Tuesday, 17 July 2018

गुनगुनाती पवन

है वजह कोई या यूं ही बेवजह!
ओ रे सजन, गुनगुनाने लगी है फिर ये पवन....

कुछ तुमने कहा!
या कोई शिकायत हुई?
सुनाने लगी है क्या ये पवन?
कुछ गुनगुनाने लगी है क्यूं ये पवन?

है कौन सा राग?
या सोया कोई अनुराग,
जगाने लगी है अब ये सजन,
क्यूं गीत कोई गाने लगी है ये पवन?

ये है बैरी पवन,
सुने ना ये मेरी सजन,
बेवजह छेड़ जाए ये मेरा मन,
उलझन भरे गीत गाए क्यूं ये पवन?

ये कैसी है चुभन,
क्यूं छुए है मुझको पवन,
विरह में जलाए क्यूं ये बदन?
गीत विरहा के गाए है क्यूं ये पवन?

कुछ भीगी है ये,
जरा सी बहकी है ये,
भिगोए है बूंदो से ये मेरा तन,
गीत बरखा के गाए है क्यूं ये पवन?

है कोई वजह,
या यूं ही बेवजह,
सताने लगी है फिर ये पवन,
नया गीत कोई गाने लगी है ये सजन!

है वजह कोई या बेवजह!
ओ रे सजन, गुनगुनाने लगी है फिर ये पवन....

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

नींद

कब नींद ढ़ुलकती है, नैनो में कब रात समाता है.... सांझ ढले यूँ पलकों तले, हौले-हौले कोई नैनों को सहलाता है, ढ़लती सी इक राह पर, कोई ह...

विगत 30 दिनों में ज्यादा लोकप्रिय रचनाएँ