Wednesday, 6 November 2019

स्पंदन (1101 वीं रचना)

अन्तर्मन हुई थी, हलकी सी चुभन!
कटते भी कैसे, विछोह के हजार क्षण?
हर क्षण, मन की पर्वतों का स्खलन!
सोच-कर ही, कंपित सा था मन!

पर कहीं दूर, नहीं हैं वो किसी क्षण!
कण-कण, हर शै, में हैं उन्हीं के स्पंदन!
पाजेब उन्हीं के, यूँ बजते है छन-छन,
छू कर गुजरते हैं, वो ही हर-क्षण!

बदलते मौसमों में, हैं उनके ही रंग,
यूँ ही कुहुकुनी , कुहुकती न अकारण,
यूँ व्याकुल पंछियाँ, करती न चारण,
यूँ न कलियाँ, चटकती अकारण!

स्पन्दित है सारे, आसमान के तारे,
यूँ ही लहराते न बादल, आँचल पसारे,
यूँ हीं छुपते न चाँद, बादल किनारे,
उनकी ही आखों के, हैं ये इशारे!

नजदीकियाँ, दूरियों में हैं समाहित,
समय, काल-खंड, उन्हीं में है प्रवाहित,
ये काल, हर-क्षण, उनसे है प्रकम्पित,
यूँ रोम-रोम, पहले न था स्पंदित!

अन्तर्मन जगी है, मीठी सी चुभन!
कट ही जाएंगे, विछोह के हजार क्षण,
क्यूँ हो मन की पर्वतों पर विचलन?
उस स्पंदन से ही, गुंजित है मन!

(इस पटल पर यह मेरी 1101वीं रचना है।  आप सभी के प्रेम और स्नेह बिना यह संभव नहीं था। आभार सहित स्नेह-नमन)

- पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा
(सर्वाधिकार सुरक्षित)

20 comments:

  1. मुबारक हो।
    यूं ही कविताओं के शतक मारते जाओ।

    आपकी इस रचना में प्रकृति का बेहद सुंदर ढंग से मानवीकरण करके महबूब से तुलना अतुलनीय है।
    चाँद छुपते नही बादल किनारे... उफ्फ ये आंखों के इशारे।
    कमाल कमाल कमाल।

    मेरी नई पोस्ट पर स्वागत है जागृत आँख 

    ReplyDelete
  2. बदलते मौसमों में, हैं उनके ही रंग,
    यूँ ही कुहुकुनी , कुहुकती न अकारण,
    यूँ व्याकुल पंछियाँ, करती न चारण,
    यूँ न कलियाँ, चटकती अकारण
    बहुत सुंदर पुरुषोत्तम जी !!! सारे उपक्रम प्रेम के नाम !!!आपकी लेखनी ने साहित्य सृजन के शिखर अंक को छूटे हुए भी अपनी रचनाधर्मिता के उच्च स्तर को बनाकर रखा है | हार्दिक शुभकामनायें इस शुभ अंक वाली प्यारी सी रचना के लिए |

    ReplyDelete
  3. कृपया छुते हुये पढ़ें। 🙏🙏

    ReplyDelete
  4. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज गुरुवार 07 नवम्बर 2019 को साझा की गई है......... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. 1101 वी रचना के लिए बहुत बहुत बधाई, पुरुषोत्तम भाई। आप इसी तरह शतक लगाते रहे....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने भाई कहा, मन आह्लादित हो उठा। सदा के लिए आप मेरी बहन हो। शुभाशीष शुभकामनाएं

      Delete
  6. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (08-11-2019) को "भागती सी जिन्दगी" (चर्चा अंक- 3513)" पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित हैं….
    -अनीता लागुरी 'अनु'

    ReplyDelete
  7. "...
    स्पन्दित है सारे, आसमान के तारे,
    यूँ ही लहराते न बादल, आँचल पसारे,
    यूँ हीं छुपते न चाँद, बादल किनारे,
    उनकी ही आखों के, हैं ये इशारे!
    ..."

    बहुत खुबसूरत रचना। इसमें कितने सारे शब्द हैं! आप लाजवाब हैं। अब आपसे मिलने की इच्छा जग गई है।
    और हाँ...
    इस उपलब्धि (1101वीं रचना) के लिए बहुत-बहुत बधाई आपको।

    ReplyDelete
  8. अन्तर्मन जगी है, मीठी सी चुभन!
    कट ही जाएंगे, विछोह के हजार क्षण,
    क्यूँ हो मन की पर्वतों पर विचलन?
    उस स्पंदन से ही, गुंजित है मन! बेहद खूबसूरत रचना। वाह
    1101रचनाएं। बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं आदरणीय।💐💐💐💐

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर कविता ! कविता के 11 शतक बनाने पर आपको हार्दिक बधाई!

    ReplyDelete
  10. खूबसूरत कविताओं के साथ इतनी आगे तक आ गए आप इसकी आपको बहुत-बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

चुप हैं दिशाएँ

चुप हैं ये दिशाएँ, कहीं बज रहे हैं साज! धड़कनों नें यूँ, बदले हैं अंदाज! ओढ़े खमोशियाँ, ये कौन गुनगुना रहा है? हँस रही ये वादियाँ, ये...

विगत वर्ष की मेरी कुछ लोकप्रिय रचनाएँ