Saturday, 10 March 2018

पवन बावरी

न जाने पंख कैसे लिए, चली है तू पवन बावरी!

यूं ही किस देश को तू चली?
तू कह दे जरा, क्या है ये माजरा?
है तेरे मन में क्या,
मैं भी तो सुन लूं जरा!
थर्राई है क्यूं पत्तियाँ, तू जो अचानक चली!

बयार मंद सी थी तू भली!
अब अचानक ये उठा कैसा गुबार?
मचला है मन तेरा,
या उठ रहा कोई ज्वार!
मद में यूं बहती हुई, संग तू किसके चली!

सुन! यूं शोर तू ना मचा!
सन सनन-सनन यूं न तू गुनगुना!
गीत कैसा है ये!
रुक जरा तू मुझको सुना!
बहकी सी सुरताल में, बवाल तू ना मचा!

तू तो प्राण का आधार है!
अन्दर तेरे, तुफान सा क्युं मचा?
ये बवंडर सा क्यूं,
ठेस तुझको लगी है क्या?
अशान्त तू है क्यूं, बहकी है क्यूं बावरी?

ऐ री पवन! तू हुई क्यूं बावरी?
ये अचानक तुझको हुआ है क्या?
यूं चातक कोई,
तेरा मन ले उड़ा है क्या?
तू भटक रही है क्यूं, दिशा-दिशा यूं बावरी?

न जाने पंख कैसे लिए, चली है तू पवन बावरी!

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

ब्रम्ह और मानव

सुना है! ब्रम्ह नें, रचकर रचाया ये रचना.... खुद हाथों से अपने, ब्रम्हाण्ड को देकर विस्तार, रचकर रूप कई, गढ़ कर विविध आकार, किया है स...

विगत 30 दिनों में ज्यादा लोकप्रिय रचनाएँ