Saturday, 24 March 2018

कशमकश

न जाने, दर्द का कौन सा शहर है अन्दर,
लिखता हूं गीत, तो आँखें रीत जाती हैं,
कहता हूं गजल, तो आँखें सजल हो जाती हैं...

ये कशमकश का, कौन सा दौर है अन्दर,
देखता हूं तुम्हें, तो आँखे भीग जाती हैं,
सोचता हूं तुम्हें, तो आँखें मचल सी जाती हैं...

इक रेगिस्तान सा है, मेरे मन का शहर,
ये विरानियाँ, इक तुझे ही बुलाती है,
तू मृगमरीचिका सी, बस तृष्णा बढाती है...

ये कशमकश है कैसी, ये कैसा है मंजर,
जो देखू दूर तक, तू ही नजर आती है,
जो छूता हूं तुम्हें, सायों सी फिसल जाती है...

न जाने, अब किन गर्दिशों का है कहर,
पहर दो पहर, यादों में बीत जाती है,
ये तन्हाई मेरी, कोई गजल सी बन जाती है....

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

नींद

कब नींद ढ़ुलकती है, नैनो में कब रात समाता है.... सांझ ढले यूँ पलकों तले, हौले-हौले कोई नैनों को सहलाता है, ढ़लती सी इक राह पर, कोई ह...

विगत 30 दिनों में ज्यादा लोकप्रिय रचनाएँ