Friday, 19 February 2016

प्रश्न - क्या लिखूँ?

सोचता हूँ कि आज मैं क्या लिखूँ?

रास्तों के धूल लिखूँ या पत्थरों के फूल लिखूँ,
जिन्दगी के प्रश्न लिखूँ या जिन्दगी को जवाब लिखूँ,
नग्मा ए नज्म लिखूँ या कुरान ए आयत लिखूँ,
तुमसे शिकवा लिखूँ या तुम्हारी शिकायत लिखूँ,
लिखने को कुछ नया आज मिल रहा नही!

सोचता हूँ कि आज मैं क्या लिखूँ?

रात के ख्वाब लिखूँ या दिन के गुलाब लिखूँ,
पत्तियों की सरसराहट लिखूँ या आपकी घबराहट लिखूँ,
चांदनी रात लिखूँ या स्याह अंधेरी रात लिखूँ,
अपने जज्बात लिखूँ या आपके ख्वाब लिखूँ,
लिखने को कुछ नया आज मिल रहा नही!

सोचता हूँ कि आज क्या लिखूँ?

बाग के फूल लिखूँ या गूलाब के कांटें लिखूँ,
पंछियों की चहचहाहट लिखूँ या पाँव की आहट लिखूँ,
सूखते पत्तों पे लिखूँ या खिलते गुलाब पे लिखूँ,
आपकी याद लिखूँ या आपका भूलना लिखूँ,
लिखने को कुछ नया आज मिल रहा नही!

सोचता हूँ कि आज क्या लिखूँ?

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

फासले

यूं मिलिए कभी, गिरह नफ़रतों के खोलकर.... चंद कदमों के है ये फासले, कभी नापिए न! इन दूरियों को चलकर... मिल ही जाएंगे रास्ते, कभी झां...

विगत 30 दिनों में ज्यादा लोकप्रिय रचनाएँ