My Proud: Daughter's Contribution

http://meghna-sinhaaaa.github.io

Tuesday, 8 August 2017

शोर मचाती आँखें

शोर बहुत करती है तेरी चुप सी ये दो आँखें!

जाने ये क्या बक-बक करती है तेरी ये दो आँखें!
भींचकर शब्दों को भिगोती है ये पहले,
दर्द की सुई फिर डूबकर पिरोती है इनमें,
फिर छिड़ककर नमक हँसती है तेरी ये दो आँखें.....

खामोशियों में कहकहे लगाती है तेरी ये दो आँखें!
कभी चुपचाप युँ ही मचाती है शोर ये,
जलजला सा लेकर ये आती कभी हृदय में,
कभी मुक्त धार लिए बहती है चुपचाप ये दो आँखें....

दरिया नहीं, इक बाँध में बंधी झील है ये दो आँखें!
करुण नाद लिए कभी करती है शोर ये,
अनगढ़े शब्दों में फिर उड़ेलती है कोई बातें,
शंखनाद करती हुई लहर सी कभी बहती है ये आँखें....

मासूम कभी कितनी बन जाती है तेरी ये दो आँखें!
उड़ा ले जाती है होश ये नयन चंचल से,
गति पुतलियों की हरती है मति मनप्रांजल से,
दर्द फिर सीने में उठाती है खामोश सी ये दो आँखें!

शोर बहुत करती है तेरी चुप सी ये दो आँखें!
Post a Comment

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

उपांतसाक्षी

न जाने क्यूँ..... जाने.... कितने ही पलों का... उपांतसाक्षी हूँ मैं, बस सिर्फ.... तुम ही तुम रहे हो हर पल में, परिदिग्ध...

विगत 30 दिनों की सर्वाधिक चर्चित रचनाएँ