Saturday, 4 November 2017

जलता दिल

राख! सभी हो जाते हैं जलकर यहाँ,
दिल ये है कि जला...
और उठा न कहीं भी धुँआ!

है जलने में क्या?
बैरी जग हुआ दिल जला!
चित्त चिढा,
मन को छला,
दिल जला!
कहीं आग न कहीं दिया, दिल यूँ ही बस जला!

ये धुआँ?
दिल में ही घुटता रहा,
घुट-घुट दिल जला,
बैरी खुद से हुआ,
दिल को छला,
उठता कैसे फिर धुआँ, दिल के अन्दर ये घुला!

राख ही सही!
पश्चाताप की भट्ठी पर चढा,
बस इक बार ही जला,
अंतःकरण खिला......
स्वरूप बदल निखरा,
धुआँ सा गगन में उड़ा, पुनर्जन्म लेकर खिला।

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

कोरा अनुबंध

कैसी ये संविदा? कैसा यह कोरा अनुबंध? अनुबंधों से परे ये कैसा है बंधन! हर पल इक बंधन में रहता है ये मन! किन धागों से है बंधा ये बंधन! ...

विगत 30 दिनों में ज्यादा लोकप्रिय रचनाएँ