इक निज है,
दर्पण तू ही दिखलाता जीवन को,
फिर तू क्युँ छलता रहता है मुझको?

निज मन तू क्युँ भटकता रहता नित दिन!

चंचल सा चितवन तेरा,
एकाग्रचित्त तू कभी रह नही सकता,
समझेगा तू मेरी दुविधा कैसे?
तू मेरा अपना पर तू मुझको ही छलता,
मन तू इतना क्युँ बोलता?

निज मन तू किस भुलावे में रहता नित दिन?

Wednesday, 27 January 2016

इंतजार एकाकीपन का


कौन किसका इंतजार करता इस जग में,
क्षणिक इंतजार भी डसता इस मन को,
पार इंतजार की उस क्षण के,
इक एकाकीपन रहता जीवन में,
फिर क्युँ किसी का इंतजार करूँ इस जग में।

वक्त इंतजार नही करता किसी का जग में,
वक्त अथक आजीवन चलता ही रहता,
इंतजार उसे पार उस क्षण का,
कब एकाकीपन मिलता उससे जीवन में,
फिर क्युँ वो इंतजार करे किसी का इस जग में।

अथक इंतजार जो भी करता इस जग में,
पागल उस मानव सा ना कोई मैं पाता,
घड़ियाँ गिनता वो उस क्षण का,
जो लौट कर वापस ना आता जीवन में,
फिर क्युँ करता वो इंतजार बेजार इस जग में।

स्वप्न स्मृति

स्वप्नों की क्षणिक आभा,
विस्मृत होती मानस पटल पे,
अंकित कर जाते कितने ही,
स्मृतियों की धुँधली रेखायें इनमें।

स्वर लहर मधुर स्वप्नों की,
नित अटखेलियाँ करती तट निद्रा पर,
सुसुप्त मन हिलकोर जाती,
खीच जाती स्मृतियों की रेखायें इनमे।

ओ स्वप्न वीणा के संगीत,
नित छेड़ते क्युँ तुम निद्रा के तार,
छेड़ते धुन मधु स्मृतियों की,
बनती स्मृति की कई श्रृंखलाएं इनमें।

प्रभात कोहरे में मिट जाती,
स्वप्न छाया का विस्मृत कारागार,
रह जाती क्षणिक स्मृति शेष सी,
विस्तृत स्मृतियों की लघु रेखाएँ इनमे।

उम्मीद

छंद रचता कोई गीत गाता उम्मीद का,
हसरतें पलती दिलों मे इक उम्मीद की।

ख्वाहिशें पुरस्सर हुई हैं यहाँ उम्मीद से,
फूल खिलते वादियों मे इक उम्मीद से।

तन्हा बसर करता जहाँ इक उम्मीद से,
उम्र कटती गालिबों की इक उम्मीद से।

कोई छोड़ पाता नहीं दामन उम्मीद का,
मुफलिसी में भी पला लम्हा उम्मीद का।

उम्र भर उम्मीद की पंख लिए उड़ते रहे,
पंख उम्मीदों के यहाँ हर पल कतरे गए।

Tuesday, 26 January 2016

क्षणिक पतंगे की जलती कहानी

प्रीत की तेरी,
कहानी क्षणिक पतंगे सी,
अमर प्रीत,
है तेरी जलते दीपक सी,
था लघु,
जीवन तेरी प्रीत का,
पर उम्र सारी,
तूने याद में बीता दी,
कह सकुंगा,
न मै ये जलती कहानी।
मेरे ठंढ़े हृहय में,
अधूरी वो जलती कहानी।

मैं भूलना चाहता,
अब वो जलती कहानी,
जिऊ कैसे,
जब आग उर में होे फानी,
क्या तुम कह पाओगी,
फिर कोई नई कहानी,
क्या तेरे हृदय,
सजेगा आज ठंढा पानी,
क्षणिक पतंगे की,
आग तुझको है फिर जलानी,
मेरे ठंढ़े हृहय में,
तब पू्री होगी वो जलती कहानी।

मौसम सा एहसास

धूप की घनी छाँव तुम,
शीतल चाँदनी सम तुम प्रखर,
सुख का एहसास तुम,
वृक्ष की लताओं सी बिखरी जुल्फें,
नैन पनघट मरुद्यान सम,
ठहर जाऊँ मैं तनिक विश्राम कर लूँ।

ठंढ की गर्म धूप तुम,
प्रात: किरण सम तुम उज्जवल,
नर्म मखमली ओस तुम,
हलकी घटाओं सी बलखाती चाल,
रूप सुलगती आग सम,
ठहर जाऊँ मैं तनिक आराम कर लूँ।

बारिश की बूँद तुम,
मधु कण मधु सम तुम मधुर,
शुष्क हृदय की चाह तुम,
बूँदों से भरी बादलों सा भीगा चेहरा,
ओष्ठ लरजते बादलों सम,
ठहर जाऊँ मै तनिक संग तेरे भीग लूं ।

तू लम्हों मे रह

लम्हों की दास्तान से,
बनी है कहानी कायनात की,
दो लम्हा प्यार का मैं भी गुजार लूँ,
इक कहानी प्यारी सी बन जाए मेरी भी!

लम्हा ठहर गया अगर,
रुक जाएगी सारी कायनात भी,
दो पल संग-संग चल साथ गुजार लूँ,
संग तेरे गुजर जाए रास्ते जिन्दगी की मेरी भी!

लम्हा लम्हा लम्हों मे रह,
रच रच सृष्टि करता कायनात की,
दो लम्हा तू भी मुझमें गुजर बसर ले,
रच सँवर जाए छोटी सी कायनात कही मेरी भी!

तू मेरा सुखद लम्हा वही,
तू कहानी मेरे अमिट प्यार की,
दो घड़ी सुख के फिर संग तेरे गुजार लूँ,
रच बस जाएंगी यादें अन्तस्थ तुझमे कही मेरी भी!

धड़कनों की सदाएँ

किसकी सदाएँ गूँजती वादियों के दरमियाँ फिर,
धड़कने किसी की सुनाई दे रही मुझको यहाँ फिर,
क्या हृदय किसी विरहन का व्यथित हो गया है फिर?
या याद में किसी के कोई रो रहा है फिर?

ठहरो जरा संगीत धड़कनों की सुन लूँ मैं भी
अपने सुरमंदिर की तानपूरा का तार बुन लूँ मैं भी,
सुर चुरा लू दर्द का आज व्यथित हो रहा मैं भी,
या याद मे किसी की आज रो रहा हूँ मैं भी?

व्यथित हृदय की धड़कनें बेसुरी सी आज क्युँ,
भूल गए हैं लय सारे इस वीणा के तार क्युँ,
विरहन की संगीत को आज मिलते नही हैं साज क्युँ,
या याद मे विरहन की मैं बिसर गया संगीत ज्युँ?

तेरा अस्तित्व

इक जर्रा मात्र भी नही तू सृष्टि के विस्तार का,
अस्तित्व तेरा! व्योम के धूल कण सा भी नहीं!
इक लघुक्षण भी तो नही तू इस अनंतकाल का,
फिर क्यूँ भला इतना अभिमान तुझमें पल रहा।

अपनी लघुता का सत्य, तू स्वीकार कर यहाँ,
अस्तित्व की रक्षा को, तू संघर्ष कर रहा यहाँ,
पराशक्ति तो बस एक जो राज हमपे कर रहा,
फिर क्युँ भला तू नाज इतना खुद पे कर रहा।

उस दिव्य अनन्त की प्रखर से तो है तू खिला,
उस व्योम की ही किसी शक्ति ने तुझको जना,
इस धरा को उस शक्ति ने तेरी कर्मस्थली चुना,
फिर क्यूँ भला उस कर्मपथ से तू विमुख रहा।

Monday, 25 January 2016

यादों की शाम

शामें गुजर रही यादों की तन्हाईयों में,
संग तेरे गाए गजल जो उन लम्हों में,
डूबते  हैं ख्याल, अब उन रुबाईयों मे,
लम्हा लम्हा तन्हा रह गई हैं शाम कीा

मिश्री की डलियों सी अनकही बातें,
मासूम चेहरा मोहिनी मुस्कान समेटे,
नशीली आँखों पे झुकी तैरती पलकें,
संग गायी ग़ज़ल बन गई हैं शाम की।

जुल्फों की धुंध सी छाये काले बादल,
आसमाँ पे दूर उड़ता तुम्हारा आँचल,
पुकारता हुआ तुम्हारे हाथों का दामन,
चिलमन बन घटा सी छाती शाम की।

व्यथा की कथा

व्यथा की भी अपनी ही करुण कथा!

व्यथा गहराती रोती चिल्लाती,
व्यथा कहती व्यथा ही रोती,
झांकती व्यथा चहुँ ओर फिर देखती,
हृदय के अन्तस्थ व्यथा सिमटती,
व्यथा व्यथित स्वयं में अकुलाती।

व्यथा की भी अपनी ही करुण कथा!

मन ही मन खुद घुटती व्यथा,
राह देखती संवेदनाओं का,
फिर स्वयं ही संकुचित होती व्यथा,
जग बैरी सदा व्यथा ही जनमता,
वेदना व्यथा की यहाँ कौन समझता।

व्यथा की भी अपनी ही करुण कथा!

कथा व्यथा की कितनी लम्बी,
व्यथा की वेदना व्यथा ही जानती,
परस्पर व्यथा एक दूजे से कहती,
दुनियाँ व्यथा की व्यथित क्यूँ रहती?
पीड़ा व्यथा के ही हदय क्युँ पलती?

व्यथा की भी अपनी ही करुण कथा!

छलके जो नीर

सखी! तू क्युँ न समझे मन की पीड़!

छलके जो नैनों से नीर,
सखी तू समझे न मन की पीड़,
तार तार बिखरा है मन का,
नीर बन मुख पे जो आ छलका,
नेह बैरी की बड़ी बेपीड़।

सखी! तू क्युँ न समझे मन की पीड़!

भाव हृदय की वो न जाने,
मस्त मगन अपनी ही धुन पहचाने,
बुत पत्थर सा दिल उसका,
धड़कन की भाषा न जाने,
पोछे कौन अब नयनन के नीर।

सखी! तू क्युँ न समझे मन की पीड़!

बह बह नीर ताल बन जाए,
भाषा नैनों की कोई उसको समझाए,
सखी काम तू ही मेरा ये कर दे,
पीड़ मेरी उस बैड़ी को कह दे,
बन जाऊँ मै उसकी हीर।

सखी! तू क्युँ न समझे मन की पीड़!

अन्तर्द्वन्द

दिल की धकधक और मन की फकफक,
अन्तःद्वन्द घनघोर दोनों में नित झकझक।

दिल केंन्द्र भावना विवेचना का,
महसूस कर लेता स्पंदन हृदय का,
विह्वल हो प्यार में धड़कता पागल सा,
एकाकीपन के पल बेचैन हो उठता,
धड़क उठता मंद आहटों से भी धकधक।

मन कहता, दिल तू मत हो विह्वल,
विवेचना भावनाओं की तू मत कर,
राह पकड़ नित नई लगन की,
उड़ान ऊँची धर, मत एकाकीपन की सोच,
आहटों की मत सुन, अपनी लय मे तू धड़क।

दिल कहता, मन तू तो है स्वार्थी,
बेचैन रहता है तू भी अपनी चाह के पीछे,
टूटता है तब तू भी जब कोई ना पूछे,
मंजिल तेरे राह की बहुत दूर अंजान,
तू कभी मेरी भी सुन ले मत कर फकफक।

दिल की धकधक और मन की फकफक,
अन्तःद्वन्द घनघोर दोनों में नित झकझक।

Sunday, 24 January 2016

वो प्रगति किस काम का?

वो प्रगति किस काम का?

मानवीय मुल्यों का ह्रास हो जब,
सभ्यता संस्कृति का विनाश हो जब,
आदरभाव अनादर से हो तिरस्कृत,
जहाँ सम्मान, अपमान से हो प्रताड़ित,
अमिट कर्म की सत्यनिष्ठा घट जाए,

वो प्रगति किस काम का?

विमुख मानव कर्मपथ से हो जाए,
नाशवान वक्त को धरोहर न बन पाए,
मिट पाए न अग्यान का तिमिर अंधकार,
द्वेश-कलेश, ऊँच-नीच मन से न निकले,
जन-मानस की जीवन आशा मिट जाए,

वो प्रगति किस काम का?

विनाश क्रिया का न हो मर्दन,
विलक्षण प्रतिभा का न हो संवर्धन,
सद्गुण सद्गति संन्मार्ग न निखरे,
जन जन मे विश्वास का मंत्र न बिखरे,
मानव प्रगति के नव आयाम न छू ले।

वो प्रगति किस काम का?

नैनों की पनघट

नैनों की तेरे पनघट पर,
मधु हाला प्यासा पथिक पा लेता,  
प्यास बुझाने जीवन भर की,
सुधि नैन पनघट की फिर फिर लेता।

नैनों की इस पनघट में,
पथिक देखता आलोक प्रखर सा,
दो घूँट हाला की पाने को,
सर्वस्व जीवन घट न्योछावर कर देता।

नैनों की इस पनघट तट पर,
व्यथित हृदय पीर पथिक का रमता,
विरह की चिर नीर बहाकर,
पनघट तट अश्रुमय जलमग्न कर जाता।

नैनों की इस मृदुहाला में,
कण कण पनघट का डूब जाता,
अनमिट प्यास पथिक की पर,
नैन पनघट ही परित्राण जीवन का पाता।

श्रृष्टि की मादकता

मादकता थोड़ी सी यौवन की,
उन्माद थोड़ा सा मधु मादकता का,
आज मन प्रांगण में भर आया,
संग श्रृष्टि की मादकता के,
आज मैं भी मद थोड़ा सा पी पाया।

मधुरस थोड़ी सी जीवन की,
शृंगार किरणों संग जीवन यौवन का,
उन्माद उर झरनों में भर लाया,
संग श्रृष्टि की सर-सरिता के,
आज झरनों की मादकता मैंने पाया।

बिखेरे हैं किसनें मधुरता के क्षण,
मधु मादकता पी उल्लासित जीवन,
किसने मादकता मलयानिल पर बिखराया,
संग श्रृष्टि की उमड़ी मस्ती के,
आज मादकता संग थोड़ा सा जी पाया।

Saturday, 23 January 2016

क्षणभंगुर जीवन की नाव

यह नाव जीवन की क्षणभंगुर,
यात्री जाना पर तुझको बहुत दूर,
ठहरेगा तू तट जीवन के थोड़ी देर,
दामन मत छोड़ना कभी धीरज का,
मंजिल अपने नगर की तू पाएगा जरूर।

क्षणिक नगरी में तूझे मिलेगा,
अपने हृदय की स्वप्निल छाया,
जड शुष्क कभी खुद को पाएगा,
सीमित प्राचीरों में कभी रक्षित होगा,
अंतिम मंजिल नगर की फिर पाएगा।

आज यौवन जीवन का तुझमें,
कुछ सुखदायक सरस स्वप्न इसमें,
तू अमर सुख भी जीवन का पाएगा,
भर ले तू गागर सुख-दुख के क्षण से,
कुछ देर ठहर जग से तू वापस जाएगा।

तुम गीत मेरी

तुम प्रीत, तुम संगीत मेरी, जीवन छंद सी कलरव करती,
अधरों से लिपटी तुम गीत मेरी।

स्वर विहग सम चहकती, जीवन पल गुँजित तुझसे ही,
कुसुमित मन उपवन तुम मेरी।

यौवन का मधुरस तुम, मधुर स्वर की रागिनी तुम मेरी,
कुंठित पल की स्वर संगीत तुम मेरी।

जीवन काया मिट्टी तुम बिन, निःस्वर विरहाग्नि जीवन,
जीवन स्वर मे घुली प्राण तुम मेरी।

मिट्टी का कर्ज

ओ प्राणदायक मिट्टी तेरा कर्ज उतारूँ कैसे?

हार-माँस काया मिट्टी का बना,
तेरे कण की बूँद से गया कढ़ा,
अंकपाश तेरे जग पला- बढ़ा,
भूख प्यास मे तुझको ही काटा।

ओ जीवनरक्षक मिट्टी तेरा कर्ज उतारूँ कैसे?

स्वर्ण हरितिमा पत्तों को देता,
अंश जीवन का तुझमे पलता,
मूक प्राणमूल जीवन मे भरता,
मृत्यु समय अपने उर भर लेता।

ओ कष्टनिवारक मिट्टी तेरा कर्ज उतारूँ कैसे?

बादल की वेदना

गर्जनों की भीषण हुंकार,
है प्रदर्शन बादलों की वेदना का,
परस्पर उलझते बादलों की मौन वेदना,
कौन समझ पाया है इस जग में।

घनघोर बादलों की आँसूवृष्टि,
धो डालती धरा का दामन हर साल,
आँसू है शायद ये किसी ग्लानि के!
कड़क बिजली ज्यूँ चीख पीड़ा की।

तपती धरा की जल राशि लेकर,
 स्वनिर्माण स्वयं की करता,
मौन धरा की तपिस देख फिर आँसू बरसाता,
पाषाण हृदय क्या समझेगा जग में।

सागर की वेदना

तेज लहरों की भीषण हाहाकार, 
है वेदना का प्रकटीकरण सागर का,
मौन वेदना की भाषा का हार,
कौन समझ पाया है इस जग में।

लहरें चूमती सागर तट को बार बार,
पोछ जाती इनके दामन हर बार,
करजोड़ विनती कर जैसे पाँव पकड़ती,
पश्चाताप किस भूल का करती?

शायद निचोड़ा है इसने धड़ा को स्वार्थवश,
सर्वस्व धरा का लेकर किया स्वनिर्माण,
पश्चाताप उसी भूल का करती?
पाषाण हृदय क्या समझेगा जग में।

मौन धरा की वेदना

चाक पर पिसती मौन धरा की वेदना,
पाषाण हृदय क्या समझेगा जग में।

लहरों की तेज हाहाकार, 
है वेदना का प्रकटीकरण सागर का,
मौन वेदना की भाषा का हार,
पाषाण हृदय क्या समझेगा जग में।

गर्जनों की भीषण हुंकार,
है प्रदर्शन बादलों की वेदना का,
परस्पर उलझते बादलों की वेदना,
पाषाण हृदय क्या समझेगा जग में।

लहरें चूमती सागर तट को बार बार,
पोछ जाती इनके दामन हर बार,
पश्चाताप किसी भूल का करती?
पाषाण हृदय क्या समझेगा जग में।

घनघोर बादलों की आँसूवृष्टि,
धो डालती धरा का दामन हर साल,
आँसू है शायद ये किसी ग्लानि के!
पाषाण हृदय क्या समझेगा जग में।

विशाल हृदय धरा का,
खुद को निचोर सर्वस्व सागर को देता,
तपाकर खुद को रचना बादलों की करता,
चाक पर पिसती मौन धरा की वेदना,
पाषाण हृदय क्या समझेगा जग में।

Friday, 22 January 2016

सांध्य झंझावात

झंझावात क्या डरा पाएंगे जीवन को?

सांध्य गगन में उड़ते नीड़ों को खग,
रवानियाँ करते झूमते हवाओं मे तब,
भूले रस्ता झंझा के झोंकों में पड़कर,
हठात् सोचते क्या  होगा आगे अब।

झंझावात क्या ले पाएंगे जीवन से?

पीड़ा पंखों की उठती चुभती दंश सी,
भेंट चढ गए मित्र-गण झंझावात की,
चिन्ता सताती नीर  व नन्हे चूजों की,
नन्ही जान अटक सी जाती खग की।

झंझावात कितना सताएंगे जीवन को?

सांध्य निष्ठुर कैसा जीवन का आँचल,
उपर गरजता प्रलय के काले बादल,
फुफकारता नाग सा सृष्टि का अंचल,
जीवन फिर भी रुकता नही प्रतिपल।

झंझावात क्या रोक पाएंगे जीवन को?

रूठा अक्श मेरा

क्युँ अक्श मेरा आज मुझसे ही रूठता?

अक्स पूछता मुझसे बता मैं कौन हूँ?
निर्दयी भूल गए जब तुम ही मुझको,
पूछेगा जग में भला अब मुझको कौन?

क्युँ अक्श मेरा आज मुझसे ही पूछता?

साथ दिया मैने तेरा पग-पग पर,
क्युँ रहता तू किसी और पर निर्भर,
तू ही बता कहाँ गई पहचान मेरी पर?

क्युँ अक्श मेरा आज मुझसे ही पूछता?

लोग मुझे क्युँ कहते हैं लावारिश?
तेरे ही कर्मों ने जब जना है मुझको वारिश,
निष्ठुर भूल गए मुझको, की ना मेरी परवरिश?

क्युँ अक्श मेरा आज मुझसे ही कहता?

जब जब तू रोया मैं भी था रोया,
तेरी सफलता की छाया मे बढ़ पाया,
पर तेरे गुरूर ने आज मुझको भी खोया।

मेरे अक्श का दामन आज मुझसे ही छूटता?

स्नेहिल जन्मदिन

बन गया जन्मदिन मेरा यह स्वप्न सा स्नेहिल,
स्नेह दिया माँ, भाईबन्धु,पत्नी, बच्चों ने मिल,
आशीष की भेंट मिली स्निगध छटा स्वप्निल,
वृष्टि शुभकामनाओं की हुई मुझको हासिल।

यूँ तो हर पल घट जाते हैं जीवन के कुछ क्षण,
इस लघु होते जीवन में जी गया मैं कुछ क्षण,
माता व पत्नी ने शीष नवाया ईश्वर के सम्मुख,
आस्था संगिनी की भाव जगाता सत्यवान सम।

मैं भाग्यवान कितना जन्मदिन मना पाता हूँ,
आशीष बड़ो से लेकर छोटों को प्यार देता हूँ,
नववस्त्र का उपहार मिलता मिष्ठान्न खाता हूँ,
जीवन चक्र मे जन्मदिन प्रेम का बिता पाता हूँ।

मधुपान


उन हसीन लम्हातों की खामोशियों मे,
आहट की कल्पना भी प्यारी है तुम्हारी,
रंग कई बिखर जाते हैं आँखों के सामने
डूब जाता है सारा आलंम गुजरिशों में।

दूर एक साया दिखता बस तुम्हारी तरह,
शायद सुन लिया है गीत मेरा तुमने भी,
पास आते हो तुम किसी मंजर की तरह,
गूंज उठते हैं संगीत के स्वर ख्यालों में।

याद बनकर जब कभी छाते हो दिल पर,
शहनाईयाँ सी बज उठती हैं विरानियों मे,
सैंकड़ों फूल खिल उठते मधुरस बरसाते,
झूम उठता हृदय का भँवर मधुर पान से। 

मेरा ही अक्श


झांकता हूँ बंद झरोखों के परदों से,
आ पहुँचा हूँ कहाँ जीवन पथ पर इतनी दूर?

धुंधली सी इक तस्वीर उभरती,
स्याह चादरों सी कुछ लिपटी दिखती,
जिग्याशावश पूछता हूँ मैं, कौन हो तुम?

कुछ क्षण वो मौन धारण कर गया,
कौतुहलवश आँखें फार उसे मैं देखता रह गया,
जिग्याशा बढ़ गई मेरी उस साए में।

संकोचवश फिर मौन तोड़ वो बोला.....!
कब से खड़ा हूँ मैं इस राह पर!
दुनियाँ ने भी ना पहचाना मुझको!
एक आस बस तुझसे बंधी थी पर!
तूमने भी ना पहचाना मुझको?

जिग्याशा और बढ़ गई थी मेरी,
मैंने फिर पूछा, बोलो तो कौन हो तुम?

रूंझी सी वाणी में वो बोला...आँखे खोल के देख,
बंद झरोखों के परदों को पूरी तरह खोल,
पहचान खुद को, अक्श हूँ मैं तुम्हारा ही, अब बोल?

जीवन के पथ पर साथ किसी का कौन दे पाता?
अक्श हूँ तेरा, साथ सदा मै तेरे ही रहता!
दर्द किसी को मुझसे न पहुँचे,
सपना किसी का मुझसे ना टूटे,
चुप इसीलिए मैं रह जाता हूँ,
अतीत के गर्भ में तुझे बार-बार ले चलता हूँ
अक्श हूँ तेरा! साथ सदा मै तेरे ही रहता हुूँ।

जब तेरा कोई सपना टूटा, टूटा हूँ मैं भी थोड़ा,
मेरी आँख भी बरसी है तड़पा हूँ मैं भी थोड़ा,
अक्श हूँ तेरा, साथ कभी तेरा मैंने ना छोड़ा।

हठात, हतप्रभ, विस्मित मैं देखता रह गया!!!!!

Thursday, 21 January 2016

मधुर ख्याल

एक साया सा दिखता,
तुम्हारी तरह,
शायद आ गए हो तुम,
 किसी मंजर की तरह,
बज उठे हैं,
संगीत स्वर ख्यालों में अब।
याद बनकर जब कभी,
छा जाते हो दिल की प्रस्तर पर,
शहनाईयाँ सी,
बज उठती हैं विरानियों मे तब,
सैंकड़ों फूल खिलकर,
मधुरस बरसाते,
झूम उठता तब हृदय भँवर,
 डूबकर मधुर पान में। 

सांझ मधुक्षण

सांझ मधुक्षण बिखेरता मधु के मधुकण,
क्रीडा करते रंगों संग धरा के कण कण,
लहरों पर चाँदी की किरणों सम ये क्षण।

बाँध रहा मन को सांझ का मधुर पाश,
अन्जाना सा मोह महसूस हो रहा पास,
हल्की सी धूंध मे परिदृश्य खो रहा साँस।

हर्ष विमूढ़ हो उठता मन कभी इस पल,
मै विस्मय सा हो जाता देख पीले बादल,
प्रकाशमय सांझ अंकित धरा के आँचल।

विषमता

सोचता हूँ कभी!

विशाल समुन्द्र का विस्तृत दामन,
कितना समृद्ध और साधन सम्पन्न,
अधिकता की सीमा से अधिक धन,
विस्तार की सीमा से ज्यादा विस्तृत,
फिर भी कितना अस्थिर इसका मन?

सोचता हूँ कभी!

विशाल समुन्द्र क्युँ रहता विचलित?
अनवरत गर्जते जल-राशि की तड़प,
विकराल होती हुई उठती ऊँची लहर,
हृदय के अन्दर समेटे अनेकों भँवर,
विषमता उद्वेलित कर देती मेरा मन।

सोचता हूँ कभी!

उस छोटी सी नदी की क्या है गलती?
दुर्गम पहाड़ों के शिखर पर यह पलती,
घने जंगल, कंकड़, पत्थरों से गुजरती,
सूखी बंजर धरती को सींच उर्वर करती,
फिर क्युँ ना हो विचलित इसका मन?

सोचता हूँ कभी!

विस्तृत दामन सागर क्या हो पाया परिपू्र्ण?
खुद की विचलन पर क्यूँ न रखता नियंत्रण?
सागर का विशाल हृदय फिर किस काम का?
फिर क्यों न हो उद्वेलित सीमित नदी का मन?
विषमता देख इनमें उद्वेलित होता मेरा मन!

Wednesday, 20 January 2016

हसीन लम्हात

उन हसीन लम्हातों की खामोशियों मे,
आहट की कल्पना भी प्यारी है तुम्हारी,
रंग कई बिखर जाते हैं आँखों के सामने
डूब जाता है सारा आलंम गुजरिशों में।

दूर एक साया दिखता बस तुम्हारी तरह,
शायद सुन लिया है गीत मेरा तुमने भी,
पास आते हो तुम किसी मंजर की तरह,
गूंज उठते हैं संगीत के स्वर ख्यालों में।

याद बनकर जब कभी छाते हो दिल पर,
शहनाईयाँ सी बज उठती हैं विरानियों मे,
सैंकड़ों फूल खिल उठते मधुरस बरसाते,
झूम उठता हृदय का भँवर मधुर पान से। 

जनम जनम का वादा


वादा हमने किया था मिलेंगे अगले जनम,
लो हम तुमसे मिल गए दिलबर इस जनम।

एतबार तुमने हम पर किया पिछले जनम,
प्रीत हमने भी निभा दी प्रियतम इस जनम।

तुम करती रहना वादा मिलने का हर जनम,
हम आते रहेंगे तुमसे मिलने जनम जनम।

सात वचनों के बंधन से बंधे तुमसे इस जनम,
 एक वचन तुम भी दो करोगे वादा हर जनम। 

तुम्हारी यादों के संग

दिल तन्हा भटक रहा वादियों में,
सुरमई यादों के साये,
उड़ रहा बादलों के संग मे।

तुम छिपे हो किन परछाईयों मे,
मेरे गीत तुझको पुकारते,
मचल कर हवाओं के संग में।

शमां बदल रहा है मदहोशियों मे,
दिये जल रहे सुलगते,
बेचैनियाँ अब तन्हाईयों के संग में।

गुफ्तगु कर रहा दिल विरानियों मे,
अपनी ही परछाईयों से,
दब चुके खामोशियों के संग में।

माँ का आशीर्वचन

मंगलमय हो नया सवेरा,

उतरे किरण स्वर्ग की भू पर,
सपनों का उजियारा लेकर,
पुलक उठे जन-जन का अन्तर,
यह नववर्ष तुम्हारे जीवन को,
खुशियों से पूरित कर दे,
गुरुजन का आशीष कवच बन,
प्रतिक्षण तेरी रक्षा कर दे,
परमपिता परमेश्वर से यही विनती,
तेरी प्रगति के पथ को विस्तृत कर दे,

मंगलमय हो नया सवेरा।

(यह मेरी माँ, श्रीमति सुलोचना वर्मा, के द्वारा अपनी आवाज में भेजी गई आशीर्वचन का रुपान्तरण है)
माता जी विदुषी तथा हिन्दी की अध्यापिका थी और अब 70 वर्ष से अधिक की हैं। मेरी शिक्षा उन्हीं के सानिध्य में हुई।

पीड़ा सृष्टि के कण-कण में

शशि प्रखर फिर भी कहीं आलोक नही है उनमे,
पीड़ा असंख्य पल रहा सृष्टि के कण कण में!

हृदय कभी जलता धू धू रवि अनल सा,
तमता मानस पटल फिर भूतल तवा सा,
तब साँसे चलती जैसे सन सन पवन सी,
तन से पसीना बहता दुष्कर निर्झर सा।

पीड़ा अनेको पी गया समझ गरल जीवन में।

घनघोर वर्षा कर रहा क्रंदन गगन गर्जन ,
वज्र वर्जन से मची कोलाहल मन प्रांगण,
अँधेरी सियाह रात मौत सा छाया आंगन,
शीत प्रलय कर रहा थरथराता मानव मन।

भू से भिन्न पीड़ा का दूसरा ही लोक जीवन में,
शशि प्रखर फिर भी कहीं आलोक नही है उनमे।

लक्ष्य

क्या लक्ष्य तेरा कहीं भटक चुका है?

साथ चला तू,
जिसे लेकर जीवन भर,
जिसकी फिक्र तू,
करता रहा सारी उमर,
वह मात्र स्थुल शरीर नहीं हो सकता?

क्या मार्ग तेरा गलत दिशा मुड़ चुका है?

तेरी चिन्ता तो,
तेरी काया के भी परे है,
पर भटकता तू,
सदा भौतिक सुख के पीछे है!
यश कीर्ति कहाँ रही तेरी प्राथमिकता?

क्या जीवन तेरा कहीं पर खो चुका है?

नभ पर तू,
ऊँचा उड़ता गिद्ध को देख,
उस ऊचाई पे,
उसे अहम के वहम ने है घेरा,
क्या कर्म उसके दे पाएगी उसे प्रभुसत्ता?

क्या कर्म पथ तेरा कहीं भटक चुका है?

पतवार जीवन का

खे रहा पतवार जीवन का,
चल रहा तू किस पथ निरंतर,
अनिश्चित रास्तों पर तू दामन धैर्य का धर,
है पहुँचना तुझे उस कठिन लक्ष्‍य पर।

देख बाधाएँ सम्मुख विकट,
छोडना़ मत पतवार तुम,
निश्चित होकर तू अपना कर्म कर,
कर्म तेरा तुझको ले जाएगा लक्ष्य पर।

अनिश्चित सदा ही कर्म फल,
पर कर्म से यदि रहा यह पथ वंचित,
हो न पाएगा यश तेरा संचित,
धैर्य तेरा ले जाएगा तुझे उस लक्ष्य पर।

निशान कठिन रास्तों के भी,
मिलते नही लक्ष्य शिखर पर कभी,
तू बचा सका गर अपना अस्तित्‍व,
मिल जाएगा अपनत्‍व तुझे उस लक्ष्य पर।

जोगन और बटोही

युगों से द्वार खड़ी वाट जोहती वटोही का वो!

शायद भूल चुका वादा अपना चितचोर वो वटोही,
मुड़कर वापस अबतक वो क्युँ ना आया?
यही सोचती वो जोगन वाट जोहती!

वो निष्ठुर हृदय उसको तनिक भी दया न आई,
मैं अबला उसने मेरी ही क्युँ चित चुराई?
चित चुराने ही आया था वो सोचती!

फिर सोचती! होगी कोई मजबूरी उसकी भी,
चितचोर नही हो सकता मेरा परदेशी!
समझाती मन को फिर राह देखती!

मेरे विश्वास का संबल बसता हिय उस परदेशी के,
बल मेरे संबल का क्या इतना दुर्बल?
वाट जोहती जोगन रहती सोचती!

भाग्य रेखा मेरे ही हाथों की है शायद कमजोर,
कर नही पाती मदद जो ये मेरे प्रीतम की,
बार-बार अपने मन को समझाती!

अब तो बाल भी सफेद हो गए आँखें कमजोर,
क्या मेरा वटोही अब देखेगा मेरी ओर?
झुर्रियों को देख अपनी सिहर जाती!

युगों तक बस वाट जोहती रही उस वटोही का वो!

जोगन की विश्वास का संबल दे गया अथाह खुशी,
वक्त की धूंध से वापस लौट आया वो परदेशी!
अश्रुपूर्ण आखें एकटक रह गई खुली सी।

हिय लगाया उस जोगन को काँपता वो परदेशी,
व्यथा जीवन सारी आँखों से उसने कह दी,
निष्ठुर नहीं किश्मत का मारा था वो वटोही!

खिल उठी विरहन सार्थक उसकी तपस्याा हुई!
युगों युगों तक फिर वो जोगन, उस वटोही की हो गई।

अब सोचती! मेरा प्रीतम चितचोर था, पर निष्ठुर नही!


Tuesday, 19 January 2016

निशा स्नेह निमंत्रण

निशा रजनी फिर से खिल आई,
कोटि दीप जल करती अगुवाई,
कीट-पतंगें उड़ती भर तरुणाई।

खिल उठेे मुखमंडल रात्रिचर के
अदभुत छटा छाई नभमंडल पे,
गूंज उठी रात्रि  स्वर कंपन से।

झिंगुर, शलभ, कीट, पतंगे  गाते,
विविध नृत्य कलाओं से मदमाते,
आहुति दे अपनी उत्सव मनाते।

नववधु अातुर निशा निमंत्रण को,
सप्तश्रृंगार कर बैठी आमंत्रण को,
हृदय धड़कते नव गीत गाने को ।

स्नेह की बूँद निशा ने भी बरसाए,
मखमली शीत की चादर बिछाए,
 स्नेहिल मदिरा मकरंद सी मदमाए।

रंग

रंग असंख्य जीवन की बगिया के, 
                      चटक रहे कुछ ऐसे घुल मिल के,
अद्भुद  छटा  की  सुंदर आभा से, 
                        पुलकित कर जाते प्राण हृदय के।

 चमकीले रंगों मे ही छिपा है जीवन, 
                      कुछ लुभावने रंग  तुम भी चुन लो,
सराबोर कर दो तुम इनमे खुद को 
                       मनचाहे रंगो से तुम जग को रंग दो।

जब खुद को तुम पूरा खोल पाओगे, 
                      इन रंगो सा तुम भी निखर जाओगे,
जीवन नाचती गाती इर्द-गिर्द पाओगे,
                         मतलब होली का तब समझ पाओगे।

विविध  स्वरूप  रंगों के  खिल आते, 
                        जब रंग अनेक अापस में मिल जाते, 
सराबोर करने की लग जाती है होड़, 
                         तू ले चल मुझे भी उन रंगों की ओर।

मुझे सींचकर तुम क्या पाओगे?

मुझे सींचकर भी तुम मुझमें क्या पाओगे?

मैं एक पुलिंदा हूँ संवेदनाओं का,
रख दी गई है जो समेट उस कोने में,
व्यर्थ गई भावनाएँ मन को समझाने में।
बन चुका बस एक फसाना बेगाने में।

मुझे सींचकर भी तुम मुझमें क्या पाओगे?

मैं एक पुलिंदा हुँ अरमानों का,
साँस छूट चुके है जिनके घुट-घुट के,
छुपा दी गई जिन्हे पीछे उस झुरमुट के,
कुछ मोल नहीं इन निश्छल जज्बातों के।

मुझे सींचकर भी तुम मुझमें क्या पाओगे?

मैं एक पुलिंदा हूँ कल्पनाओं का,
असंख्य तार टूट चुके हैं कल्पनाओं के,
गुजरेगी अब कैसे कंपन वेदनाओं के,
मृत हो चुके हैं संभावना संवेदनाओं के।

मुझे सींचकर भी तुम मुझमें क्या पाओगे?

पनिहारिन की पीड़ा

इक भोली विरहन पनिहारिन,
पनघट तट पनिया भरन के बहाने,
कहती पीड़ा अपने मन की।

आयो नाही अबकी बरस अब तक पिया,
बितत ना बिताई अब दिन रतिया, 
कासे कहुँ पीड़ा अब मन की।

बबलु मुनिया के समझाऊँ दिन रतिया,
बाबुजी गइल विदेश हे बचवा,
व्यथा बचल बस अब मन की।

सास ससुर भइले अब बिलकुल अक्षम,
सुझत नही अब कुछ अँखियाँ,
बोझ बहुत बढ़ गईल जीवन की।

अबकी बरस जल्दी आ जा पिया जी,
पनिहारिन के तनिक समझी व्यथा,
साथ निभा जा अब आंगन की।

बवंडर व्योम का

बवंडर सा आज उठ रहा व्योम मे क्युँ,
क्या खो गई है सहनशीलता व्योम की,
या फिर टूट गए इसके तार धीरज के।

रूह बादलों के आज काप उठे हैं क्युँ,
क्युँ अनन्त के हृदय मची चक्रवात सी,
नभ ने छोड़ दिए क्या हाथ धीरज के।

पाप व्योम में पसर गयी है पीड़ा बन ज्यों,
रो रहा मन व्योम का कोलाहल करता यूँ,
अश्रुवर्षा करते काले घन साथ नीरव के।

ये बवंडर व्योम के पीड़ा की प्रकटीकरण,
चक्रवात बादलो के व्यथा की स्पष्टीकरण,
चलने दे आँधियाँ कुछ तम छटे जीवन की।

Monday, 18 January 2016

कोमल हृदय

दो निश्छल हृदय, नन्हे कोमल से,
मिल रहे वसुधा की हरियाली पर,
मन मष्तिष्क हैं अनन्त कल्पनाएँ,
कह देना चाहे बातें सारी मन की!

संवेदनाएँ बेजुवाँ असंख्य नन्हे से,
हृदय अनुभूति प्रकट करें तो कैसे,
निश्छल मन आस पलती नन्ही सी,
चल बैठ यहीं कर ले अपने मन की!

कुछ  तुम अपने  मन की कह लेना,
कुछ मैं अपने मन की भी कह लूँगा,
मतलब इन बातों का कोई हो ना हो,
इन बातों मे ही खुशियाँ जीवन की!

नन्हे हृदय की संवेदना ही एक भाषा,
कोमल मन की निष्कपट अभिलाषा,
दुविधाओं शंकाओं से परे निर्मल मन,
बस यही है मंत्र भावमयी जीवन की।

टूटा हृदय

अश्रुओं की अविरल मुक्त धार से अपनी,
अब क्युँ रोक रही हो राह उसकी?
मंडराते बादलों की तरह टूटा है हृदय उसका,
अश्रुबूँद क्या भर सकेंगे घाव उसकी?

टूटा हृदय बादलों सा नभ में व्याकुल मंडराता,
गर्जना कर व्यथा अपनी सबको सुनाता,
चीर जाती पीड़ा उसकी हृदय व्योम के भी,
निष्ठुर तुझे न आयी क्या दया जरा भी?

अब व्यर्थ किसलिए तुम पश्चाताप करती,
आँसुओं के सैलाब क्युँ बरबाद करती,
प्यास हृदय की बुझ चुकी खुद की आँसुओं से ही,
शेष बरस रहे अब झमाझम बारिश की बुंदों सी।

Sunday, 17 January 2016

इंतजार प्यार का

जीवन के जिस मोड़ पे तन्हा छोड़ गए थे तुम,
देख लो आज भी उसी मोड़ पे तन्हा खड़ा हूँ!

दीवानगी मे मुझको जिस तरह भी चाहा तुमने,
मैं जिन्दगी को आज भी उसी तरह जी रहा हूँ !

कभी मूरत की तरह मुझको सजाया था तुमने,
प्यार मे उसी बुत की तरह अब मैं ढह रहा हूँ!

मेरी ज़िन्दगी में जीने की बस एक वजह हो तुम,
शिकायत मत करो कि मैं तुमसे दूर रह रहा हूँ!

चाहो तो मुझको आवाज देकर बुला लेना तुम,
इंतज़ार करता आज भी उसी मोड़ पे खड़ा हूँ!

शाम के स्वर

शाम के स्वर अब तक थके नही,
इन सुरमई लम्हों के कदम अभी रूके नहीं,
साधना के स्वरों से पुकारती ये तुम्हे।

ये लम्हे हैं सुनहरी चंपई शाम के,
गुजरते क्षितिज पर इस तरह,
जैसे सृष्टि के हर कण से,
मिलना चाहते क्षण भर ये।

तुम भी इनसे मिलने आ जाओ,
प्रीत की रीत वही तुम भी निभा जाओ।

ये संध्या है सुरमई मदहोशियों के,
अनथक छेड़ रहे सुर इस तरह,
जैसे धरा के कण कण मे,
भरना चाहते मीठे स्वर ये।

तुम भी धुन कुछ इनसे ले लो,
प्रीत के गीत वही तुम भी सुना जाओ।

साधना के स्वरों से रातों के तम हर जाओ ।

पिघलते शब्दों के नश्तर

पिघलते शब्दों के नश्तर,
स्वर वेदना के नासूर वाण बन,
छलनी कर जाते हृदय के प्रस्तर।

शब्दों मे होती इक कम्पन,
गुंजायमान करती वसुधा के मन,
जीवन की वीणा को ये छेड़ती निरंतर।

कम्पन गुम मेरे हृदय की,
शब्द वो पिघलते कहाँ अब मेरे मन,
ध्वनी के मधुर स्वर मिलते कहाँ परस्पर।

क्या कभी अब हँस पाऊँगा?
धुन हृदय प्रस्तर की क्या सुन पाऊँगा?
वेदना के वाण रह-रह चुभते हृदय पर।

पिघलते लम्हे

पिघलते लम्हों का बेचैन कारवाँ,
गुजरता रहा वक्त की आगोश से,
अरमाँ लिए दिल में हम देखते रहे खामोश से।

लम्हें फासलों से गुजरते रहे,
दिलों के बेजुबाँ अरमाँ पिघलते रहे,
आरजू थी गुनगुनाती पिघलती शाम की,
पिघलती सी रास्तों पे बस शाम ढ़लते रहे ।

पिघलते लम्हों का बेवश कारवाँ,
बस गुजरता गया कोहरों की ओट से,
हसरतें दिल मे लिए हम देखते रहे खामोश से।

कोहरों की धूंध मे ये चलते रहे,
बेवश जज्बातों के निशाँ पिघलते रहे,
पिघलती रही शाम हसरतों के जाम की,
पिघलते नयनों से बस आँसू निकलते रहे ।

पिघलते लम्हों का तन्हा कारवाँ,
बस गुजरता गया वक्त की आगोश से,
हसरतें दिल मे लिए हम देखते रहे खामोश से।

Saturday, 16 January 2016

चिड़ियाँ का जीवन

उस छोटी सी चिड़ियाँ का जीवन कितना दूभर?

चातुर नजरों से देखती इधर-उधर,
आज काम बहुत से होंगे करने,
आबोदाना को उड़ना होगा मीलों,
मिटेगी भूख किस दाने से?
चैन की नींद कहाँ पाऊंगी?

दूर डाल पे बैठी छोटी सी चिड़ियाँ सोंचती!

फिर घोंसले की करती फिकर,
किस डाल सुरक्षित रह पाऊँगी,
तिनके कहाँ सजाऊँगी,
बहेलियों की पैनी नजर से,
दूर कैसे रह पाऊँगी?

उस छोटी सी चिड़ियाँ को भविष्य का डर?

आनेवाली बारिश की फिकर,
आँधियों मे बिछड़ने का डर,
डाली टूट गई थी पिछली बार,
घौसले हो गए थे तितर बितर,
अन्डे कैसे बचाऊँगी?

उस छोटी सी चिड़ियाँ का जीवन कितना दूभर?

विपरीत रेखाएँ

आज फिर गहराई से देखा हमनें हाथो को,
मध्य अवस्थित दो समानांतर रेखाओं को,
मेरा विवेक मजबूर हो गया पुनःविचार को,
मस्तिष्क व हृदय रेखा जाती विपरीत क्युँ?

शायद मष्तिष्क सोचता है हृदय के विपरीत,
मष्तिष्क का निर्णय विवेचनाओं पर आश्रित,
हृदय का निर्णय होता संवेदनाओं पर केन्द्रित,
दो विपरीत विचार-धाराएँ एक जगह स्थित!

दो विपरीत धाराएँ मिलके चलाती जीवन एक 
सामंजस्य द्वारा जीवन के निर्णय लेता अनेक,
तीसरी रेखा जीवन की चल पाती इनके विवेक,
रेखाओं का सम्मेलन बस करता मालिक एक!

सपनों का भ्रमजाल

सपनों का फैला भ्रम जाल,
देख मानव हो रहा निहाल,
अकल्पित भयंकर यह मकर जाल।

भ्रमजाल मे जकड़ता हर पल,
यथार्थ से दूर ले जाता पल पल,
विस्मित सपनों का प्रलय यह जाल।

सपना तो बस एक छलावा,
भांति भांति के मोहक छद्म दिखाता,
खुली आँखों मे मोह सा छलिया जाल।

सपनों का है अपना कर्म,
जन की आँखो मे बैठ निभाता धर्म,
तू भी कर्म कर अंत काल न रहे मलाल।

सरसों के फूल

सरसों के फूल मन को लुभा गए,
दूर तक पीली चादर फैला गए,
हरितिमा पर प्रीत बन लहलहा गए,
पीत रंग मन को भा गए।

वसुधा को लुभावन श्रृंगार दे गए,
आच्छादित धरा को कर गए,
भौंरों को मधु रस की बौछार दे गए,
मुक्त सादगी से मन हर गए।

कुछ पल मैं भी साथ बिताऊँ,
यह सोच तनिक बैठ जाऊँ,
कोमलता से मन में घर कर गए,
सरसों के फूल मन में बस गए।

कौन सी भाषा

मैं न जानूँ व्यथित मन की भाषा,
समझ सकूँ न नैनों की मूक भाषा,
व्यथा भावना दृष्टि की समझ से परे,
अभिलाषा की भाषा अब कौन पढ़े?

किस भाषा मे वेदना लिख गए तुम?
मन की पीड़ा व्यथा क्या कह गए तुम?
अंकित मानस-हृदय पर ये आड़े-टेढ़े,
वेदना पीड़ा की भाषा अब कौन पढ़े?

हृदय भावविहीन पाषाण हो चुका!
मन के भीतर का मानव सो चुका!
भावनाओं का साहित्य जटिल हो चुका!
भाव-संवेदना की भाषा अब कौन पढ़े?

Friday, 15 January 2016

कौन रहा पुकार?

आह! है कौन वो जो छेड़़ जाती मन के तार?

कानों मे गूंजती एक पुकार,
रह रहकर सुनाई देती वही पुकार,
सम्बोधन नहीं होता किसी का उसमें,
फिर भी जाने क्यों होता एहसास
कोई पुकार रहा मुझे बार-बार!

आह! यह किसकी वेदना कर रही चित्कार?

हल्की सी भीनी सुगन्ध चली कहाँ से,
बढ़ती जाती सुगंध हवाओं के साथ,
पहचानी सी खुशबु पर आमंत्रण नहीं उसमें,
फिर भी जाने क्यों होता एहसास,
कोई बुला रहा मुझको उधर से बार-बार!

आह! यह किसकी खुशबु मुृझको रही पुकार?

मशरूफियत

आपकी मशरूफ़ियत देखकर,
बैठ इन्तजार में कुछ लिखने लगा,
मशरूफियत ताउम्र बढ़ती ही गई आपकी,
हद-ए-इन्तजार मैं करता रह गया,
मेरी कलम चलती ही रह गई।

इंतहा मशरूफियत की हुई,
उम्र सारी इंतजार मे ही कट गई,
हमने पूरी की पूरी किताब लिख डाली,
छायावादी कवि और लेखक बन गए हम,
शोहरत कदम चूमती चली गई।

हिरण सा मन

हिरन सा चंचल मन कैद में विवश,
कुटिल शिकारी के जाल फसा मोहवश,
कुलाँचे भर लेने को उत्तेजित टांगें,
चाहे तोड़ देना मोहबंधन के जाल बस।

फेके आखेटक ने मोह के कई वाण,
चंचल मन भूल वश ले फसता जान,
मन में उठती पीड़ा पश्चाताप के तब,
जाल मोहमाया का क्युँ आया न समझ।

छटपटाते प्राण उसके हो आकुल,
मोहपाश क्युँ बंधा सोचे हो व्याकुल,
स्वतंत्र विचरण को आत्मा पुकारती,
धिक्कारती खुद को हिरण ग्लानि वश।