Tuesday, 23 February 2016

रूठी कविता

लगता है हाथ पकड़ रखा हो किसी ने जैसे,
ताले लगा दिए गए हों जड़ विवेक पर जैसे,
धुंधली सी शाम कुम्हला रही है जैसे,
तन्हाई मे हाथों से दामन छूटा हो जैसे,
कविता मेरी आज रूठ गई है मुझसे जैसे।

वक्त की पावंदियों मे घुट गया हो दम जैसे,
पास रखी हो कलम पर सूखी हो स्याही जैसे,
कुम्हलाई शाम तिलमिला रही हो जैसे,
पहलू मे आकर वो रो पड़ी हो जैसे,
कविता मेरी आज रूठ गई है मुझसे जैसे। 

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

फासले

यूं मिलिए कभी, गिरह नफ़रतों के खोलकर.... चंद कदमों के है ये फासले, कभी नापिए न! इन दूरियों को चलकर... मिल ही जाएंगे रास्ते, कभी झां...

विगत 30 दिनों में ज्यादा लोकप्रिय रचनाएँ