Wednesday, 24 February 2016

वजूद आपका

शायद! इक ख्वाब बन के रहते हो तुम मुझमें ही कहीं।

तुम मुझमें ही खिलती हो इक फूल बनकर कहीं,
वजूद तेरा कहीं और है मुझको पता नहीं,
साया मेरा दिखने लगा है कुछ आप सा ही।

शायद! वो वजूद है आपका जो ढ़ल रहा मुझमें ही कहीं।

तेरा अक्श अब्र सा पिघल रहा मुझमें ही कहीं,
हर शैं खुशबु-ए-हिजाब मे डूबी है आपके ही,
रंगत मेरी दिखने लगी है कुछ आप सी ही।

शायद! आपकी खुश्बु गुजर रही है मुझमें ही कहीं।

"जीवन कलश" जीवन के कुछ लम्हे

अभिलाषा

अलसाई सी पलकों में, उम्मीदें कई लिए, यूँ देखता है रोज, आईना मुझे.... अभिलाषा की, इक नई सूची लिए, रोज ही जगती है सुबह, आशाएँ, चल पड़त...

विगत 30 दिनों में ज्यादा लोकप्रिय रचनाएँ