Friday, 19 February 2016

आँधियाँ

आँधियाँ ये कैसी चली,
उड़ा ले गया जो आँशियाँ,
टूटकर चमन की शाख से,
डालियाँ बिखरी हुई यहाँ।

पेड़ पत्ते विहीन हुए,
उजड़ा पत्तों का आशियाँ,
बिखरकर मन की बस्ती से,
मानव निस्तेज पड़ा यहाँ।

रोक लो उन आँधियोे को,
नफरतें फैलाती जो यहाँ,
उजाड़कर इन बस्तियों को,
तोड़ते है फिर बागवाँ।

No comments:

Post a Comment

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

स्पर्श....छू कर जरा सा

छू कर, जरा सा... बस, गुजर सी गई थी इक एहसास! थम सा चुका था, ये वक्त, किसी पर्वत सा, जड़! यथावत! गुजरती ही नहीं थी, आँखो से वो तस्वीर...

विगत वर्ष की मेरी कुछ लोकप्रिय रचनाएँ