Sunday, 7 March 2021

शेष

विशेष थी तुम, ओ दीदी....
अब, शेष हैं, बस बीती बातें, और तेरी यादें!

यूँ तो, विधाता नें, सब कुछ दिया,
पर, पल भर को ही!
सुख तेरा, हँसता मुख तेरा, 
उनसे देखा ना गया,
ले चला, वो असमय छीन कर,
तुझसे पहले, तेरी खुशी,
अवशेष थी, 
बस शेष थी, तुम ओ दीदी....

भले ही, उस पार तुम्हें मिल जाए,
खोया सा, तेरा संसार,
करती भी क्या तुम, झूठ था सब,
नेह का ये व्योपार,
फिर से देता हूँ तुझको विदाई,
अब न गम, छूए तुझे,
जो शेष हैं,
तू हँसती रहे, ओ मेरी दीदी.....

विशेष थी तुम, ओ दीदी....
अब, शेष हैं, बस बीती बातें, और तेरी यादें!

- पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा 
   (सर्वाधिकार सुरक्षित)
...............................................
मेरी बड़ी बहन, स्व. नीलू दीदी (सरिता शरण) को समर्पित ..... निधन तिथि 06.03.2021

30 comments:

  1. बहुत ही दुखद
    आपकी कमी हमेशा दिल को दुखी करेगी ईश्वर नीतू दीदी की आत्मा को शान्ती प्रदान करे🙏

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज रविवार 07 मार्च 2021 को साझा की गई है........."सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद। आभारी हूँ आपका।

      Delete
  3. विशेष थी तुम, ओ दीदी....

    ईश्वर नीतू दीदी की आत्मा को शान्ती प्रदान करे🙏

    ReplyDelete
    Replies
    1. सांत्वना भरे शब्दों हेतु आभारी हूँ।

      Delete
  4. बहुत मार्मिक रचना।
    नमन दीदी को।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सांत्वना भरे शब्दों हेतु आभारी हूँ।

      Delete
  5. ओह ! ईश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें। आप भी धैर्य रखें, परिवार को धीरज बँधाएँ। ओम शांति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सांत्वना भरे शब्दों हेतु आभारी हूँ।

      Delete
  6. Replies
    1. सांत्वना भरे शब्दों हेतु आभारी हूँ।

      Delete
  7. ईश्वर नीलू दीदी की आत्मा को शांति दे और आप सबको दुख सहने की शक्ति दे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सांत्वना भरे शब्दों हेतु आभारी हूँ।

      Delete
  8. मार्मिक रचना। ईश्वर शान्ति प्रदान करे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सांत्वना भरे शब्दों हेतु आभारी हूँ।

      Delete
  9. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार ( 08 -03 -2021 ) को 'आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस है' (चर्चा अंक- 3999) पर भी होगी।आप भी सादर आमंत्रित है।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    ReplyDelete
  10. दुःखद ! विनम्र श्रद्धांजलि ।
    आपकी भावनाएँ अवश्य उन तक पहुँची होंगी ।
    ईश्वर से प्रार्थना है कि आपके समस्त परिवार को धैर्य रखने की शक्ति दे ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सांत्वना भरे शब्दों हेतु आभारी हूँ।

      Delete
    2. आपके शब्दों की भावना जरूर उन तक मेरी बातों को पहुँचाएगी।

      Delete
  11. मार्मिक रचना। नमन

    ReplyDelete
    Replies
    1. सांत्वना भरे शब्दों हेतु आभारी हूँ।

      Delete
  12. नीलू दीदी को बिनम्र श्रद्धांजलि,
    बहुत दुःखद होता है किसी अपने को खोना।
    परमात्मा उन्हें शांति दे ,सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. सांत्वना भरे शब्दों हेतु आभारी हूँ।

      Delete
  13. Replies
    1. सांत्वना भरे शब्दों हेतु आभारी हूँ।

      Delete
  14. दीदी को नमन
    मार्मिक रचना
    मन नम हो गया

    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. सांत्वना भरे शब्दों हेतु आभारी हूँ।

      Delete