Monday, 7 January 2019

खुद मैं @52

उम्र की सीढियां, न जाने, अंत हो कहाँ?

उस दरमियाँ, था मैं भी कभी जवाँ,
उत्थान ही, दिखता था हर पल,
मोर सा, आसमान, नाचता था सर पर,
टिकते थे कहाँ, राहों पे कदम,
मुट्ठियों में कैद, था जैसे ये सारा जहाँ,
यूँ ही नापते, उम्र की सीढियां!
इस मुकाम पर, पहुंचे हैं हम कहाँ?

उम्र की सीढियां, न जाने, अंत हो कहाँ?

अब भी यहाँ, वैसी ही है ये दुनियाँ,
दिन-रात की, एक सी है गति,
सूरज, चाँद, तारों की, बदली है न परिधि,
थम से गए, कुछ मेरे ही कदम,
खुल सी गई मुट्ठियाँ, छाने लगी झुर्रियाँ,
शायद, कुछ ही बची सीढियां!
या ढलान पर, आ रुके है हम यहाँ?

उम्र की सीढियां, न जाने, अंत हो कहाँ?

चटकने लगी, अपनी ही अस्थियाँ,
कुछ धुंधली, हुई है पुतलियाँ,
कुछ आइनें में, बदल सी गईं ये शक्ल,
अजान राह, बढ़ चले ये कदम,
जिन्दगी की सांझ, हो रही अब जवाँ,
झूलने लगी, है ये सीढियां!
क्या प्रारब्ध यही, अवसान का यहाँ?

उम्र की सीढियां, न जाने, अंत हो कहाँ?

No comments:

Post a Comment

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

स्पर्श....छू कर जरा सा

छू कर, जरा सा... बस, गुजर सी गई थी इक एहसास! थम सा चुका था, ये वक्त, किसी पर्वत सा, जड़! यथावत! गुजरती ही नहीं थी, आँखो से वो तस्वीर...

विगत वर्ष की मेरी कुछ लोकप्रिय रचनाएँ