Thursday, 25 January 2018

उम्र

ऐ उम्र, जरा ठहर!  ऐसी भी क्या है जल्दी!

अब तक बीता ये जीवन व्यर्थ ही,
अर्थ जीवन का मिला नहीं,
कुछ अर्थपूर्ण करना है अभी-अभी,
ठहर ना, तू बीत रही क्यूँ जल्दी-जल्दी? 

अभी खुल कर हमने जिया नहीं,
मन का कुछ भी  किया नहीं,
आई थी तू भी तो बस अभी-अभी,
फिर जाने की, क्यूँ ऐसी भी है जल्दी?

पथ कंटक वाली ही सभी मिली,
फूलों सी राहों पर चला नही,
पथ फूलों की दिखी है अभी-अभी,
यहीं रुक जा, जाने की क्या है जल्दी?

जितनी भी पी, वो थी गरल भरी,
अधरों से ये अमृत विरल रही,
चाहत पीने की जागी अभी-अभी,
जरा ठहर, जाने की ऐसी क्या जल्दी?

रिश्तों की कितनी गाठें खुली नहीं,
मन की गाठें भी यूँ रही बंधी,
गांठें चाहत की खुली अभी-अभी,
फिर जाने की, ऐसी भी क्या है जल्दी?

ऐ उम्र, तूने उड़ान ये कैसी भरी?
पल में ही सदियाँ ये गुजर गई,
ख्वाहिश जीनै की थी अभी-अभी,
फिर क्यूँ, तुझे जाने की ऐसी है जल्दी?

कभी हाथों में तो तू आया ही नहीं,
संग चला पर साया भी नहीं,
स्पर्श भर कर गया तू अभी-अभी,
तू बैठ जरा, यूँ बीत न तू जल्दी-जल्दी!

ऐ उम्र, जरा ठहर!  ऐसी भी क्या है जल्दी!

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

फासले

यूं मिलिए कभी, गिरह नफ़रतों के खोलकर.... चंद कदमों के है ये फासले, कभी नापिए न! इन दूरियों को चलकर... मिल ही जाएंगे रास्ते, कभी झां...

विगत 30 दिनों में ज्यादा लोकप्रिय रचनाएँ